मैं कट्टर नहीं हूं

18 नवम्बर 2018   |  उदय पूना   (24 बार पढ़ा जा चुका है)

मैं कट्टर नहीं हूं


स्वयं को भारतीय कहना, मानव कहना कट्टरता नहीं है;

अपनी जड़ों से जुड़े रहना;

जो समूचे विश्व को एक माने, एक कुटम्ब माने, ऐसी जड़ों से जुड़े रहना कट्टरता नहीं है


सबको अपना समझना;

स्वयं को सबका समझना;

सबको - हर किसीको, स्वीकार करना;

सबको साथ लेकर चलना;

विविधता को वांछनीय मानना, स्वीकार करना कट्टरता नहीं है


यदि हमने कट्टरता नहीं पहचानी, तो हमारी अयोग्यता अवश्य है;

यदि हमने कट्टरता की प्रवृत्ति को नहीं दबाया;

यदि हम उससे न निपटें, न निपट सकें तो हमारी कायरता अवश्य है


क्या हम मूढ़ हैं ? फिर क्यों मूढ़ता करते हैं ?

भेद कर सकते हैं, कट्टरता की, आतंकवाद की पहचान कर सकते हैं, फिर क्यों नहीं करते हैं ?

मानवता केलिए है जो सबसे बड़ा खतरा, उसकी काट क्यों नहीं करते हैं ?

इसको मिटाने केलिए एक जुट क्यों नहीं हुआ करते हैं;

क्या हम मूर्ख हैं ? क्या हम पागल हैं ?

इस तरह से सोचना, इस पर विचार करना और अपनी गलती को सुधारना कट्टरता नहीं है


विश्व में मानवता बनी रहे, इसके लिए कार्य करना;

और अमानवीय शक्तियों को हराना, घटाना;

मानवता सत्ता में रहे, और अमानवीयता सत्ता से बाहर रहे, इसके लिए कार्य करना कट्टरता नहीं है


हमारे अंदर कट्टरता और आतंकवाद नहीं है;

हमारे जीवन में, जीवन मूल्यों में, सिद्धांतों और आधार में इनके लिए कोई स्थान नहीं है;

जो विचार धारा, जो सिद्धांत, जो जीवन शैली कट्टरता समर्थक है, और मानवता विरोधी है ;

उसका विरोध करना, अमानवीयता के विरुद्ध प्रतिरोध बढ़ाना कट्टरता नहीं है


स्वयं को भारतीय कहना, मानव कहना कट्टरता नहीं है


भारत मां के विरुद्ध बाहर से आक्रमण, अंदर से हो रहे आक्रमण;

न देख पाना, देख कर अनदेखा कर देना;

जीवन की सबसे बड़ी चूक अवश्य है, जीवन का सब से बड़ा अपराध अवश्य है

स्वयं की शक्ति बढ़ाना, रक्षा करना प्रथम आवश्यकता है;

इस केलिए जागरूक रहना, कार्य करना कट्टरता नहीं है, आतंकवाद नहीं है


जब ईश्वर को मानते हैं, जब मानते हैं ईश्वर ने दुनिया बनाई है;

फिर पूरी दुनिया को अपना क्यों मानते नहीं


दुनिया को एक ही रंग में रंगने केलिए पागलपन क्यों पालते हैं;

जब ना ना प्रकार के रंग ईश्वर ने दुनिया में भरे हैं;

फिर विविधता क्यों स्वीकारते नहीं


प्रत्येक का जीवन जीवन है, समूचा विश्व प्रत्येक का है;

प्रत्येक को अपने ढंग से जीने का अधिकार है


जो सिद्धांत सबके लिए नहीं, जिससे सबका भला नहीं;

जिसे में सबके हित, और बराबरी की स्वीकृति नहीं;

जिसमें प्रत्येक केलिए अच्छे से जीवन जीने की स्वीकृति नहीं;

प्रत्येक को अपने ढंग से, अपने निज ढंग से जीने का अधिकार नहीं;

इस तरह की किसी बात को बिलकुल मानना नहीं

उनको समाज का, जीवन जीने का आधार बनाना नहीं;

