रामधारी सिंह “दिनकर”- बालिका से वधू

23 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (60 बार पढ़ा जा चुका है)

रामधारी सिंह “दिनकर”- बालिका से वधू

Ramdhari Singh Dinkar - Hindi poem

बालिका से वधू – रामधारी सिंह “दिनकर”

माथे में सेंदूर पर छोटी

दो बिंदी चमचम-सी,

पपनी पर आँसू की बूँदें

मोती-सी, शबनम-सी।

लदी हुई कलियों में मादक

टहनी एक नरम-सी,

यौवन की विनती-सी भोली,

गुमसुम खड़ी शरम-सी।

पीला चीर, कोर में जिसके

चकमक गोटा-जाली,

चली पिया के गांव उमर के

सोलह फूलों वाली।

पी चुपके आनंद, उदासी

भरे सजल चितवन में,

आँसू में भींगी माया

चुपचाप खड़ी आंगन में।

आँखों में दे आँख हेरती

हैं उसको जब सखियाँ,

मुस्की आ जाती मुख पर,

हँस देती रोती अँखियाँ।

पर, समेट लेती शरमाकर

बिखरी-सी मुस्कान,

मिट्टी उकसाने लगती है

अपराधिनी-समान।

भींग रहा मीठी उमंग से

दिल का कोना-कोना,

भीतर-भीतर हँसी देख लो,

बाहर-बाहर रोना।

तू वह, जो झुरमुट पर आयी

हँसती कनक-कली-सी,

तू वह, जो फूटी शराब की

निर्झरिणी पतली-सी।

तू वह, रचकर जिसे प्रकृति

ने अपना किया सिंगार,

तू वह जो धूसर में आयी

सुबज रंग की धार।

मां की ढीठ दुलार! पिता की

ओ लजवंती भोली,

ले जायेगी हिय की मणि को

अभी पिया की डोली।

कहो, कौन होगी इस घर की

तब शीतल उजियारी?

किसे देख हँस-हँस कर

फूलेगी सरसों की क्यारी?

वृक्ष रीझ कर किसे करेंगे

पहला फल अर्पण-सा?

झुकते किसको देख पोखरा

चमकेगा दर्पण-सा?

किसके बाल ओज भर देंगे

खुलकर मंद पवन में?

पड़ जायेगी जान देखकर

किसको चंद्र-किरन में?

महँ-महँ कर मंजरी गले से

मिल किसको चूमेगी?

कौन खेत में खड़ी फ़सल

की देवी-सी झूमेगी?

बनी फिरेगी कौन बोलती

प्रतिमा हरियाली की?

कौन रूह होगी इस धरती

फल-फूलों वाली की?

हँसकर हृदय पहन लेता जब

कठिन प्रेम-ज़ंजीर,

खुलकर तब बजते न सुहागिन,

पाँवों के मंजीर।

घड़ी गिनी जाती तब निशिदिन

उँगली की पोरों पर,

प्रिय की याद झूलती है

साँसों के हिंडोरों पर।

पलती है दिल का रस पीकर

सबसे प्यारी पीर,

बनती है बिगड़ती रहती

पुतली में तस्वीर।

पड़ जाता चस्का जब मोहक

प्रेम-सुधा पीने का,

सारा स्वाद बदल जाता है

दुनिया में जीने का।

मंगलमय हो पंथ सुहागिन,

यह मेरा वरदान;

