"मुक्तक"

06 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (75 बार पढ़ा जा चुका है)

रूप चौदस/छोटी दीपावली की सभी को हार्दिक बधाई एवं मंगल शुभकामना


"मुक्तक"


जलाते दीप हैं मिलकर भगाने के लिए तामस।

बनाते बातियाँ हम सब जलाने के लिए तामस।

सजाते दीप मालिका दिखाने के लिए ताकत-

मगर अंधेर छुप जाती जिलाने के लिए तामस।।-1


विजय आसान कब होती खुली तलवार चलती है।

फिजाओं की तपिश लेकर गली तकरार पलती है।

सुहानी रात की खातिर दिवस बरबाद होता है-

भली यह दीप-मालिका कली अनुसार खिलती है।।-2


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गीतिका" याद कर सब पुकार करते हैं जान कर कह दुलार करते है



महातम मिश्रा
10 नवम्बर 2018

हार्दिक धन्यवाद बहन, आज मेल देखा , पंच पर्व की बहुत बहुत बधाई पूरे परिवार को, शुभाशीष बहना

रेणु
07 नवम्बर 2018

आदरणीय भैया | -- मुक्तक बहुत ही प्यारा है हमेशा की तरह आपकी मौलिक पहचान लिए | आपको दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनायें स्वीकार हों | सपरिवार सकुशल रहें मेरी यही कामना हैं | आपको मेल भी किया था पर शायद आप मेल देखते नही | सादर प्रणाम |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अक्तूबर 2018
"कुंडलिया" होता है दुख देखकर, क्योंकर बँधे परिंद।पिजड़े के आगोश में, करो प्यार मत बिंद।।करो प्यार मत बिंद, हिंद की जय जय बोलो।दुखता इनका स्नेह, बंद दरवाजा खोलो।।कह गौतम कविराय, खेत क्यूँ बावड़ बोता।बहुत मुलायम घास, काश प्रिय पंछी होता।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
25 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
हा
पावन पर्व करवा चौथ पर आप सभी को हार्दिक बधाई,चाँद ने दर्शन दिया, नमन"हाइकु"शुभ सिंदूरसाजन मगरूरनैनो का नूर।।-1टीका लिलारसिंदूर व सुहागबिंदिया चटकार।।-2नैन काजलसिंदूर व साजनकरवा चौथ।।-3होठ की लालीसुंदर घरवालीआयी दीवाली।।-4धानी चूनरओढ़ सखी हूनरसजा सिंदूर।।-5महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
27 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
"
”लघु कथा" "खुले गगन में मैना" उड़ रही थी एक मैना निर्भीक होकर खुले गगन में। मगन थी, अपने विश्वास से परिपूर्ण होकर अपने पंख फड़फड़ाये जा रही थी। बे-खबर थी, उन शिकारी परिंदों की ललचायी आँखों से जो अपनी उड़ान तभी भरते हैं जब कोई नयी मैना आकाश से मंत्रमुग्ध होकर अपने हौसलों को हवा में उछाल कर अपने कोमल पंख
28 अक्तूबर 2018
30 अक्तूबर 2018
वज़्न - 221 2121 1221 212 अर्कान - मफ़ऊलु-फ़ाइलातु-मफ़ाईलु-फ़ाइलुन बह्र - बह्रे मुज़ारे मुसम्मन अख़रब मक्फूफ़ मक्फूफ़ महज़ूफ़ काफ़िया - घटाओं (ओं स्वर) रदीफ़ - में खो गया"गज़ल" जब चाँद का फलक गुनाहों में खो गयातब रात का चलन घटाओं में खो गयाजज्बात को कभी मंजिलें किधर मिलतीहमसफर जो था वह विवादों में खो
30 अक्तूबर 2018
26 अक्तूबर 2018
"
"मुक्तक"सत्य समर्पित है सदा, लेकर मानक मान।जगह कहाँ कोई बची, जहाँ नहीं गुणगान।झूठा भी चलता रहा, पाकर अपनी राह-झूठ-मूठ का सत्य कब, पाता है बहुमान।।-1सही अर्थ में देख लें, लाल रंग का खैर।झूठ सगा होता नहीं, और सगा नहीं गैर।सत्य कभी होती नहीं, आपस की तकरार-झूठ कान को भर गया, खूँट बढ़ा गया बैर।।-2महातम मि
26 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x