महादेवी वर्मा की 11 प्रसिद्ध कवितायेँ - Mahadevi verma poems in hindi

21 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (359 बार पढ़ा जा चुका है)

महादेवी वर्मा की 11 प्रसिद्ध कवितायेँ - Mahadevi verma poems in hindi

महादेवी वर्मा हिंदी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से एक है |शचीरानी गुर्टू ने भी महादेवी वर्मा की कविता (Mahadevi verma poems) को सुसज्जित भाषा का अनुपम उदाहरण माना हैकवि निराला ने उन्हें “हिन्दी के विशाल मन्दिर की सरस्वती” भी कहा है | महादेवी वर्मा हिंदी साहित्य के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तम्भों में से एक है | यह है महादेवी वर्मा की 11 प्रसिद्ध कवितायेँ -


महादेवी वर्मा की 11 प्रसिद्ध कवितायेँ - Mahadevi verma poems in hindi


अधिकार

वे मुस्काते फूल, नहीं

जिनको आता है मुर्झाना,

वे तारों के दीप, नहीं

जिनको भाता है बुझ जाना;

वे नीलम के मेघ, नहीं

जिनको है घुल जाने की चाह

वह अनन्त रितुराज,नहीं

जिसने देखी जाने की राह|

वे सूने से नयन,नहीं

जिनमें बनते आँसू मोती,

वह प्राणों की सेज,नही

जिसमें बेसुध पीड़ा सोती;

ऐसा तेरा लोक, वेदना

नहीं,नहीं जिसमें अवसाद,

जलना जाना नहीं, नहीं

जिसने जाना मिटने का स्वाद!

क्या अमरों का लोक मिलेगा

तेरी करुणा का उपहार?

रहने दो हे देव! अरे

यह मेरा मिटने का अधिकार!


तितली से

मेह बरसने वाला है

मेरी खिड़की में आ जा तितली।

बाहर जब पर होंगे गीले,

धुल जाएँगे रंग सजीले,

झड़ जाएगा फूल, न तुझको

बचा सकेगा छोटी तितली,

खिड़की में तू आ जा तितली!

नन्हे तुझे पकड़ पाएगा,

डिब्बी में रख ले जाएगा,

फिर किताब में चिपकाएगा

मर जाएगी तब तू तितली,

खिड़की में तू छिप जा तितली।



मिटने का अधिकार

वे मुस्काते फूल, नहीं

जिनको आता है मुरझाना,

वे तारों के दीप, नहीं

जिनको भाता है बुझ जाना

वे सूने से नयन,नहीं

जिनमें बनते आँसू मोती,

वह प्राणों की सेज,नही

जिसमें बेसुध पीड़ा, सोती

वे नीलम के मेघ, नहीं

जिनको है घुल जाने की चाह

वह अनन्त रितुराज,नहीं

जिसने देखी जाने की राह

ऎसा तेरा लोक, वेदना

नहीं,नहीं जिसमें अवसाद,

जलना जाना नहीं, नहीं

जिसने जाना मिटने का स्वाद!

क्या अमरों का लोक मिलेगा

तेरी करुणा का उपहार

रहने दो हे देव! अरे

यह मेरे मिटने क अधिकार!

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल!

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल!

युग-युग प्रतिदिन प्रतिक्षण प्रतिपल

प्रियतम का पथ आलोकित कर!

सौरभ फैला विपुल धूप बन

मृदुल मोम-सा घुल रे, मृदु-तन!

दे प्रकाश का सिन्धु अपरिमित,

तेरे जीवन का अणु गल-गल

पुलक-पुलक मेरे दीपक जल!

तारे शीतल कोमल नूतन

माँग रहे तुझसे ज्वाला कण;

विश्व-शलभ सिर धुन कहता मैं

हाय, न जल पाया तुझमें मिल!

सिहर-सिहर मेरे दीपक जल!

