यह मेरा जीवन कितना मेरा है ?

20 नवम्बर 2018   |  उदय पूना   (100 बार पढ़ा जा चुका है)

** यह मेरा जीवन कितना मेरा है ? **


यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, वो किस का है? वो किस किस का है? हम में से प्रत्येक यह प्रश्न, इस तरह के प्रश्न स्वयं से कर सकता है। यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, मैं उसको मेरा कहता हूं, समझता हूं। पर

यह मेरा जीवन कितना मेरा है?


हम कहते तो हैं कि यह मेरा जीवन है;

कौन नहीं कहता यह मेरा जीवन है;

पर यह जीवन, जो हम जी रहे हैं, कितना मेरा है?


हम इस पर चर्चा करते हैं, और हम इस सम्बन्ध में समझेंगे, और जानेगे। ... ... ... .....


यह मेरा जीवन कितना मेरा है?

हम कहते तो हैं कि यह मेरा जीवन मेरा है। .. ... हम इससे जुड़े कुछ पहलुओं को देखते हैं, समझते हैं. .. ... ...


यह मेरा शरीर है;

यह मेरा मकान है; आदि आदि में शब्द "मेरा" का कुछ औचित्य है, हो सकता है, हम यह मान लेते हैं।


पर,

जीवन एक एक का नहीं होता;

जीवन एक एक का अलग अलग नहीं होता;

प्रत्येक का जीवन अलग अलग या प्रथक प्रथक नहीं होता;

जीवन तेरा मेरा अलग अलग नहीं होता।


जीवन सामूहिक है;

जीवन साझा है;

हमारा जीवन अलग अलग नहीं है।


जीवन सृष्टि का हिस्सा है;

जीवन सृष्टि का हिस्सा है;

सृष्टि के साथ एक होकर जीने से ही जीवन जीवन होता है;

फिर, यह मेरा जीवन कितना मेरा है।


यह मेरा जीवन कितना मेरा है?

हम कहते तो हैं कि यह मेरा जीवन मेरा है। .. ... हम इससे जुड़े पहलुओं को देखते हैं, समझते हैं. .. ... ...


प्रकृति की कृपा से मेरा जीवन है;

प्रकृति की कृपा से मेरा जीवन चलता है;

धूप, हवा, पानी, भोजन आदि प्रकृति से ही मिलता है;

फिर, यह मेरा जीवन कितना मेरा है।


कितने जीवों की मृत्यु से मेरा जीवन चलता है;

कितने जीवों की मृत्यु से भोजन मिलता है;

कितने जीवों के सहयोग, योगदान, सहायता से मेरा जीवन चलता है;

फिर, यह मेरा जीवन कितना मेरा है।


हम आपस में जुड़े हैं, परस्पर निर्भर है;

इसी जोड़ से, इसी निर्भरता से, मेरा जीवन है;

यह मेरा जीवन सृष्टि का हिस्सा है;

फिर, यह मेरा जीवन कितना मेरा है।


यह मेरा जीवन कितना मेरा है?

हम कहते तो हैं कि यह मेरा जीवन मेरा है। .. ... हम नें कुछ चर्चा कर ली है। अब एक और पहलू को लेकर, हम देखते हैं, समझते हैं. .. ... ...


कहना तो है यह मेरा जीवन है;

पर हम स्वयं को कितना जानते हैं, पहचानते हैं;

स्वयं को कितना समय देते हैं, स्वयं के साथ कितना रहते हैं;

स्वयं की स्थिति को कितना अच्छा करते हैं;

स्वयं कितने अच्छे से जीवन जीते हैं;

स्वयं के जीवन का, स्वयं का कितना सम्मान करते हैं;

कितने समय सुख, शान्ति, उल्लास, हर्ष, प्रसन्नता, ऊर्जा और होश के साथ होते हैं;

यह मेरा जीवन कितना मेरा है।


स्वयं कहते तो हैं कि यह मेरा जीवन है;

पर इस केलिए हम ऐसा क्या करते हैं;

इस केलिए जो सबसे अच्छा है क्या वो करते हैं;

क्या वैसा ध्यान रखते हैं, जैसा रख सकते हैं;

जो इस के लिए आवश्यक है क्या वो करते हैं;

फिर, यह मेरा जीवन कितना मेरा है।


हम विचार करें, प्रत्येक चिंतन करे, और देखें। ... ..... ......


