"पिरामिड"

15 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

"पिरामिड"


क्या

हुआ

सहारा

बेसहारा

भूख का मारा

लालायित आँख

निकलता पसीना।।-1


हाँ

चोर

सिपाही

सहायता

पक्ष- विपक्ष

अपना करम

बेरहम मलम।।-2


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: "मुक्तक"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 नवम्बर 2018
"
"छंद मुक्त गीतात्मक काव्य"जी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लूताल तलैया झील विहारकिस्मत का है घर परिवारसाजन से रूठा संवादआतंक अत्याचार व्यविचारहंस ढो रहा अपना भारकैसा- कैसा जग व्यवहारजी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लू।।सूखी खेती डूबे बा
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"कुंडलिया"अच्छे लगते तुम सनम यथा कागजी फूल।रूप-रंग गुलमुहर सा, डाली भी अनुकूल।।डाली भी अनुकूल, शूल कलियाँ क्यों देते।बना-बनाकर गुच्छ, भेंट क्योंकर कर लेते।।कह गौतम कविराय, हक़ीकत के तुम कच्चे।हो जाते गुमराह, देखकर कागज अच्छे।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
22 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
"
छंद - चामर, शिल्प विधान- र ज र ज र, मापनी - 212 121 212 121 212 वाचिक मापनी - 21 21 21 21 21 21 21 2 "चामर छंद"राम- राम बोलिए जुबान मीठ पाइकै।गीत- मीत गाइए सुराज देश लाइकै।।संग- संग नाव के सवार बैठ जाइए।आर- पार सामने किनार देख आइए।।द्वंद बंद हों सभी बहार बाग छाइयै।फूल औ कली हँसें मुखार बिंदु पाइयै।
03 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x