जलते नभ में देख असंख्यक

स्नेह-हीन नित कितने दीपक

जलमय सागर का उर जलता;

विद्युत ले घिरता है बादल!

विहँस-विहँस मेरे दीपक जल!

द्रुम के अंग हरित कोमलतम

ज्वाला को करते हृदयंगम

वसुधा के जड़ अन्तर में भी

बन्दी है तापों की हलचल;

बिखर-बिखर मेरे दीपक जल!

मेरे निस्वासों से द्रुततर,

सुभग न तू बुझने का भय कर।

मैं अंचल की ओट किये हूँ!

अपनी मृदु पलकों से चंचल

सहज-सहज मेरे दीपक जल!

सीमा ही लघुता का बन्धन

है अनादि तू मत घड़ियाँ गिन

मैं दृग के अक्षय कोषों से-

तुझमें भरती हूँ आँसू-जल!

सहज-सहज मेरे दीपक जल!

तुम असीम तेरा प्रकाश चिर

खेलेंगे नव खेल निरन्तर,

तम के अणु-अणु में विद्युत-सा

अमिट चित्र अंकित करता चल,

सरल-सरल मेरे दीपक जल!

तू जल-जल जितना होता क्षय;

यह समीप आता छलनामय;

मधुर मिलन में मिट जाना तू

उसकी उज्जवल स्मित में घुल खिल!

मदिर-मदिर मेरे दीपक जल!

प्रियतम का पथ आलोकित कर!


जाने किस जीवन की सुधि ले

जाने किस जीवन की सुधि ले

लहराती आती मधु-बयार!

रंजित कर ले यह शिथिल चरण, ले नव अशोक का अरुण राग,

मेरे मण्डन को आज मधुर, ला रजनीगन्धा का पराग;

यूथी की मीलित कलियों से

अलि, दे मेरी कबरी सँवार।

पाटल के सुरभित रंगों से रँग दे हिम-सा उज्जवल दुकूल,

गूँथ दे रशमा में अलि-गुंजन से पूरित झरते बकुल-फूल;

रजनी से अंजन माँग सजनि,

दे मेरे अलसित नयन सार !

तारक-लोचन से सींच सींच नभ करता रज को विरज आज,

बरसाता पथ में हरसिंगार केशर से चर्चित सुमन-लाज;

कंटकित रसालों पर उठता

है पागल पिक मुझको पुकार!

लहराती आती मधु-बयार !!


बया हमारी चिड़िया रानी

बया हमारी चिड़िया रानी!

तिनके लाकर महल बनाती,

ऊँची डाली पर लटकाती,

खेतों से फिर दाना लाती,

नदियों से भर लाती पानी।

तुझको दूर न जाने देंगे,

दानों से आँगन भर देंगे,

और हौज़ में भर देंगे हम-

मीठा-मीठा ठंडा पानी।

फिर अंडे सेयेगी तू जब,

निकलेंगे नन्हे बच्चे तब,

हम आकर बारी-बारी से

कर लेंगे उनकी निगरानी।

फिर जब उनके पर निकलेंगे,

उड़ जाएँगे बया बनेंगे,

हम तब तेरे पास रहेंगे,

तू मत रोना चिड़िया रानी

जीवन दीप

किन उपकरणों का दीपक,

किसका जलता है तेल?

किसकी वर्त्ति, कौन करता

इसका ज्वाला से मेल?

शून्य काल के पुलिनों पर-

जाकर चुपके से मौन,

इसे बहा जाता लहरों में

वह रहस्यमय कौन?

कुहरे सा धुँधला भविष्य है,

है अतीत तम घोर ;

कौन बता देगा जाता यह

किस असीम की ओर?

पावस की निशि में जुगनू का-

ज्यों आलोक-प्रसार।

इस आभा में लगता तम का

और गहन विस्तार।

इन उत्ताल तरंगों पर सह-

झंझा के आघात,

जलना ही रहस्य है बुझना –

है नैसर्गिक बात !


क्या पूजन क्या अर्चन रे!