मैं बाहर बाहर ही रहता हूं;

कितना समय, ऊर्जा दूसरों पर देता हूं;

कितना ध्यान दूसरों पर, अन्य पर देता हूं;

क्या बाहर और दूसरों में उलझे रहना ही मेरा जीवन है?

मुझे स्वयं की, निज की कितनी सुध है?

फिर भी कहना तो वही है - यह मेरा जीवन है;

फिर, यह मेरा जीवन कितना मेरा है??


उदय पूना













अगला लेख: निज भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 नवम्बर 2018
कवि एक ऐसा व्यक्ति होता है जो कल्पनाओं में ही इंसान को चांद पर ले जा सकता है और वहां की ताकत ये खुद ही बता सकता है। ऐसी कई कविताओं में वे पूरे ब्राह्मांण को जमीन पर उतार सकते हैं। कविताओं में बहुत ताकत होती है और जिस कवि की कविता दिल को छू जाती है उन्हें हमें और लोगों
16 नवम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
जी
जीवन यात्रा कदम कदम, जिन्दगी बढ़ती रहती, आगे की ओर;बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापे की ओर।. . . . जवानी से बुढ़ापे की ओर।। जीवन में आते हैं, कुछ ऐसे क्षण;शादी, सेवनिवृत्ती हैं, कुछ ऐसे ही क्षण। जब बदल जाती है जिंदगी, एकदम से;. . . . एकदम से;सिर्फ एक कदम च
04 दिसम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
दो
- = + = दोराहा - = + =हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;भटकन से भरा, स्थायित्व से भरा होता है दोराहा। जिसे जो राह चलन
28 नवम्बर 2018
02 दिसम्बर 2018
भूमिका : हम देखते हैं, पाते हैं कि अलग अलग व्यक्ति अलग अलग ढ़ंग से, अपने अपने ढ़ंग से ही जीवन जी रहे हैं। बहुत मौटे तौर पर, हम इसको 3 श्रेणी में रख सकते हैं या 3 संभावनाओं के रूप में देख सकते हैं। हरेक के जीवन में हर प्रकार के क्षण आते हैं, उतार चढ़ाव आते हैं, पर कुल मि
02 दिसम्बर 2018
24 नवम्बर 2018
क्
क्या चाहिए जीवन केलिए जीवन सुन्दर है, जीवन आंनद है, प्रत्येक व्यक्ति केलिए;पर हम, स्वयं की कैद में रहते हैं, घुट घुटकर मरने केलिए। जो कमाई करते रहते हैं, केवल पेट पालने केलिए;वो भर पेट भोजन क्यों त्यागते, केवल कमाई करने केलिए। न जाने क्या क्या जुटाते रहते हैं, बाद में
24 नवम्बर 2018
25 नवम्बर 2018
।। भक्ति-गान।। जय महावीर स्वामी जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।नित तेरे दर्शन पाऊं, और तेरी कृपा पाऊं स्वामी;सामने भी आओ स्वामी, कृपा की वर्षा करो स्वामी;जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।नित तेरा नाम जपूं, तेरे मार्ग
25 नवम्बर 2018
16 नवम्बर 2018
कविता को हमेशा इंसान को जीना चाहिए और उनसे कुछ ना कुछ सीखना चाहिए। यहां पर मैंने जो कविता लिखी है वो उनके लिए है जो दिल और दिमाग से पूरे बच्चे हैं।, जिन्होंने स्वयं के अंदर स्वयं का बचपन जीवित रखा है। अपने आपको इन कविता से जोड़कर देखिए
16 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x