मैं भटकता रहा

22 नवम्बर 2018   |  उदय पूना   (34 बार पढ़ा जा चुका है)

*गहराई की छिपी वर्जनाओं के स्वर*
( "स्वयं पर स्वयं" से )


मैं भटकता रहा


मैं भटकता रहा;
समय, यूं ही निकलता रहा;

मैं भटकता रहा।


उथला जीवन जीता रहा;
तंग हाथ किये, जीवन जीता रहा।


न किसी को, दिल खोल कर अपना सका;
न किसी का, खुला दिल स्वीकार कर सका;
न आपस की, दूरी मिटा सका;
न सब कुछ दे सका, न सब कुछ ले सका;


अच्छा सम्बन्ध तो बहुत चाहा;
पर कीमत चुकाने से, बचता रहा, डरता रहा;
स्वयं को मिटा देने से बचता रहा, डरता रहा।।

मैं भटकता रहा;
समय, यूं ही निकलता रहा;

मैं भटकता रहा।

उदय जैन, पूना
9284737432,

.............................

*गहराई छिपे स्वर*
( "स्वयं पर स्वयं" से )


मैं भटकता रहा;
समय, यूं ही निकलता रहा;

मैं भटकता रहा।


न खुल कर, जीवन में कुछ कर सका;
न खुल कर, जीवन जी सका;
न खुल कर, जीवन से भाग सका;


विद्रोह, करना तो बहुत चाहा;
पर कीमत चुकाने से, बचता रहा, डरता रहा;
स्वयं को मिटा देने से बचता रहा, डरता रहा;


मैं भटकता रहा;
समय, यूं ही निकलता रहा;

मैं भटकता रहा।


उदय जैन, पूना
9284737432

. . , , * * , , ..


यह किस्सा है मेरे जीवन का;
जानता हूं, यही किस्सा है अनेकों का;

हम इतना तो जानलें कि मैं स्वयं को जानता नहीं;
मैं स्वयं से जुड़ा नहीं;
मैं वास्तविकता से जुड़ा नहीं;
क्या करना है जानता नहीं;

मैं कुछा भी करता रहा;
मेरे जीवन में कुछ भी होता रहा;

मैं भटकता रहा;
समय, यूं ही निकलता रहा;

Uday Poona


अगला लेख: निज भाषा



Tushar Thakur
14 दिसम्बर 2018

Thanks For Posting such an amazing article, i really love to read your Post
regulearly on this community of shabd.


Also Visit :bharatstatus &
Read Also: WhatsApp Funny jokes
Read Also:attitude status in hindi

रेणु
26 नवम्बर 2018

आदरनीय सर -- प्रणाम मैं खुद आप जैसे अनुभवी साहित्य साधकों से सीखती रहती हूँ | आप स्वयम बहुत विद्वान और कुशल कलमकार हैं | मेरी शुभकामनाये स्वीकार हों नमन

रेणु
25 नवम्बर 2018

आदरणीय सर -- अतीत की गलतियों पर पछताते मन की विकल भावनाओं को बहुत सुंदर अभिव्यक्ति दी है आपने | सचमुच समय निकल जाता है और हम योजनाये बनाकर उस पर अम्ल ना करते हुए समय बिता देते हैं | सादर बधाई और शुभकामनायें |

उदय चंद्र जैन
25 नवम्बर 2018

प्रिय रेणु - यहां आपका स्वागत है, मुझे आपसे बहुत सीखना है, आपके शब्दों से मुझे प्रोत्साहन मिला, यहां आपका फिर से स्वागत है,

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 नवम्बर 2018
हर एक काम निपुणता से करता हूँ,फिर क्यूं सबकी आँखों को खलता हूँ,गाँव -गाँव शिक्षा की अलख जगाता हूँ,नित प्रति बच्चों को सबक सिखाता हूँ गर्व मुझे कि मैं प्राइमरी का मास्टर कहलाता हूँ।।सबको स्वाभिमान से रहना सिखलाता हूँ,सबको हर एक अच्छी बात बताता हूँ प्रतिदिन मेन्यू से एम.डी.एम बनवाता हूँ,खुद चखकर तब बच
19 नवम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
नि
विशेष : आओ हिंदी भाषा को लेकर कुछ चर्चा करें, हिंदी की सेवा करें।** निज भाषा ** (1) - ( प्रस्तावना )मैं हि
28 नवम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
जी
जीवन यात्रा कदम कदम, जिन्दगी बढ़ती रहती, आगे की ओर;बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापे की ओर।. . . . जवानी से बुढ़ापे की ओर।। जीवन में आते हैं, कुछ ऐसे क्षण;शादी, सेवनिवृत्ती हैं, कुछ ऐसे ही क्षण। जब बदल जाती है जिंदगी, एकदम से;. . . . एकदम से;सिर्फ एक कदम च
04 दिसम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
Hindi poem - koshish karne walon ki लहरों से डर कर नौका पार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं होतीनन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती हैचढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती हैमन का विश्वास रगों में साहस भरता हैचढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता हैआख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं
20 नवम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
शीर्षक - उल्टा सीधा प्रस्तुत है उल्टा पर सीधा करके। जीवन में पूरी पूरी स्वतंत्रता है;जीवन में पूरी पूरी छूट है।हम स्वयं की ऐसी तैसी करते रहें; स्वयं की ऐसी की तैसी करते रहें;स्वयं की पूरी दुर्दशा करते रहें;इसकी भी पूरी पूरी छूट है;हम इसका उल्टा भी कर सकते हैं, यहां इ
18 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
वि
विपरीत के विपरीत कुछ-कुछ लोग कुछ-कुछ शब्दों को भूल गए, बिसर गए;हमारे पास शब्द हैं, उपयुक्त शब्द हैं, पर कमजोर शब्द पर आ गए। कुछ-कुछ शब्दों के अर्थ भी भूल गए, बिसर गए;और गलत उपयोग शुरू हो गए;मैं भी इन कुछ-कुछ लोगों में हूं, हम जागरूकता से क्यों दूर हो गए।।अनिवार्य है,इस विपरीत धारा के विपरीत जाना;भाष
05 दिसम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
गु
" गुस्सा -- Balance Sheet दर्पण "हम गुस्सा, करते रहते हैं;और गुस्सा करने को, उचित भी ठहराते रहते हैं;और साथ साथ, यह भी, मानते रहते हैं;कि गुस्सा देता, सिर्फ घाटा;. . . सिर्फ हानी;और होते, कितने नुकसान हैं। .. . इस उलझन को, हम देखते हैं।।1।।.. .जब जब हमारा काम हो जाता है, गुस्सा करने से;सफलता मिल जात
23 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
कविताएक दर्शनविजय कुमार तिवारीप्रीति को लग गया है पंख,देख तेरा सुन्दर,सुकोमल,कमनीय छंद। खुल रहे लाख बंध,अन्तर में जल गया,दीपक प्यार भरा। प्रकटन की वेला में,उड़ चली मादक गंध,मन की इस चादर पर,फैल रहा सम्मोहन,मदहोश हवा,विकल प्राण,एक स्वप्न-मधुर मिलन। भिन्न-भिन्न एक हुए,उपजी सुरम्य कान्ति,डोल रही जीवन म
15 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x