अनुभूति

11 अक्तूबर 2018   |  sweta sinha   (28 बार पढ़ा जा चुका है)

अनुभूति  - शब्द (shabd.in)

माँ का ध्यान हृदय सदा शान्ति सुधा बरसाती मलयानिल श्वासों में घुल हिया सुरभित कर जाती मौन मगन दैदीप्त पुंज मन भाव विह्वल खो जाता प्लावित भावुक धारा का अस्तित्व विलय हो जाता आतपत्र आशीष वलय रक्षित जीवन शूल,प्रलय वरद-हस्त आशंकाओं से शुद्ध आत्मा मुक्त निलय आँचल छाँह वात्सल्यमयी भय-दुःख, मद-मोह, मुक्त अनुभूति,निर्मल निष्काम शुभ्र पलछिन रसयुक्त चक्षु दिव्य तुम ज्ञान गूढ़ का जीवन पथ माँ भूल-भूलैय्या लहर-लहर में भँवर जाल भव सागर पार करा दे नैय्या यश दिगंत न विश्वविजय माँँ गोद मात्र वात्सल्य अटूट जग बंधन से करो मुक्त अब पी अकुलाये जी कालकूट -श्वेता सिन्हा

अगला लेख: तुम खुश हो तो अच्छा है



अभिलाषा चौहान
11 अक्तूबर 2018

बहुत ही बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना बहुत बहुत शानदार

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x