जीवन और परम्परा

16 नवम्बर 2018   |  उदय पूना   (27 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन और परम्परा


परम्परा होती है परम्परा, जीवन नहीं;

परम्परा होती है जीवन केलिए, परम्परा केलिए जीवन नहीं;


जीवन प्रथम है परम्परा नहीं;

जो परम्परा जीवन विरोधी हो जाए उसको कभी मानना नहीं;

समय में पीछे झांक कर देखें,

परम्परा न बदले, ऐसा युग अभी तक आया नहीं;


नियम-क़ानून और जीवन में इसी तरह की प्राथमिकता का अंतर है;

सामूहिक जीवन की सुविधा केलिए नियम-क़ानून बनाये जाते हैं;

सामूहिक जीवन प्रथम है, नियम-क़ानून नहीं;


यदि उनके कारण सामूहिक जीवन में असुविधा होने लगे;

वांछनीय उद्देश्य प्राप्ति में अड़चन होने लगे;

तो नियम-क़ानून को बदल देते हैं, सामूहिक जीवन को नहीं;


उदय पूना

अगला लेख: निज भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 नवम्बर 2018
हर एक काम निपुणता से करता हूँ,फिर क्यूं सबकी आँखों को खलता हूँ,गाँव -गाँव शिक्षा की अलख जगाता हूँ,नित प्रति बच्चों को सबक सिखाता हूँ गर्व मुझे कि मैं प्राइमरी का मास्टर कहलाता हूँ।।सबको स्वाभिमान से रहना सिखलाता हूँ,सबको हर एक अच्छी बात बताता हूँ प्रतिदिन मेन्यू से एम.डी.एम बनवाता हूँ,खुद चखकर तब बच
19 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
क्
* क्या यह समझदारी है * ? ? ?हर समय समझदारी का बोझ लिये रहना (गंभीर बने रहना), क्या समझदारी है;हर बार समझदारी दिखलाते रहना, क्या समझदारी है। ???कुछ कुछ गलती करते रहना (सीखते रहना), भी समझदारी है;कभी कभी समझदारी न दिखलान
20 नवम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
मै
मैं कट्टर नहीं हूं स्वयं को भारतीय कहना, मानव कहना कट्टरता नहीं है; अपनी जड़ों से जुड़े रहना; जो समूचे विश्व को एक माने, एक कुटम्ब माने, ऐसी जड़ों से जुड़े रहना कट्टरता नहीं है।
18 नवम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
शीर्षक - उल्टा सीधा प्रस्तुत है उल्टा पर सीधा करके। जीवन में पूरी पूरी स्वतंत्रता है;जीवन में पूरी पूरी छूट है।हम स्वयं की ऐसी तैसी करते रहें; स्वयं की ऐसी की तैसी करते रहें;स्वयं की पूरी दुर्दशा करते रहें;इसकी भी पूरी पूरी छूट है;हम इसका उल्टा भी कर सकते हैं, यहां इ
18 नवम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
नि
विशेष : आओ हिंदी भाषा को लेकर कुछ चर्चा करें, हिंदी की सेवा करें।** निज भाषा ** (1) - ( प्रस्तावना )मैं हि
28 नवम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
गु
" गुस्सा -- Balance Sheet दर्पण "हम गुस्सा, करते रहते हैं;और गुस्सा करने को, उचित भी ठहराते रहते हैं;और साथ साथ, यह भी, मानते रहते हैं;कि गुस्सा देता, सिर्फ घाटा;. . . सिर्फ हानी;और होते, कितने नुकसान हैं। .. . इस उलझन को, हम देखते हैं।।1।।.. .जब जब हमारा काम हो जाता है, गुस्सा करने से;सफलता मिल जात
23 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
गु
" गुस्सा -- Balance Sheet दर्पण " हम गुस्सा, करते रहते हैं;और गुस्सा करने को, उचित भी ठहराते रहते हैं;और साथ साथ, यह भी, मानते रहते हैं;कि गुस्सा देता, सिर्फ घाटा; . . . सिर्फ हानी;और होते, कितने नुकसान हैं। . . . इस उलझन को, हम देखते हैं।।1।।. . . जब जब हमारा काम हो जाता है, गुस्सा करने से;स
22 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
कविताएक दर्शनविजय कुमार तिवारीप्रीति को लग गया है पंख,देख तेरा सुन्दर,सुकोमल,कमनीय छंद। खुल रहे लाख बंध,अन्तर में जल गया,दीपक प्यार भरा। प्रकटन की वेला में,उड़ चली मादक गंध,मन की इस चादर पर,फैल रहा सम्मोहन,मदहोश हवा,विकल प्राण,एक स्वप्न-मधुर मिलन। भिन्न-भिन्न एक हुए,उपजी सुरम्य कान्ति,डोल रही जीवन म
15 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x