"छंद मुक्त गीतात्मक काव्य" जी करता है जाकर जी लू बोल सखी क्या यह विष पी लू

22 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (98 बार पढ़ा जा चुका है)

"छंद मुक्त गीतात्मक काव्य"


जी करता है जाकर जी लू

बोल सखी क्या यह विष पी लू

होठ गुलाबी अपना सी लू

ताल तलैया झील विहार

किस्मत का है घर परिवार

साजन से रूठा संवाद

आतंक अत्याचार व्यविचार

हंस ढो रहा अपना भार

कैसा- कैसा जग व्यवहार

जी करता है जाकर जी लू

बोल सखी क्या यह विष पी लू

होठ गुलाबी अपना सी लू।।


सूखी खेती डूबे बाँध

झील बन गई जीवन साध

सड़क पकड़ती जब रफ्तार

हो जाता जीवन दुश्वार

मंदिर मस्जिद गुरुद्वारे पर

सौभाग्य विकल पालक करतार

कहाँ- कहाँ नैवेद्य चढाऊँ

किसकी गाऊँ किस दर जाऊँ

सुघर गाल पर राख मलू री

बोल सखी क्या यह विष पी लू

जी करता है जाकर जी लू

होठ गुलाबी अपना सी लू।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: छंद पंचचामर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 नवम्बर 2018
"
आधार छंद - सरसी (अर्द्ध सम मात्रिक) शिल्प विधान सरसी छंद- चौपाई + दोहे का सम चरण मिलकर बनता है। मात्रिक भार- 16, 11 = 27 चौपाई के आरम्भ में द्विकल+त्रिकल +त्रिकल वर्जित है। अंत में गुरु /वाचिक अनिवार्य। दोहे के सम चरणान्त में 21 अनिवार्य है"गीत" लहराती फसलें खेतों की, झूमें गाँव किसानबरगद पीपल खलिहा
22 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
"
शीर्षक- जीवन, मरण ,मोक्ष ,अटल और सत्य"मुक्त काव्य" जीवन शरण जीवन मरणहै अटल सच दिनकर किरणमाया भरम तारक मरणवन घूमता स्वर्णिम हिरणमातु सीता का हरणक्या देख पाया राम नेजिसके लिए जीवन लियादर-बदर नित भ्रमणन कियाचोला बदलता रह गयाक्या रोक पाया चाँद नेउस चाँदनी का पथ छरणऋतु साथ आती पतझड़ीफिर शाख पर किसकी कड़ी
05 दिसम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
"
वज़्न--212 212 212 212 अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— लुभाते (आते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे"गज़ल"छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहेझूठ के सामने सच छुपाते रहे जान लेते हक़ीकत अगर वक्त कीसच कहुँ रूठ जाते ऋतु रिझाते रहे।।ये सहज तो न था खेलना आग सेप्यास को आब जी भर प
04 दिसम्बर 2018
14 नवम्बर 2018
"
छठ मैया की अर्चना आस्था, श्रद्धा, अर्घ्य और विश्वास का अर्चन पर्व है, इस पर्व का महात्म्य अनुपम है, इसमें उगते व डूबते हुए सूर्य की जल में खड़े रहकर पूजा की जाती है और प्रकृति प्रदत्त उपलब्ध फल-फूल व नाना प्रकार के पकवान का महाप्रसाद (नैवेद्य) छठ मैया को अर्पण कर प्रसाद का दान किया जाता है ऐसे महिमा
14 नवम्बर 2018
30 नवम्बर 2018
"
"मुक्तक" हार-जीत के द्वंद में, लड़ते मनुज अनेक।किसे मिली जयमाल यह, सबने खोया नेक।बर्छी भाला फेंक दो, विषधर हुई उड़ान-पीड़ा सतत सता रहीं, छोड़ो युद्ध विवेक।।-1हार-जीत किसको फली, ऊसर हुई जमीन।युग बीता विश्वास का, साथी हुआ मशीन।बटन सटन दुख दर्द को, लगा न देना हाथ-यंत्र- यंत्र में तार है, जुड़ते जान नगीन।।-2
30 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
"
"पिरामिड"क्याहुआसहाराबेसहाराभूख का मारालालायित आँखनिकलता पसीना।।-1हाँचोरसिपाहीसहायतापक्ष- विपक्षअपना करमबेरहम मलम।।-2महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
15 नवम्बर 2018
10 नवम्बर 2018
"
"क्षणिका"सब के सब देख रहे थेलगी हुई थी आग जलता हुआ रावण दर्शनार्थी अस्त ब्यस्तट्रेन की डरावनी चिंघाड़दौड़ती हुई उतावली रफ्तारधुँआँ उड़ा आँखों के सामनेशायद ही कोई देख रहा था।।-1जमीन से जुड़े है हममाटी दीया, अनेक प्रकारअंधकार से लड़ती दीवाली लोग खरीद रहे हैं बेंच रहे हैचहल-पहल, मंहगाई व व्यवस्थाप्रकाश पटाख
10 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"कुंडलिया"अच्छे लगते तुम सनम यथा कागजी फूल।रूप-रंग गुलमुहर सा, डाली भी अनुकूल।।डाली भी अनुकूल, शूल कलियाँ क्यों देते।बना-बनाकर गुच्छ, भेंट क्योंकर कर लेते।।कह गौतम कविराय, हक़ीकत के तुम कच्चे।हो जाते गुमराह, देखकर कागज अच्छे।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
22 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x