नजरिया और जीवन

02 दिसम्बर 2018   |  उदय पूना   (76 बार पढ़ा जा चुका है)

भूमिका :


हम देखते हैं, पाते हैं कि अलग अलग व्यक्ति अलग अलग ढ़ंग से, अपने अपने ढ़ंग से ही जीवन जी रहे हैं। बहुत मौटे तौर पर, हम इसको 3 श्रेणी में रख सकते हैं या 3 संभावनाओं के रूप में देख सकते हैं। हरेक के जीवन में हर प्रकार के क्षण आते हैं, उतार चढ़ाव आते हैं, पर कुल मिलाकर क्या दिशा रहती है, क्या दशा रहती है, हम उस पर चर्चा करते हैं, उस पर यह चर्चा है।

नजरिया और जीवन


तीन (3) श्रेणियां, या तीन सम्भावनाएं हैं;

"मैं पत्थर तोड़ता हूँ", "मैं पेट पालता हूँ", "मैं खुशियां बांटता हूँ"।


श्रेणी, "मैं पत्थर तोड़ता हूँ", को समझते हैं;

मैं हूँ क्रोध से भरा, मुझे है सब पर क्रोध, मुझे है स्वयं पर क्रोध,

मैं हूँ हर चीज से परेशान, मैं पत्थर तोड़ता हूँ।


श्रेणी, "मैं पेट पालता हूँ", को समझते हैं;

मैं हूँ लाचार, बेबस, मुझे पैसे कमाने पड़ते हैं, मैं हूँ अभाव का मारा,

मैं पेट पालता हूँ।


श्रेणी, "मैं खुशियां बांटता हूँ", को समझते हैं;

मैं हूँ प्रसन्न, मेरे अंदर है सेवा भाव, लोगों के सवरें जीवन,

इस सोच के साथ कार्य करता हूँ, मैं खुशियां बांटता हूँ।


जिसने चुना नजरिया जैसा, होने लगा उसका जीवन वैसा;

नजरिया जैसा, तो जीवन भी होगया वैसा;

जीवन पसंद जैसा, तो नजरिया अपनालें वैसा।


पहले नजरिया वाले को जीवन लगता है पत्थर तोड़ने जैसा;

उस केलिए है जीवन मात्र पत्थर तोड़ने जैसा;

नीरस, जरूरत से अधिक मेहनत, परेशानी, हर चीज से परेशानी।


दूसरे नजरिया वाले को जीवन लगता है मात्र पेट पालने जैसा;

जीवन गुजार रहा है बेबस होकर, कार्य करता है केवल पेट पालने केलिए।


तीसरे नजरिया वाले को जीवन लगता है आनंद से भरी यात्रा जैसा;

स्वयं है प्रसन्न, सेवा भाव से प्रसन्न होकर करता है कार्य।


जीवन पसंद जैसा, तो नजरिया अपनालें वैसा।


उदय पूना


विशेष :

मुनि श्री प्रमाण सागर महाराज का आभार,

इस रचना को मिला इनके प्रवचन से आधार;

अगला लेख: निज भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 नवम्बर 2018
दो
- = + = दोराहा - = + =हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;भटकन से भरा, स्थायित्व से भरा होता है दोराहा। जिसे जो राह चलन
28 नवम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
नि
विशेष : आओ हिंदी भाषा को लेकर कुछ चर्चा करें, हिंदी की सेवा करें।** निज भाषा ** (1) - ( प्रस्तावना )मैं हि
28 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
क्
* क्या यह समझदारी है * ? ? ?हर समय समझदारी का बोझ लिये रहना (गंभीर बने रहना), क्या समझदारी है;हर बार समझदारी दिखलाते रहना, क्या समझदारी है। ???कुछ कुछ गलती करते रहना (सीखते रहना), भी समझदारी है;कभी कभी समझदारी न दिखलान
20 नवम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
मा
मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??मां का, समाज, व्यक्ति और संतान, करें इतना सम्मान;<p style="color: rgb(34, 34, 34); font-fam
09 दिसम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
मै
मैं कट्टर नहीं हूं स्वयं को भारतीय कहना, मानव कहना कट्टरता नहीं है; अपनी जड़ों से जुड़े रहना; जो समूचे विश्व को एक माने, एक कुटम्ब माने, ऐसी जड़ों से जुड़े रहना कट्टरता नहीं है।
18 नवम्बर 2018
13 दिसम्बर 2018
माध्यम की भाषा (1)जिस कार्य-क्षेत्र में उपयोग में आती रहे जो भाषा; उस क्षेत्र केलिए विकसित होती रहती वो भाषा। काम केलिए उपयोग में न लाएं निज-भाषा; फिर क्यों कहें विकसित नहीं हमारी निज भाष।।(2)व्यक्तिगत क्षमता, सामूहिक क्षमता में; सार्वजनिक रूप में, सरकारी काम में;भ
13 दिसम्बर 2018
24 नवम्बर 2018
क्
क्या चाहिए जीवन केलिए जीवन सुन्दर है, जीवन आंनद है, प्रत्येक व्यक्ति केलिए;पर हम, स्वयं की कैद में रहते हैं, घुट घुटकर मरने केलिए। जो कमाई करते रहते हैं, केवल पेट पालने केलिए;वो भर पेट भोजन क्यों त्यागते, केवल कमाई करने केलिए। न जाने क्या क्या जुटाते रहते हैं, बाद में
24 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x