"हाइकु"

29 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (68 बार पढ़ा जा चुका है)

"हाइकु"


कलम चली

सुंदर अलंकार

दिव्य सृजन।।-1


मन मुग्धता

धन्य हुई नगरी

कवि कल्पना।।-2


सार्थक चित्र

कलम में धार है

सुंदर शिल्प।।-3


कवि कविता

शब्द छंद पावन

हिंदी दिवस।।-4


लेख आलेख

कलम चितचोर

मान सम्मान।।-5


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: "मुक्तक"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 दिसम्बर 2018
"कुंडलिया"कुल्हण की रबड़ी सखे, और महकती चाय।दूध मलाई मारि के, चखना चुस्की हाय।।चखना चुस्की हाय, बहुत रसदार कड़ाही।मुँह में मगही पान, गजब है गला सुराही।।कह गौतम कविराय, न भूले यौवन हुल्लण।सट जाते थे होठ, गर्म जब होते कुल्हण।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
06 दिसम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"
आधार छंद - सरसी (अर्द्ध सम मात्रिक) शिल्प विधान सरसी छंद- चौपाई + दोहे का सम चरण मिलकर बनता है। मात्रिक भार- 16, 11 = 27 चौपाई के आरम्भ में द्विकल+त्रिकल +त्रिकल वर्जित है। अंत में गुरु /वाचिक अनिवार्य। दोहे के सम चरणान्त में 21 अनिवार्य है"गीत" लहराती फसलें खेतों की, झूमें गाँव किसानबरगद पीपल खलिहा
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"
"छंद मुक्त गीतात्मक काव्य"जी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लूताल तलैया झील विहारकिस्मत का है घर परिवारसाजन से रूठा संवादआतंक अत्याचार व्यविचारहंस ढो रहा अपना भारकैसा- कैसा जग व्यवहारजी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लू।।सूखी खेती डूबे बा
22 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x