कौन सा पतझड़ मिले

02 दिसम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (10 बार पढ़ा जा चुका है)

गीत
कौन सा पतझड़ मिले?
विजय कुमार तिवारी

और गा लूँ जिन्दगी की धून पर,
कल न जाने प्रीति को मंजिल मिले?

दर्द में उत्साह लेकर बढ़ रहा था रात-दिन,
आह में संगीत संचय कर रहा था रात-दिन।
आज सावन कह रहा है बार-बार,
क्यों लिया बंधन स्व-मन से रात-दिन?

सोचता हूँ चुम लूँ वह पंखुड़ी,
कल न जाने कौन सी बेकल खिले?

आपदाओं में पला तनहाईयों का शबाब है,
बीच कांटों में खिला कोई नया गुलाब है।
ईश्क में डुबी हुई यह जिन्दगी,
प्रेम-परिणत की व्यथा की खुली हुई किताब है।

देख लूँ मैं पल्ल्वों की लालिमा
कल न जाने कौन सा पतझड़ मिले?

अगला लेख: माँ-बेटी



रेणु
15 दिसम्बर 2018

अच्छी रचनाहै आदरनीय विजय जी | जीवन में पतझड़ ना जाने कब अ जाए सो जो ख़ुशी के पल मिलते हैं वही जी लेने चाहिए | साभार --

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 दिसम्बर 2018
कहानीउसका चाँदविजय कुमार तिवारीबचपन में चाँद देखकर खुश होता था और अपलक निहारा करता था। चाँद को भी पता था कि धरती का कोई प्राणी उसे प्यार करता है। दादी ने जगा दिया था प्रेम उसके दिल में, चाँद के लिए। बड़ी बेबसी से रातें गुजरतीं जब आसमान में चाँद नहीं होता। वैसे तो दादी नित्य ही चाँद को दूध-भात के कटो
12 दिसम्बर 2018
15 दिसम्बर 2018
कहानीअन्तर्मन की व्यथाविजय कुमार तिवारी"है ना विचित्र बात?"आनन्द मन ही मन मुस्कराया," अब भला क्या तुक है इस तरह जीवन के बिगत गुजरे सालों में झाँकने का और सोयी पड़ी भावनाओं को कुरेदने का?अब तो जो होना था, हो चुका,जैसे जीना था,जी चुका। ऐसा भी तो नही हैं कि उसका बिगत जीवन बह
15 दिसम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
Hindi poem - koshish karne walon ki लहरों से डर कर नौका पार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं होतीनन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती हैचढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती हैमन का विश्वास रगों में साहस भरता हैचढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता हैआख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं
20 नवम्बर 2018
01 दिसम्बर 2018
दे
देवरहा बाबा के बहानेविजय कुमार तिवारीजब हम एकान्त में होते हैं तो हमारे सहयात्री होते हैं-आसपास के पेड़-पौधे। वे लोग बहुत भाग्यशाली हैं जिन्हें ऐसी अनुभूति होती है। मेरा दुर्भाग्य रहा कि मुझे पूज्य देवरहा बाबा जी का दर्शन करने का सुअवसर नहीं मिला। साथ ही सौभाग्य है कि आज मैं उन्हें श्रद्धा भाव से या
01 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x