इस तरह के सिद्धांत आदि का विरोध करना कट्टरता नहीं, आतंकवाद नहीं


स्वयं को भारतीय कहने में, मानव कहने में किसी भी प्रकार की कट्टरता नहीं;

स्वयं की रक्षा करने में, स्वयं की रक्षा के उपाय करने में किसी भी प्रकार का आतंकवाद नहीं


उदय पूना


अगला लेख: निज भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 नवम्बर 2018
जी
जीवन जीना आता ही नहीं हम को जीना आता ही नहीं; हम को जीना आता ही नहीं ; हम को जीना आता ही नहीं। कहीं पहुंच जाने के चक्कर में रहते हैं;जीवन यात्रा का आनंद जाना ही नहीं। और, और, और अधिक चाहते रहते हैं;नया पकड़ने केलिए, मुट्ठी ढ़ीली करना आता ही नहीं। दूसरों को जिम्मेदार ठहरता रहता है;बदलना तो स्वयं को है,
23 नवम्बर 2018
16 नवम्बर 2018
जी
जीवन और परम्परा परम्परा होती है परम्परा, जीवन नहीं; परम्परा होती है जीवन केलिए, परम्परा केलिए जीवन नहीं; जीवन प्रथम है परम्परा नहीं; जो परम्परा जीवन विरोधी हो जाए उसको कभी मानना नहीं; समय में पीछे झांक
16 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
Hindi poem - koshish karne walon ki लहरों से डर कर नौका पार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं होतीनन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती हैचढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती हैमन का विश्वास रगों में साहस भरता हैचढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता हैआख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं
20 नवम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
गु
" गुस्सा -- Balance Sheet दर्पण "हम गुस्सा, करते रहते हैं;और गुस्सा करने को, उचित भी ठहराते रहते हैं;और साथ साथ, यह भी, मानते रहते हैं;कि गुस्सा देता, सिर्फ घाटा;. . . सिर्फ हानी;और होते, कितने नुकसान हैं। .. . इस उलझन को, हम देखते हैं।।1।।.. .जब जब हमारा काम हो जाता है, गुस्सा करने से;सफलता मिल जात
23 नवम्बर 2018
25 नवम्बर 2018
मै
*गहराई की छिपी वर्जनाओं के स्वर*( "स्वयं पर स्वयं" से )मैं भटकता रहामैं भटकता रहा; समय, यूं ही निकलता रहा;मैं भटकता रहा। उथला जीवन जीता रहा;तंग हाथ किये, जीवन जीता रहा।न किसी को, दिल खोल कर अपना सका;न किसी का, खुला दिल स्वीकार कर सका;न आपस की, दूरी मिटा सका;न सब कुछ दे सक
25 नवम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
शीर्षक - उल्टा सीधा प्रस्तुत है उल्टा पर सीधा करके। जीवन में पूरी पूरी स्वतंत्रता है;जीवन में पूरी पूरी छूट है।हम स्वयं की ऐसी तैसी करते रहें; स्वयं की ऐसी की तैसी करते रहें;स्वयं की पूरी दुर्दशा करते रहें;इसकी भी पूरी पूरी छूट है;हम इसका उल्टा भी कर सकते हैं, यहां इ
18 नवम्बर 2018
16 नवम्बर 2018
प्
((( बच्चों केलिए, जो दिल और दिमाग से बच्चे हैं उनके लिए, जिन्होंने स्वयं के अंदर स्वयं का बचपन जीवित रखा है ))) *प्रकृति और हम*प्रकृति का साथ देने का वादा करें;हम सब मिलकर, प्रकृति का साथ देने का वादा करें। सब में ऊर्जा भरने को, सूरज नित काम करता;हमारे जीवन हेतु,
16 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
** यह मेरा जीवन कितना मेरा है ? ** यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, वो किस का है? वो किस किस का है? हम में से प्रत्येक यह प्रश्न, इस तरह के प्रश्न स्वयं से कर सकता है। यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, मैं उसको मेरा कहता हूं, समझता हूं। पर यह मेरा जीवन कितना मेरा है? हम कह
20 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x