कौन सा पतझड़ मिले

02 दिसम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (9 बार पढ़ा जा चुका है)

गीत
कौन सा पतझड़ मिले?
विजय कुमार तिवारी

और गा लूँ जिन्दगी की धून पर,
कल न जाने प्रीति को मंजिल मिले?

दर्द में उत्साह लेकर बढ़ रहा था रात-दिन,
आह में संगीत संचय कर रहा था रात-दिन।
आज सावन कह रहा है बार-बार,
क्यों लिया बंधन स्व-मन से रात-दिन?

सोचता हूँ चुम लूँ वह पंखुड़ी,
कल न जाने कौन सी बेकल खिले?

आपदाओं में पला तनहाईयों का शबाब है,
बीच कांटों में खिला कोई नया गुलाब है।
ईश्क में डुबी हुई यह जिन्दगी,
प्रेम-परिणत की व्यथा की खुली हुई किताब है।

देख लूँ मैं पल्ल्वों की लालिमा
कल न जाने कौन सा पतझड़ मिले?

अगला लेख: एक दर्शन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 नवम्बर 2018
हर एक काम निपुणता से करता हूँ,फिर क्यूं सबकी आँखों को खलता हूँ,गाँव -गाँव शिक्षा की अलख जगाता हूँ,नित प्रति बच्चों को सबक सिखाता हूँ गर्व मुझे कि मैं प्राइमरी का मास्टर कहलाता हूँ।।सबको स्वाभिमान से रहना सिखलाता हूँ,सबको हर एक अच्छी बात बताता हूँ प्रतिदिन मेन्यू से एम.डी.एम बनवाता हूँ,खुद चखकर तब बच
19 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x