नेह तुलिका --

06 अक्तूबर 2018   |  रेणु   (94 बार पढ़ा जा चुका है)

नेह तुलिका --

रंग दो मन की कोरी चादर
हरे ,गुलाबी , लाल , सुनहरी
रंग इठलायें जिस पर खिलकर !!

सजे सपने इन्द्रधनुष के -
नीड- नयन से मैं निहारूं
सतरंगी आभा पर इसकी -
तन -मन मैं अपना वारूँ
बहें नैन -जल कोष सहेजे--
मुस्काऊँ नेह -अनंत पलक भर !!

स्नेहिल सन्देश तुम्हारे -
नित शब्दों में तुमसे मिल लूं -
यादों के गलियारे भटकूँ -
फिर से बीते हर पल जी लूं ;
डूबूं आकंठ उन घड़ियों में -
दुनिया की हर सुध बिसराकर

अनंत मधु मिठास रचो तुम
आहत मन की आस रचो तुम
रचो प्रीत उत्सव कान्हा बन -
जीवन का मधुमास रचो तुम
खिलो कंवल बन मानसरोवर
सजो अधर चिर हास तुम बनकर !!!!!!!!!
चित्र -- पञ्च लिंकों से साभार --
==============================================

नेह तुलिका --

अगला लेख: उलझन -- लघु कविता



कामिनी सिन्हा
09 अक्तूबर 2018

फिर से बीते हर पल जी लू,डूबू आकंठ उन घडियो में ,दुनिया की हर सुध बिसरा कर ,बहुत खूब ,बीते हुए पल की यादे बहुत मधुर है ,स्नेह

रेणु
11 अक्तूबर 2018

प्रिय बहन कामिनी -- आपको रचना पसंद आई बहुत खुश हूँ | यूँ ही कभी कभी कुछ लिख लेती हूँ |सस्नेह आभार |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 सितम्बर 2018
वो
क्या दोष था मेरा बस मैं एक लडकी थी अपना बोझ हल्का करने का जिसे बालविवाह की बलि चढा दिया मैं लिख पढकर समाज का दस्तूर मिटा एक नई राह बनाना चाहती थी मजबूर, बेवश,मंडप की वेदी पर बिठा दिया दुगुनी उम्र के वर से सात फेरे पडवा दिए वक्त की मार बिन बुलाए चली आई छीट की चुनरिया के सब रंग धुल गए कल की शुभ लक्ष
25 सितम्बर 2018
02 अक्तूबर 2018
सदा सहज हो जीवन दाता कटुटा ना अपनाऊँ मानवता हित सदा समर्पित का जीवनदर्शन अपनाऊँ । जिस हित बना बना राष्ट्र यह उस हित बलि बलिदान सदा अपने को पाऊँ नाथ मालिक ईश है सृष्टा उसकी मर्जी पर चल पाऊँ नारी सम्मान सतत् जीवन माता का जीवन भारी भार ऋण से सदा
02 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
कौन सुने अब व्यथा हमारी, आज अकेली कलम हमारी,जो थी कभी पहचान हमारी, आज अकेली कलम हमारी।हाथों के स्पर्श मात्र से, पढ़ लेती थी हृदय की बाते,नैनों के कोरे पन्नों को, बतलाती थी मेरी यादें।कभी साथ जो देती थी, तम में, गम में, शरद शीत में,आज वही अनजान खड़ी है, इंतजार के मधुर प्रीत में।अभी शांत हू, व्याकुल भ
13 अक्तूबर 2018
09 अक्तूबर 2018
आज देर रात तक तेरे गुड नाईट के इंतजार में जागता रहा,मूंदी नम आंखो से मोबाइल की स्क्रीन को ताकता रहा।ये कहकर कि सो गया होगा तू मनाया मैने मेरे मन को,मन मुझसे दूर और मैं मन से दूर सारी रात भागता रहा।कोई खता अगर हुयी हो तो बता देता मुझको मेरे दोस्त,मैं रात भर चाँद से तुझको मनाने की भीख माँगता रहा।लडते
09 अक्तूबर 2018
10 अक्तूबर 2018
खु
खुद में खोकर खुद को पाना काम ज़रा सा भारी हैं जिन नज़रो में देखी है हमनेसूरत अपनी वह नज़र तुम्हारी हैसारे ग़मो को हर देती है जो पल मेंकुछ ऐसी मुस्कान तुम्हारी है आँख मेरी लगने ही नहीं देती यादे तेरीक्या मेरी नींद भी अब तुम्हारी हैतुझको ही सोचू और तुझको ही
10 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x