दोराहा

28 नवम्बर 2018   |  उदय पूना   (13 बार पढ़ा जा चुका है)

- = + = दोराहा - = + =

हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा


हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;

भटकन से भरा, स्थायित्व से भरा होता है दोराहा।


जिसे जो राह चलना है, चुन ले, सब देता है दोराहा;

होश में रहें, साफ साफ देखें, सब से भरा होता है दोराहा।


भटकते ही रहना है तो, बाहर बाहर रहें सदा, यह अवसर भी देता दोराहा;

स्थायित्व की राह अंदर की ओर है, स्वयं से जुड़ने का अवसर भी देता दोराहा।


हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा।

-----------------------------------------------------------------------

हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;

हित से भरा, अहित से भरा होता है दोराहा।


हम स्वयं जो चाहें चयन कर लें, अवसर देता दोराहा;

हम स्वयं का हित चुने, अहित चुने, अवसर देता दोराहा।


हित, अहित को खण्ड खण्ड करें तो हम कह सकते हैं कि;


भटकन से भरा, स्थायित्व से भरा;

खुशी से भरा, उदासी से भरा;

शांति से भरा, अशांति से भरा;

उत्थान से भरा, पतन से भरा;

मुक्ति से भरा, बंधन से भरा;

आनंद से भरा, दुख परेशानी से भरा;

इस तरह की जोड़ियों से भरा होता है दोराहा।


हम स्वयं जो चाहें चयन कर लें, अवसर देता दोराहा;

हम स्वयं का हित चुने, अहित चुने, अवसर देता दोराहा।


हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा।

---------------------------------------------------------------------------

हम हर क्षण स्वयं का हित चुने, क्यों करें मन का चाहा;

हम विचारें, क्या होता है जब हम करतें हैं मन का चाहा।


सचेत रहें, तैयार रहें, हित चुनते रहें, यह सतत क्रिया है;

क्योंकि हर क्षण में सदा छिपा रहता है दोराहा;

हम सदा चुनेंगे हित, क्या हुआ जो हर क्षण में छिपा रहता है दोराहा।


हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;

हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा।


उदय पूना

अगला लेख: निज भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 नवम्बर 2018
क्
क्या चाहिए जीवन केलिए जीवन सुन्दर है, जीवन आंनद है, प्रत्येक व्यक्ति केलिए;पर हम, स्वयं की कैद में रहते हैं, घुट घुटकर मरने केलिए। जो कमाई करते रहते हैं, केवल पेट पालने केलिए;वो भर पेट भोजन क्यों त्यागते, केवल कमाई करने केलिए। न जाने क्या क्या जुटाते रहते हैं, बाद में
24 नवम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
मा
मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??मां का, समाज, व्यक्ति और संतान, करें इतना सम्मान;<p style="color: rgb(34, 34, 34); font-fam
09 दिसम्बर 2018
06 दिसम्बर 2018
झगड़ा और दुश्मनीयदि आपस में कुछ या गंभीर;मनमुटाव, गलतफहमी, तकलीफ, घाटा आदि हो जाये;और बहुत गुस्सा आ जाये;तो भले ही छोटा झगड़ा कर लेना;पर दुश्मनी करना नहीं।। दुश्मनी कर लेने के बाद, पछताना ही शेष रहता है;फिर रिश्ता बचता ही नहीं; फिर से एक
06 दिसम्बर 2018
25 नवम्बर 2018
मै
*गहराई की छिपी वर्जनाओं के स्वर*( "स्वयं पर स्वयं" से )मैं भटकता रहामैं भटकता रहा; समय, यूं ही निकलता रहा;मैं भटकता रहा। उथला जीवन जीता रहा;तंग हाथ किये, जीवन जीता रहा।न किसी को, दिल खोल कर अपना सका;न किसी का, खुला दिल स्वीकार कर सका;न आपस की, दूरी मिटा सका;न सब कुछ दे सक
25 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
** यह मेरा जीवन कितना मेरा है ? ** यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, वो किस का है? वो किस किस का है? हम में से प्रत्येक यह प्रश्न, इस तरह के प्रश्न स्वयं से कर सकता है। यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, मैं उसको मेरा कहता हूं, समझता हूं। पर यह मेरा जीवन कितना मेरा है? हम कह
20 नवम्बर 2018
16 नवम्बर 2018
जी
जीवन और परम्परा परम्परा होती है परम्परा, जीवन नहीं; परम्परा होती है जीवन केलिए, परम्परा केलिए जीवन नहीं; जीवन प्रथम है परम्परा नहीं; जो परम्परा जीवन विरोधी हो जाए उसको कभी मानना नहीं; समय में पीछे झांक
16 नवम्बर 2018
02 दिसम्बर 2018
भूमिका : हम देखते हैं, पाते हैं कि अलग अलग व्यक्ति अलग अलग ढ़ंग से, अपने अपने ढ़ंग से ही जीवन जी रहे हैं। बहुत मौटे तौर पर, हम इसको 3 श्रेणी में रख सकते हैं या 3 संभावनाओं के रूप में देख सकते हैं। हरेक के जीवन में हर प्रकार के क्षण आते हैं, उतार चढ़ाव आते हैं, पर कुल मि
02 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x