हरसिंगार की टहनी-से

फूलें तेरे अरमान।

जगे हृदय को शीतल करने-

वाली मीठी पीर,

निज को डुबो सके निज में,

मन हो इतना गंभीर।

छाया करती रहे सदा

तुझको सुहाग की छाँह,

सुख-दुख में ग्रीवा के नीचे

रहे पिया की बाँह।

पल-पल मंगल-लग्न, ज़िंदगी

के दिन-दिन त्यौहार,

उर का प्रेम फूटकर हो

आँचल में उजली धार।


अगला लेख: भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा- कुमार विश्वास



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 नवम्बर 2018
Aaj ka itihas - Today History in Hindi - 22 November वर्ष/साल प्रमुख घटनाएं 2008 भारती क्रिकेट टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने अपना पद छोड़ने की धमकी दी। हिन्दी के प्रख्यात कवि कुंवर नारायण
21 नवम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
Ramdhari Singh Dinkar - Hindi poem हो कहाँ अग्निधर्मा नवीन ऋषियों – रामधारी सिंह “दिनकर”कहता हूँ¸ ओ मखमल–भोगियो।श्रवण खोलो¸रूक सुनो¸ विकल यह नादकहां से आता है।है आग लगी या कहीं लुटेरे लूट रहे?वह कौन दूर पर गांवों में चिल्लाता है?जनता की छाती भिदेंऔर तुम नींद करो¸अपने भर तो यह जुल्म नहीं होने दूँगा।त
23 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
महादेवी वर्मा हिंदी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से एक है |शचीरानी गुर्टू ने भी महादेवी वर्मा की कविता (Mahadevi verma poems) को सुसज्जित भाषा का अनुपम उदाहरण मान
21 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
जीवन में बहुत से उतार-चढ़ाव आते हैं जिसमें इंसान अपने आप को निखारता है और फिर एक पक्का खिलाड़ी बनाता है। हर इंसान हर फील्ड में चैम्पियन नहीं बन सकता है और हर किसी की अपनी-अनपी स्किल्स होती है जिसके हिसाब से व्यक्ति उसमें आगे बढ़ता है। य
15 नवम्बर 2018
11 नवम्बर 2018
C
!! Use your common sense to know the truth!!हमे पढाया गया...👇👇“रघुपति राघव राजाराम,ईश्वर अल्लाह तेरो नाम”लेकिन असल मे ऋषियों ने लिखा था की....👇👇 “रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम”लोगों को समझना चाहिए कि,जब ये बोल लिखा गया था,तब ईस्लाम का अस्तित्व ही नहीं था,“
11 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
फैज़ अहमद फैज़ (Faiz Ahmad Faiz) उर्दू भाषा के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक थे। फैज़ की शायरी (Shayri) को न केवल उर्दू बल्कि हिंदी (Hindi) भाषी लोग भी बहुत पसंद करते है| गर मुझे इस का यक़ीं हो मेरे हमदम मेरे दोस्त, फैज़ अहमद फैज़ की सर्वा
20 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
डॉ.कुमार विश्वास “कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है”कुमार विश्वास का जन्म 10 फ़रवरी 1970 को पिलखुआ (ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश) में हुआ था। चार भाईयों और एक बहन में सबसे छोटे कुमार विश्वास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा लाला गंगा सहाय स्कूल, पिलखुआ में प्राप्त की। उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा आर एस
22 नवम्बर 2018
19 नवम्बर 2018
हर एक काम निपुणता से करता हूँ,फिर क्यूं सबकी आँखों को खलता हूँ,गाँव -गाँव शिक्षा की अलख जगाता हूँ,नित प्रति बच्चों को सबक सिखाता हूँ गर्व मुझे कि मैं प्राइमरी का मास्टर कहलाता हूँ।।सबको स्वाभिमान से रहना सिखलाता हूँ,सबको हर एक अच्छी बात बताता हूँ प्रतिदिन मेन्यू से एम.डी.एम बनवाता हूँ,खुद चखकर तब बच
19 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwas बांसुरी चली आओ तुम अगर नहीं आई गीत गा न पाऊँगासाँस साथ छोडेगी, सुर सजा न पाऊँगातान भावना की है शब्द-शब्द दर्पण हैबाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण हैतुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी हैतीर पार कान्हा से दूर राधिका-सी हैरात की उदासी को याद संग खेला है कुछ गलत ना कर बैठें मन ब
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाहमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामाअभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत कामैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामाकभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामाकोई ख़्वाबों में आकर बस लिया द
22 नवम्बर 2018
19 नवम्बर 2018
ऐतराज़...एक दौर है ये जहाँ तन्हां रात में वक़्त कट्टा नही... वो भी एक दौर था जहाँ वक़्त की सुईयों को पकड़ू तो वक़्त ठहरता नही... एक दौर है ये जहाँ नजर अंदाज शौक से कर दिए जाते है... वो भी एक दौर था... जहाँ चुपके चुपके आँखों मैं मीचे जाते थे
19 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasउनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलतीहमको ही खासकर नहीं मिलती शायरी को नज़र नहीं मिलतीमुझको तू ही अगर नहीं मिलती रूह मे, दिल में, जिस्म में, दुनियाढूंढता हूँ मगर
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
भारत में जब भी अगर बात चुनाव की आती है तो यहाँ हर कोई इस चुनावी माहौल को गर्माने में लग जाता है और फिर चाहे वो पार्टियाँ या आमजान।सरकार 'पॉपुलर' घोषणाएं करने लगती है, नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करने लगते हैं, जिससे सोशल मीडिया पर बहस नए रूप ले लेती है।जो कि चुनावमयी माहौल का ही एक हिस्सा है।
21 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
इतिहास की बात की जाये तो पूरे देश के इतिहास को यदि तराजू के एक तरफ रख दें और केवल मेवाड़ के ही इतिहास को दूसरी ओर रख दें, तो भी मेवाड़ का पलड़ा हमेशा भारी ही रहेगा | कभी गुलामी स्वीकार न करने वाले शूरवीर महाराणा प्रताप ने इतने संघर्षों के बाद अकबर को मेवाड़ से खदेड़ने पर मजबूर कर दिया था |न जाने मेव
21 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x