क्या पूजन क्या अर्चन रे!

उस असीम का सुंदर मंदिर मेरा लघुतम जीवन रे!

मेरी श्वासें करती रहतीं नित प्रिय का अभिनंदन रे!

पद रज को धोने उमड़े आते लोचन में जल कण रे!

अक्षत पुलकित रोम मधुर मेरी पीड़ा का चंदन रे!

स्नेह भरा जलता है झिलमिल मेरा यह दीपक मन रे!

मेरे दृग के तारक में नव उत्पल का उन्मीलन रे!

धूप बने उड़ते जाते हैं प्रतिपल मेरे स्पंदन रे!

प्रिय प्रिय जपते अधर ताल देता पलकों का नर्तन रे!


ठाकुर जी भोले हैं

ठंडे पानी से नहलातीं,

ठंडा चंदन इन्हें लगातीं,

इनका भोग हमें दे जातीं,

फिर भी कभी नहीं बोले हैं।

माँ के ठाकुर जी भोले हैं।

उर तिमिरमय घर तिमिरमय

उर तिमिरमय घर तिमिरमय

चल सजनि दीपक बार ले!

राह में रो रो गये हैं

रात और विहान तेरे

काँच से टूटे पड़े यह

स्वप्न, भूलें, मान तेरे;

फूलप्रिय पथ शूलमय

पलकें बिछा सुकुमार ले!

तृषित जीवन में घिर घन-

बन; उड़े जो श्वास उर से;

पलक-सीपी में हुए मुक्ता

सुकोमल और बरसे;

मिट रहे नित धूलि में

तू गूँथ इनका हार ले !

मिलन वेला में अलस तू

सो गयी कुछ जाग कर जब,

फिर गया वह, स्वप्न में

मुस्कान अपनी आँक कर तब।

आ रही प्रतिध्वनि वही फिर

नींद का उपहार ले !

चल सजनि दीपक बार ले !


मैं नीर भरी दुःख की बदली

मैं नीर भरी दुःख की बदली,

स्पंदन में चिर निस्पंद बसा,

क्रंदन में आहत विश्व हँसा,

नयनो में दीपक से जलते,

पलकों में निर्झनी मचली !

मैं नीर भरी दुःख की बदली !

मेरा पग पग संगीत भरा,

श्वांसों में स्वप्न पराग झरा,

नभ के नव रंग बुनते दुकूल,

छाया में मलय बयार पली !

मैं नीर भरी दुःख की बदली !

मैं क्षितिज भृकुटी पर घिर धूमिल,

चिंता का भर बनी अविरल,

रज कण पर जल कण हो बरसी,

नव जीवन अंकुर बन निकली !

मैं नीर भरी दुःख की बदली !

पथ न मलिन करते आना

पद चिन्ह न दे जाते आना

सुधि मेरे आगम की जग में

सुख की सिहरन हो अंत खिली !

मैं नीर भरी दुःख की बदली !

विस्तृत नभ का कोई कोना

मेरा न कभी अपना होना

परिचय इतना इतिहास यही

उमटी कल थी मिट आज चली !

मैं नीर भरी दुःख की बदली !



महादेवी वर्मा की अन्य कविताओं को यहाँ पढ़े ......

पूछता क्यों शेष कितनी रात?
मैं नीर भरी दु:ख की बदली!


