दोराहा

28 नवम्बर 2018   |  उदय पूना   (72 बार पढ़ा जा चुका है)

- = + = दोराहा - = + =

हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा


हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;

भटकन से भरा, स्थायित्व से भरा होता है दोराहा।


जिसे जो राह चलना है, चुन ले, सब देता है दोराहा;

होश में रहें, साफ साफ देखें, सब से भरा होता है दोराहा।


भटकते ही रहना है तो, बाहर बाहर रहें सदा, यह अवसर भी देता दोराहा;

स्थायित्व की राह अंदर की ओर है, स्वयं से जुड़ने का अवसर भी देता दोराहा।


हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा।

-----------------------------------------------------------------------

हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;

हित से भरा, अहित से भरा होता है दोराहा।


हम स्वयं जो चाहें चयन कर लें, अवसर देता दोराहा;

हम स्वयं का हित चुने, अहित चुने, अवसर देता दोराहा।


हित, अहित को खण्ड खण्ड करें तो हम कह सकते हैं कि;


भटकन से भरा, स्थायित्व से भरा;

खुशी से भरा, उदासी से भरा;

शांति से भरा, अशांति से भरा;

उत्थान से भरा, पतन से भरा;

मुक्ति से भरा, बंधन से भरा;

आनंद से भरा, दुख परेशानी से भरा;

इस तरह की जोड़ियों से भरा होता है दोराहा।


हम स्वयं जो चाहें चयन कर लें, अवसर देता दोराहा;

हम स्वयं का हित चुने, अहित चुने, अवसर देता दोराहा।


हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा।

---------------------------------------------------------------------------

हम हर क्षण स्वयं का हित चुने, क्यों करें मन का चाहा;

हम विचारें, क्या होता है जब हम करतें हैं मन का चाहा।


सचेत रहें, तैयार रहें, हित चुनते रहें, यह सतत क्रिया है;

क्योंकि हर क्षण में सदा छिपा रहता है दोराहा;

हम सदा चुनेंगे हित, क्या हुआ जो हर क्षण में छिपा रहता है दोराहा।


हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;

हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा।


उदय पूना

अगला लेख: निज भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 दिसम्बर 2018
जी
जीवन यात्रा कदम कदम, जिन्दगी बढ़ती रहती, आगे की ओर;बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापे की ओर।. . . . जवानी से बुढ़ापे की ओर।। जीवन में आते हैं, कुछ ऐसे क्षण;शादी, सेवनिवृत्ती हैं, कुछ ऐसे ही क्षण। जब बदल जाती है जिंदगी, एकदम से;. . . . एकदम से;सिर्फ एक कदम च
04 दिसम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
क्
* क्या यह समझदारी है * ? ? ?हर समय समझदारी का बोझ लिये रहना (गंभीर बने रहना), क्या समझदारी है;हर बार समझदारी दिखलाते रहना, क्या समझदारी है। ???कुछ कुछ गलती करते रहना (सीखते रहना), भी समझदारी है;कभी कभी समझदारी न दिखलान
20 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
गु
" गुस्सा -- Balance Sheet दर्पण " हम गुस्सा, करते रहते हैं;और गुस्सा करने को, उचित भी ठहराते रहते हैं;और साथ साथ, यह भी, मानते रहते हैं;कि गुस्सा देता, सिर्फ घाटा; . . . सिर्फ हानी;और होते, कितने नुकसान हैं। . . . इस उलझन को, हम देखते हैं।।1।।. . . जब जब हमारा काम हो जाता है, गुस्सा करने से;स
22 नवम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
मै
मैं कट्टर नहीं हूं स्वयं को भारतीय कहना, मानव कहना कट्टरता नहीं है; अपनी जड़ों से जुड़े रहना; जो समूचे विश्व को एक माने, एक कुटम्ब माने, ऐसी जड़ों से जुड़े रहना कट्टरता नहीं है।
18 नवम्बर 2018
06 दिसम्बर 2018
झगड़ा और दुश्मनीयदि आपस में कुछ या गंभीर;मनमुटाव, गलतफहमी, तकलीफ, घाटा आदि हो जाये;और बहुत गुस्सा आ जाये;तो भले ही छोटा झगड़ा कर लेना;पर दुश्मनी करना नहीं।। दुश्मनी कर लेने के बाद, पछताना ही शेष रहता है;फिर रिश्ता बचता ही नहीं; फिर से एक
06 दिसम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
क्
भूमिका : जब हम महान उद्देश्य लेकर चलते हैं, महान अभियान पर चलते हैं;बड़े महत्वपूर्ण कार्य को पूर्ण करने केलिए हम सब मिलजुल कर आगे बढ़ते हैं;तब हम उद्देश्य प्राप्ति केलिए संवाद करते हैं। तब हम वास्तविकता से जुड़ते जाने केलिए संवाद करते हैं;जीवन को अच्छा बनाने केलिए संवाद
03 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
II अनुभव : एक निज सेतु IIहमारा निज अनुभव, मनोभाव के स्तर पर, हमें बतलाता है कि भविष्य में स्वयं के अंदर कैसे भाव उभरेंगे ? अंदर के भावों की द्रष्टि से, निज अनुभव हमारे स्वयं के लिए हमारे स्वयं के वर्तमान से निकलते हुये भविष्य की झलक
07 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x