भक्ति गान - जय महावीर स्वामी

25 नवम्बर 2018   |  उदय पूना   (24 बार पढ़ा जा चुका है)

भक्ति-गान।।

जय महावीर स्वामी

जय महावीर स्वामी,

जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।


नित तेरे दर्शन पाऊं, और तेरी कृपा पाऊं स्वामी;
सामने भी आओ स्वामी, कृपा की वर्षा करो स्वामी;
जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।


नित तेरा नाम जपूं, तेरे मार्ग पर बढ़ता जाऊं स्वामी;
राह भी दिखाओ स्वामी, मार्ग पर आगे बढाओ स्वामी;
जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।


तुझे सदा ध्याऊं, सब छोडूं, सुख में स्थापित होऊं स्वामी;
मेरे ध्यान में रहो स्वामी, सुख में मुझे भी स्थापित करो स्वामी;
जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।


बिन विधि जाने, भक्ति करुं, पर स्वीकार करो स्वामी;
अपनी भक्ति में रखो स्वामी, मुझे भी स्वीकार करो स्वामी;
जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।


बिन सच्चे ज्ञान, आया हूं तेरी शरण, पर उद्धार करो स्वामी;
अपनी शरण में लो स्वामी, मेरा भी उद्धार करो स्वामी;
जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।


भाव जगे हैं, अभी मेरे भाव जगे हैं, स्थाई करो स्वामी;
अपने से जोड़ो स्वामी, मेरे भाव स्थाई करो स्वामी;
जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी।।


तेरे गुण गाऊं, शीश झुकाऊं स्वामी, मैं भी वीर बनू स्वामी;
मुझे भी वीर बनाओ स्वामी, मुझे भी वीर बनाओ स्वामी;
मुझे भी वीर बनाओ स्वामी, मुझे भी वीर बनाओ स्वामी।।


जय महावीर स्वामी, जय महावीर स्वामी,
जय महावीर स्वामी।। ।।


उदय पूना

^^^^^ ------- ^^^^^ ------- ^^^^^

अगला लेख: निज भाषा



रेणु
30 नवम्बर 2018

आपकी स्नेहाशीष अनमोल है -- प्रणाम

उदय पूना
30 नवम्बर 2018

प्रिय रेणु - आभार - आप इतना सारा पढ़ लेतीं हैं और अच्छे, सटीक, सुन्दर, रचना से जुड़े हुए निज टिप्पणी भी कर देतीं हैं; आपकी यह ऊर्जा बनी रहे - शुभकामनायें शुभकामनायें - प्रणाम

रेणु
29 नवम्बर 2018

आदरणीय सर -- बहुत ही सुंदर अभ्यर्थना लिख दी आपने महावीर भगवान की | एक सरल भगत के सरल और निर्मल उदगार पिरोये हैं रचना में | शुभकामनायें |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 नवम्बर 2018
नि
विशेष : आओ हिंदी भाषा को लेकर कुछ चर्चा करें, हिंदी की सेवा करें।** निज भाषा ** (1) - ( प्रस्तावना )मैं हि
28 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
गु
" गुस्सा -- Balance Sheet दर्पण " हम गुस्सा, करते रहते हैं;और गुस्सा करने को, उचित भी ठहराते रहते हैं;और साथ साथ, यह भी, मानते रहते हैं;कि गुस्सा देता, सिर्फ घाटा; . . . सिर्फ हानी;और होते, कितने नुकसान हैं। . . . इस उलझन को, हम देखते हैं।।1।।. . . जब जब हमारा काम हो जाता है, गुस्सा करने से;स
22 नवम्बर 2018
24 नवम्बर 2018
क्
क्या चाहिए जीवन केलिए जीवन सुन्दर है, जीवन आंनद है, प्रत्येक व्यक्ति केलिए;पर हम, स्वयं की कैद में रहते हैं, घुट घुटकर मरने केलिए। जो कमाई करते रहते हैं, केवल पेट पालने केलिए;वो भर पेट भोजन क्यों त्यागते, केवल कमाई करने केलिए। न जाने क्या क्या जुटाते रहते हैं, बाद में
24 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x