हृदय दान

30 अक्तूबर 2018   |  अजय अमिताभ सुमन   (94 बार पढ़ा जा चुका है)



हृदय दान पर बड़े हल्के फुल्के अन्दाज में लिखी गयी ये हास्य कविता है।

यहाँ पर एक कायर व्यक्ति अपने हृदय का दान करने से डरता है

और वो बड़े हस्यदपक तरीके से अपने हृदय दान नहीं करने की वजह बताता है।



हृदय दान के पक्ष में नेता,बाँट रहे थे ज्ञान।

बता रहे थे पुनीत कार्य ये, ईश्वर का वरदान।


ईश्वर का वरदान , लगा के हृदय तुम्हारा।

मरणासन्न को मिल जाता है जीवन प्यारा।


तुम्ही कहो इस पुण्य काम मे है क्या खोना?

हृदय तुम्हारा पुण्य प्राप्त तुमको ही होना।


हृदय दान निश्चय ही होगा कर्म महान।

मैने कहा क्षमा किंचित पर करें प्रदान।


क्षमा करें श्रीमान ,लगा कर हृदय हमारा।

यदि बूढ़े नेे किसी युवती पे लाईन मारा ।


तुम्ही कहो क्या उस बुढ़े का कुछ बिगड़ेगा?

हृदय हमारा पाप कर्म सब मुझे फलेगा।



अजय अमिताभ सुमन:सर्वाधिकार सुरक्षित

अगला लेख: कालिदास और कालीभक्त



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अक्तूबर 2018
M
येमी टू ले आया रज़ामंदी दोगलापन बीमार ज़ेहन मंज़र-ए-आम पे !वो मर्द मासूम कैसे होगा छीनता हक़ कुचलता रूह दफ़्नकर ज़मीर !क्यों इश्क़ रोमांस बदनाम मी टू सैलाब लाया है लगाम ज़बरदस्ती को "न"न मानो सामान औरत को रूह से रूह करो महसूस है ज़ाती दिलचस्पी। है चढ़ी सभ्यता दो सीढ़ियाँ दिल ह
29 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
जो कर न सके कोई वो काम कर जाएगा,ये वकील दुनिया में नाम कर जाएगा।फेकेगा दाना , फैलाएगा जाल,सोचे कि करे कैसे मुर्गे हलाल।आये समझ में ना , शकुनी को जो भी,चाल शतरंजी तमाम चल जायेगा .ये वकील दुनिया में नाम कर जायेगा।चक्कर कटवाएगा धंधे के नाम पे,सालो लगवाएगा महीनों के काम पे।ना
25 अक्तूबर 2018
29 अक्तूबर 2018
पति: अर्ज़ किया है कि जग घूमिया थारे जैसा ना कोई जग घूमिया थारे जैसा ना कोई!पत्नी: घर की साफ सफाई में हाथ बटाओ वरना दिमाग घूमिया तो म्हारे जैसा ना कोई!आमतौर पर लड़कियों की शादी में हर चीज़ उनकी पसंद की दिलवाई जाती है!सिवाये दूल्हे के!जब आधार कार्ड इतना इम्पोर्टेन्ट है, हर जगह लगता है तो, अपनी मनपसंद की
29 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
आज दिल्ली में गर्मी आपने उफान पे थी। अपनी गाड़ी की सर्विस कराने के लिए मै ओखला सर्विस सेंटर गया था। गाड़ी छोड़ने के बाद वहां से लौटने के लिए ऑटो रिक्शा ढूंढने लगा। थोड़ी ही देर में एक ऑटो रिक्शा वाला मिल गया। मैंने उसे बदरपुर चलने को कहा। उसने कहा ठीक है साब कितना दे दो
16 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
बोतल को खोलकर, शाम उसमे घोलकर,करने लगा पुरानी यादो की जुगालियाँभजन अनूप के, ग़ज़ल जगजीत की, सबको मिलाकर मैनें गाई भी कव्वालियाँयाद आई शादी, अपनी बरबादी तो मुझे,आज तक के सभी किस्सें याद आ गयें सपना था शादी कर बन जाउंगा मैं राजा,करता हूँ आजकल बीवी की हम्मालियाँलेकर बारात जब पहुँचा ससुर द्वारे, सारे
23 अक्तूबर 2018
11 नवम्बर 2018
मा
काश चिड़िया चहचहाती, मेरे आँगन मेंज़िन्दगी फिर मुस्कुराती,मेरे आँगन में ब्याह दी बिटिया सयानी, रच गई घर-बार मेबेटे की वो ही कहानी, हैं बहू के प्यार मेझान्झने कब झन झनझनाती, मेरे आँगन में अख़बार के प़न्ने पलटते, दिन मे वो, सौं स
11 नवम्बर 2018
31 अक्तूबर 2018
तुम इतनी देर तक घूरते रह अँधेरे को कि तुम्हारी पुतलियों का रंग काला हो गया किताबों को ओढ़ा इस तरह कि शरीर कागज़ हो गया कहते रहे मौत आये तो इस तरह जैसे पानी को आती है वो बदल जाता है भांप में आती है पेड़ को तो दरवाज़ा बन जाता है जैसे आती है आग को वह राख बन जाती है तुम गाय का थन बन जाना दूध बनक
31 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x