प्रकृति और हम - ( वयस्कों केलिए )

26 नवम्बर 2018   |  उदय पूना   (18 बार पढ़ा जा चुका है)

* प्रकृति और हम *

(( वयस्कों केलिए गहरा सन्देश लिए ))


जब एक पेड़ बीमार होता है, तो क्या करते हैं ??
यदि पेड़ प्रिय है, तो उपाय करते हैं;
क्या फिर, उसके तने, डालियों, पत्तों का इलाज करते हैं ??
या, उसकी जड़ों पर काम करते हैं;
चलो इसकी बात करते हैं, इस दिशा में कार्य करते हैं।।


यदि बहुत संख्या में पेड़ बीमार हों, तो क्या करते हैं ??
क्या उपरोक्त उपाय को ही काम में लाने की सोचते हैं ??
यह विकल्प न जाने, कितने संसाधन मांगेगा;
कितना समय मांगेगा;
कितने व्यक्तियों की सेवा चाहेगा;
तो मिट्टी, खाद, पानी, हवा को थोक में ठीक करने का उपाय करते हैं;
उनको फिर से उनकी प्राकृतिक स्थिति में लाने की व्यवस्था करते हैं;
चलो इसकी बात करते हैं, इस दिशा में कार्य करते हैं।।


जब धरती साझा;
पानी साझा;
हवा साझा;
तो, मिलजुलकर व्यवस्था करते हैं;
समग्र प्रकृति का संतुलन वापिस लाने की व्यवस्था करते हैं;
चलो इसकी बात करते हैं, इस दिशा में कार्य करते हैं।।


केवल हम ही हम हैं, और प्रकृति से कट कर रहते हैं;
और प्रकृति को छति पहुंचाते रहते हैं;
हम अब, हम ही हम का परिणाम जानते हैं, हम ही हम को सीमित करते हैं;
जीवन की गुणवत्ता को सीमित करते हैं।।


चलो आपस में मिलजुलकर रहते हैं;
चलो प्रकृति से मिलकर चलते हैं, प्रकृति के साथ चलते हैं;
चलो अच्छे से रहते हैं;
चलो इसकी बात करते हैं, इस दिशा में कार्य करते हैं।।


उदय पूना

अगला लेख: निज भाषा



रेणु
01 दिसम्बर 2018

जी आदरणीय -- बेहतरीन लेख

उदय चंद्र जैन
01 दिसम्बर 2018

प्रिय रेणु, आभार

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 नवम्बर 2018
** यह मेरा जीवन कितना मेरा है ? ** यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, वो किस का है? वो किस किस का है? हम में से प्रत्येक यह प्रश्न, इस तरह के प्रश्न स्वयं से कर सकता है। यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, मैं उसको मेरा कहता हूं, समझता हूं। पर यह मेरा जीवन कितना मेरा है? हम कह
20 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
वि
विपरीत के विपरीत कुछ-कुछ लोग कुछ-कुछ शब्दों को भूल गए, बिसर गए;हमारे पास शब्द हैं, उपयुक्त शब्द हैं, पर कमजोर शब्द पर आ गए। कुछ-कुछ शब्दों के अर्थ भी भूल गए, बिसर गए;और गलत उपयोग शुरू हो गए;मैं भी इन कुछ-कुछ लोगों में हूं, हम जागरूकता से क्यों दूर हो गए।।अनिवार्य है,इस विपरीत धारा के विपरीत जाना;भाष
05 दिसम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
मा
मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??मां का, समाज, व्यक्ति और संतान, करें इतना सम्मान;<p style="color: rgb(34, 34, 34); font-fam
09 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x