"मुक्तक"

24 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (78 बार पढ़ा जा चुका है)

"मुक्तक"


युग बीता बीता पहर, लेकर अपना मान।

हाथी घोड़ा पालकी, थे सुंदर पहचान।

अश्व नश्ल विश्वास की, नाल चाक-चौबंद-

राणा सा मालिक कहाँ, कहाँ चेतकी शान।।-1


घोड़ा सरपट भागता, हाथी झूमे द्वार।

राजमहल के शान थे, धनुष बाण तलवार।

चाँवर काँवर पागड़ी, राज चाक- चौबंद-

स्मृतियों में अब शेष हैं, प्रिय सुंदर उपहार।।-2


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: छंद पंचचामर



महातम मिश्रा
29 नवम्बर 2018

रचना को विशिष्ठ सम्मान प्रदान करने हेतु मंच का दिल से आभारी हूँ

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 दिसम्बर 2018
"
वज़्न--212 212 212 212 अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— लुभाते (आते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे"गज़ल"छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहेझूठ के सामने सच छुपाते रहे जान लेते हक़ीकत अगर वक्त कीसच कहुँ रूठ जाते ऋतु रिझाते रहे।।ये सहज तो न था खेलना आग सेप्यास को आब जी भर प
04 दिसम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
"
"पद"कोयल कुहके पिय आजाओ,साजन तुम बिन कारी रैना, डाल-पात बन छाओ।।बोल विरह सुर गाती मैना, नाहक मत तरसाओ ।भूल हुई क्यों कहते नाहीं, आकर के समझाओ।।जतन करूँ कस कोरी गगरी, जल पावन भर लाओ।सखी सहेली मारें ताना, राग इतर मत गाओ।।बोली ननद जिठानी गोली, आ देवर धमकाओ।बनो सुरक्षा कव
04 दिसम्बर 2018
02 दिसम्बर 2018
"
लघुकथा "अब कितनी बार बाँटोगे"अब कितनी बार बाँटोगे यही कहकर सुनयना ने सदा के लिए अपनी बोझिल आँख को बंद कर लिया। आपसी झगड़े फसाद जो बंटवारे को लेकर हल्ला कर रहे थे कुछ दिनों के लिए ही सही रुक गए। सुनयना के जीवन का यह चौथा बंटवारा था जिसको वह किसी भी कीमत पर देखना नहीं चाहती थी। सबने एक सुर से यही कहा
02 दिसम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
"
मापनी--212 212 212 212, समान्त— बसाएँ (आएँ स्वर) पदांत --- चलो "गीतिका" साथ मन का मिला दिल रिझाएँ चलोवक्त का वक्त है पल निभाएँ चलोक्या पता आप को आदमी कब मिलेलो मिला आन दिन खिलखिलाएँ चलो।।जा रहे आज चौकठ औ घर छोड़ क्योंखोल खिड़की परत गुनगुनाएँ चलो।।शख्स वो मुड़ रहा देखता द्वार कोगाँव छूटा कहाँ पुर बसाएँ
27 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x