महादेवी वर्मा की 11 प्रसिद्ध कवितायेँ - Mahadevi verma poems in hindi

महादेवी वर्मा की 11 प्रसिद्ध कवितायेँ - Mahadevi verma poems in hindi

अगला लेख: भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा- कुमार विश्वास



अति उत्तम संग्रह

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 नवम्बर 2018
आजकल बॉलीवुड में स्टार किड्स की बहार छायी हुई हैं। बहुत सारे स्टार किड्स पर्दे पर अपने दमदार डेब्यू के लिए तैयार है। सैफ की लाडली सारा अली खान अपनी दो फिल्मों के साथ पर्दे पर धमाल मचाने के लिए तैयार हैं। आपको बता दें पहले इस बात को लेकर कन्फ्यूजन थी की सारा की पहली फिल्म केदारनाथ होगी या फिर सिंबा,
21 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
सलमान खान की फिल्म रेस 3 में फ़िल्माया गया गाना “अल्लाह दुहाई है” से भारतीय फैंस के दिलों में जगह बनाने वाले ब्रिटिश सिंगर ज़ायन मलिक एक बार फिर सुर्ख़ियों में आ गए हैं। दरअसल मंगलवार शाम को ज़ायन ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अल्लाह दुहाई है का कवर सॉन्ग शेयर किया और शेयर करते ही इस कवर वीडियो को 2.
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
भारत में जब भी अगर बात चुनाव की आती है तो यहाँ हर कोई इस चुनावी माहौल को गर्माने में लग जाता है और फिर चाहे वो पार्टियाँ या आमजान।सरकार 'पॉपुलर' घोषणाएं करने लगती है, नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करने लगते हैं, जिससे सोशल मीडिया पर बहस नए रूप ले लेती है।जो कि चुनावमयी माहौल का ही एक हिस्सा है।
21 नवम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
"
"सोशल मीडिया पर साहित्य- लाभ या हानि" "हानि लाभ जीवन मरन जस अपजस बिधि हाथ", बाबा तुलसी दास जी ने कुछ भी नहीं छोड़ा, हर विषय पर कटु सत्य को उजागर कर गए। काश उस समय सोशल मीडिया होता तो हमें अपने मन से कुछ भी लिखने की जरूरत न पड़ती और हम कट, पेष्ट या गूगल सर्च करके उन्हीं के विचार छाप देते और सम्मानित हो
18 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasउनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलतीहमको ही खासकर नहीं मिलती शायरी को नज़र नहीं मिलतीमुझको तू ही अगर नहीं मिलती रूह मे, दिल में, जिस्म में, दुनियाढूंढता हूँ मगर
22 नवम्बर 2018
11 नवम्बर 2018
C
!! Use your common sense to know the truth!!हमे पढाया गया...👇👇“रघुपति राघव राजाराम,ईश्वर अल्लाह तेरो नाम”लेकिन असल मे ऋषियों ने लिखा था की....👇👇 “रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम”लोगों को समझना चाहिए कि,जब ये बोल लिखा गया था,तब ईस्लाम का अस्तित्व ही नहीं था,“
11 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
डॉ.कुमार विश्वास “कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है”कुमार विश्वास का जन्म 10 फ़रवरी 1970 को पिलखुआ (ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश) में हुआ था। चार भाईयों और एक बहन में सबसे छोटे कुमार विश्वास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा लाला गंगा सहाय स्कूल, पिलखुआ में प्राप्त की। उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा आर एस
22 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
Hindi poem - koshish karne walon ki लहरों से डर कर नौका पार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं होतीनन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती हैचढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती हैमन का विश्वास रगों में साहस भरता हैचढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता हैआख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं
20 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwas बांसुरी चली आओ तुम अगर नहीं आई गीत गा न पाऊँगासाँस साथ छोडेगी, सुर सजा न पाऊँगातान भावना की है शब्द-शब्द दर्पण हैबाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण हैतुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी हैतीर पार कान्हा से दूर राधिका-सी हैरात की उदासी को याद संग खेला है कुछ गलत ना कर बैठें मन ब
22 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
किसी ने सच ही कहा है काबिल बनो कामयाबी तो झक मार के पीछे आएगी। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी से रूबरू करने जा रहे हैं जिसने अपनी प्रतिभा से वो मुकाम हासिल किया जिसका ख़्वाब न जाने कितनी ही आँखों ने देखा होगा और ये साबित किया कि प्रतिभा ना उम्र देखती है ना जाति और ना ही अमीरी-गरीबी का फर्क जानती है। ये
20 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x