रामधारी सिंह “दिनकर”-कलम, आज उनकी जय बोल

23 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

रामधारी सिंह “दिनकर”-कलम, आज उनकी जय बोल - शब्द (shabd.in)

Ramdhari Singh Dinkar - Hindi poem

कलम, आज उनकी जय बोल – रामधारी सिंह “दिनकर”

जला अस्थियाँ बारी-बारी

चिटकाई जिनमें चिंगारी,

जो चढ़ गये पुण्यवेदी पर

लिए बिना गर्दन का मोल

कलम, आज उनकी जय बोल।

जो अगणित लघु दीप हमारे

तूफानों में एक किनारे,

जल-जलाकर बुझ गए किसी दिन

माँगा नहीं स्नेह मुँह खोल

कलम, आज उनकी जय बोल।

पीकर जिनकी लाल शिखाएँ

उगल रही सौ लपट दिशाएं,

जिनके सिंहनाद से सहमी

धरती रही अभी तक डोल

कलम, आज उनकी जय बोल।

अंधा चकाचौंध का मारा

क्या जाने इतिहास बेचारा,

साखी हैं उनकी महिमा के

सूर्य चन्द्र भूगोल खगोल

कलम, आज उनकी जय बोल।


अगला लेख: भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा- कुमार विश्वास



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 नवम्बर 2018
Hindi poem - koshish karne walon ki लहरों से डर कर नौका पार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं होतीनन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती हैचढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती हैमन का विश्वास रगों में साहस भरता हैचढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता हैआख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं
20 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
डॉ.कुमार विश्वास “कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है”कुमार विश्वास का जन्म 10 फ़रवरी 1970 को पिलखुआ (ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश) में हुआ था। चार भाईयों और एक बहन में सबसे छोटे कुमार विश्वास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा लाला गंगा सहाय स्कूल, पिलखुआ में प्राप्त की। उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा आर एस
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाहमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामाअभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत कामैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामाकभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामाकोई ख़्वाबों में आकर बस लिया द
22 नवम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
Ramdhari Singh Dinkar - Hindi poem हो कहाँ अग्निधर्मा नवीन ऋषियों – रामधारी सिंह “दिनकर”कहता हूँ¸ ओ मखमल–भोगियो।श्रवण खोलो¸रूक सुनो¸ विकल यह नादकहां से आता है।है आग लगी या कहीं लुटेरे लूट रहे?वह कौन दूर पर गांवों में चिल्लाता है?जनता की छाती भिदेंऔर तुम नींद करो¸अपने भर तो यह जुल्म नहीं होने दूँगा।त
23 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
#MeeToo ने बॉलीवुड की दुनिया में इन दिनों तहलका मचा रखा है।आये दिन बॉलीवुड हस्तियों से जुड़े तमाम खुलासे सामने आ रहे हैं, ऐसा माना गया है कि बॉलीवुड और विवाद हमेशा से ही एक दुसरे के पूरक रहे हैं। इस जगमगाती दुनिया में आये दिन नए-नए खुलासे और विवाद सामने आते रहते हैं। लेकिन, इस वक्त इस जगमगाती दुनिया
21 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
डॉ.कुमार विश्वास “कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है”कुमार विश्वास का जन्म 10 फ़रवरी 1970 को पिलखुआ (ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश) में हुआ था। चार भाईयों और एक बहन में सबसे छोटे कुमार विश्वास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा लाला गंगा सहाय स्कूल, पिलखुआ में प्राप्त की। उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा आर एस
22 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
फैज़ अहमद फैज़ (Faiz Ahmad Faiz) उर्दू भाषा के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक थे। फैज़ की शायरी (Shayri) को न केवल उर्दू बल्कि हिंदी (Hindi) भाषी लोग भी बहुत पसंद करते है| गर मुझे इस का यक़ीं हो मेरे हमदम मेरे दोस्त, फैज़ अहमद फैज़ की सर्वा
20 नवम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
Ramdhari Singh Dinkar - Hindi poem हो कहाँ अग्निधर्मा नवीन ऋषियों – रामधारी सिंह “दिनकर”कहता हूँ¸ ओ मखमल–भोगियो।श्रवण खोलो¸रूक सुनो¸ विकल यह नादकहां से आता है।है आग लगी या कहीं लुटेरे लूट रहे?वह कौन दूर पर गांवों में चिल्लाता है?जनता की छाती भिदेंऔर तुम नींद करो¸अपने भर तो यह जुल्म नहीं होने दूँगा।त
23 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
इतिहास की बात की जाये तो पूरे देश के इतिहास को यदि तराजू के एक तरफ रख दें और केवल मेवाड़ के ही इतिहास को दूसरी ओर रख दें, तो भी मेवाड़ का पलड़ा हमेशा भारी ही रहेगा | कभी गुलामी स्वीकार न करने वाले शूरवीर महाराणा प्रताप ने इतने संघर्षों के बाद अकबर को मेवाड़ से खदेड़ने पर मजबूर कर दिया था |न जाने मेव
21 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
कविताएक दर्शनविजय कुमार तिवारीप्रीति को लग गया है पंख,देख तेरा सुन्दर,सुकोमल,कमनीय छंद। खुल रहे लाख बंध,अन्तर में जल गया,दीपक प्यार भरा। प्रकटन की वेला में,उड़ चली मादक गंध,मन की इस चादर पर,फैल रहा सम्मोहन,मदहोश हवा,विकल प्राण,एक स्वप्न-मधुर मिलन। भिन्न-भिन्न एक हुए,उपजी सुरम्य कान्ति,डोल रही जीवन म
15 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाहमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामाअभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत कामैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामाकभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामाकोई ख़्वाबों में आकर बस लिया द
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
आजकल बॉलीवुड में स्टार किड्स की बहार छायी हुई हैं। बहुत सारे स्टार किड्स पर्दे पर अपने दमदार डेब्यू के लिए तैयार है। सैफ की लाडली सारा अली खान अपनी दो फिल्मों के साथ पर्दे पर धमाल मचाने के लिए तैयार हैं। आपको बता दें पहले इस बात को लेकर कन्फ्यूजन थी की सारा की पहली फिल्म केदारनाथ होगी या फिर सिंबा,
21 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
सलमान खान की फिल्म रेस 3 में फ़िल्माया गया गाना “अल्लाह दुहाई है” से भारतीय फैंस के दिलों में जगह बनाने वाले ब्रिटिश सिंगर ज़ायन मलिक एक बार फिर सुर्ख़ियों में आ गए हैं। दरअसल मंगलवार शाम को ज़ायन ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अल्लाह दुहाई है का कवर सॉन्ग शेयर किया और शेयर करते ही इस कवर वीडियो को 2.
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
भारत में जब भी अगर बात चुनाव की आती है तो यहाँ हर कोई इस चुनावी माहौल को गर्माने में लग जाता है और फिर चाहे वो पार्टियाँ या आमजान।सरकार 'पॉपुलर' घोषणाएं करने लगती है, नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करने लगते हैं, जिससे सोशल मीडिया पर बहस नए रूप ले लेती है।जो कि चुनावमयी माहौल का ही एक हिस्सा है।
21 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x