नजरिया और जीवन

02 दिसम्बर 2018   |  उदय पूना   (15 बार पढ़ा जा चुका है)

भूमिका :


हम देखते हैं, पाते हैं कि अलग अलग व्यक्ति अलग अलग ढ़ंग से, अपने अपने ढ़ंग से ही जीवन जी रहे हैं। बहुत मौटे तौर पर, हम इसको 3 श्रेणी में रख सकते हैं या 3 संभावनाओं के रूप में देख सकते हैं। हरेक के जीवन में हर प्रकार के क्षण आते हैं, उतार चढ़ाव आते हैं, पर कुल मिलाकर क्या दिशा रहती है, क्या दशा रहती है, हम उस पर चर्चा करते हैं, उस पर यह चर्चा है।

नजरिया और जीवन


तीन (3) श्रेणियां, या तीन सम्भावनाएं हैं;

"मैं पत्थर तोड़ता हूँ", "मैं पेट पालता हूँ", "मैं खुशियां बांटता हूँ"।


श्रेणी, "मैं पत्थर तोड़ता हूँ", को समझते हैं;

मैं हूँ क्रोध से भरा, मुझे है सब पर क्रोध, मुझे है स्वयं पर क्रोध,

मैं हूँ हर चीज से परेशान, मैं पत्थर तोड़ता हूँ।


श्रेणी, "मैं पेट पालता हूँ", को समझते हैं;

मैं हूँ लाचार, बेबस, मुझे पैसे कमाने पड़ते हैं, मैं हूँ अभाव का मारा,

मैं पेट पालता हूँ।


श्रेणी, "मैं खुशियां बांटता हूँ", को समझते हैं;

मैं हूँ प्रसन्न, मेरे अंदर है सेवा भाव, लोगों के सवरें जीवन,

इस सोच के साथ कार्य करता हूँ, मैं खुशियां बांटता हूँ।


जिसने चुना नजरिया जैसा, होने लगा उसका जीवन वैसा;

नजरिया जैसा, तो जीवन भी होगया वैसा;

जीवन पसंद जैसा, तो नजरिया अपनालें वैसा।


पहले नजरिया वाले को जीवन लगता है पत्थर तोड़ने जैसा;

उस केलिए है जीवन मात्र पत्थर तोड़ने जैसा;

नीरस, जरूरत से अधिक मेहनत, परेशानी, हर चीज से परेशानी।


दूसरे नजरिया वाले को जीवन लगता है मात्र पेट पालने जैसा;

जीवन गुजार रहा है बेबस होकर, कार्य करता है केवल पेट पालने केलिए।


तीसरे नजरिया वाले को जीवन लगता है आनंद से भरी यात्रा जैसा;

स्वयं है प्रसन्न, सेवा भाव से प्रसन्न होकर करता है कार्य।


जीवन पसंद जैसा, तो नजरिया अपनालें वैसा।


उदय पूना


विशेष :

मुनि श्री प्रमाण सागर महाराज का आभार,

इस रचना को मिला इनके प्रवचन से आधार;

अगला लेख: निज भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 नवम्बर 2018
दो
- = + = दोराहा - = + =हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;भटकन से भरा, स्थायित्व से भरा होता है दोराहा। जिसे जो राह चलन
28 नवम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
मा
मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??मां का, समाज, व्यक्ति और संतान, करें इतना सम्मान;<p style="color: rgb(34, 34, 34); font-fam
09 दिसम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
** यह मेरा जीवन कितना मेरा है ? ** यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, वो किस का है? वो किस किस का है? हम में से प्रत्येक यह प्रश्न, इस तरह के प्रश्न स्वयं से कर सकता है। यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, मैं उसको मेरा कहता हूं, समझता हूं। पर यह मेरा जीवन कितना मेरा है? हम कह
20 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
वि
विपरीत के विपरीत कुछ-कुछ लोग कुछ-कुछ शब्दों को भूल गए, बिसर गए;हमारे पास शब्द हैं, उपयुक्त शब्द हैं, पर कमजोर शब्द पर आ गए। कुछ-कुछ शब्दों के अर्थ भी भूल गए, बिसर गए;और गलत उपयोग शुरू हो गए;मैं भी इन कुछ-कुछ लोगों में हूं, हम जागरूकता से क्यों दूर हो गए।।अनिवार्य है,इस विपरीत धारा के विपरीत जाना;भाष
05 दिसम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
मै
मैं कट्टर नहीं हूं स्वयं को भारतीय कहना, मानव कहना कट्टरता नहीं है; अपनी जड़ों से जुड़े रहना; जो समूचे विश्व को एक माने, एक कुटम्ब माने, ऐसी जड़ों से जुड़े रहना कट्टरता नहीं है।
18 नवम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
जी
जीवन यात्रा कदम कदम, जिन्दगी बढ़ती रहती, आगे की ओर;बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापे की ओर।. . . . जवानी से बुढ़ापे की ओर।। जीवन में आते हैं, कुछ ऐसे क्षण;शादी, सेवनिवृत्ती हैं, कुछ ऐसे ही क्षण। जब बदल जाती है जिंदगी, एकदम से;. . . . एकदम से;सिर्फ एक कदम च
04 दिसम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
गु
" गुस्सा -- Balance Sheet दर्पण " हम गुस्सा, करते रहते हैं;और गुस्सा करने को, उचित भी ठहराते रहते हैं;और साथ साथ, यह भी, मानते रहते हैं;कि गुस्सा देता, सिर्फ घाटा; . . . सिर्फ हानी;और होते, कितने नुकसान हैं। . . . इस उलझन को, हम देखते हैं।।1।।. . . जब जब हमारा काम हो जाता है, गुस्सा करने से;स
22 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x