क्या भात से चावल बनता है ?

03 दिसम्बर 2018   |  उदय पूना   (74 बार पढ़ा जा चुका है)

भूमिका :
जब हम महान उद्देश्य लेकर चलते हैं, महान अभियान पर चलते हैं;
बड़े महत्वपूर्ण कार्य को पूर्ण करने केलिए हम सब मिलजुल कर आगे बढ़ते हैं;
तब हम उद्देश्य प्राप्ति केलिए संवाद करते हैं।


तब हम वास्तविकता से जुड़ते जाने केलिए संवाद करते हैं;
जीवन को अच्छा बनाने केलिए संवाद करते हैं।


ऐसे संवाद में, कभी सहमति होगी, कभी असहमति होगी;
तभी तो सार्थकता है, तभी तो स्पष्टता प्राप्त होगी।


इसके लिए हम आपस में, अपना अपना निजी मत, विचार आदी स्पष्टता से बतलाते हैं;
सहयोग करते हैं, तभी आगे बढ़ पाते हैं ।


... .. .. .. हम हिंदी केलिए आपस में संवाद करें। . . ... . . .



*** क्या भात से चावल बनता है ? ***
( तुमने ठीक पढ़ा, क्या भात से चावल बनता है ? )


सभी जानते हैं कि चावल को पका कर भात बनाते हैं;
पर कुछ लोग बोलचाल में भात को चावल बना देते हैं।


इस को लेकर कुछ चर्चा करते हैं।


(अ ) - पहला भाग :

हिंदी में ' धान ', ' चावल ', और ' भात ' तीन शब्द हैं।

" धान बोया जाता है। "
" जो फसल होती है वो धान की फसल कहलाती है। "


" धान का भूसा ( ऊपर का छिलका ) निकालने से चावल प्राप्त होता है।"


" चावल को पकाने से भात बनता है। "


(ब ) - दूसरा भाग :

ब- 1:

" हम कच्चे चावल को पका कर खाते हैं। "

" हम पके चावल खाते हैं, हम कच्चे चावल नहीं खाते हैं। "


हमारे पास हिंदी में कच्चे चावल के लिए ' चावल ' शब्द है। और पके चावल केलिए ' भात ' शब्द है। यदि हम इन शब्दों को काम में लाएं तो है कह सकते हैं कि


" हम चावल को पका कर खाते हैं। "

" हम भात खाते हैं, हम चावल नहीं खाते हैं। "

ब- 2:
अब एक वाक्य और हैं; "आज भात थोड़ासा कच्चा रह गया, यह पूरा पका नहीं है। "


अब यही बात कहते हैं और ' भात ' शब्द उपयोग न करें, तब निम्न वाक्य बनाना होगा;


" आज पका चावल थोड़ासा कच्चा रह गया, यह पूरा पका नहीं है। "


इस तरह से कहना अटपटा है।


( स ) - 1:

क्या हम ' पके हुए चावल' केलिए 'भात ' शब्द को ही काम में लाएं।


( स ) - 2:

कुछ लोग ' भात ' शब्द के स्थान पर ' चावल ' शब्द क्यों उपयोग में लाने लगे, कोई इस पर प्रकाश डाले।


( द )

यह मेरे लिए हिन्दी के ज्ञान को बढ़ाने और सुधारने का मंच है। मेरा एक एक से निवेदन है कि इसमें मेरी सहायता करें। कृपया बताए इस लेख में क्य क्या अशुद्धियाँ / गलतियां हैं.


उदय पूना

९२८४७ ३७४३२;

92847 37432;


विशेष : आओ हिंदी भाषा को लेकर कुछ चर्चा करें, संवाद करें, हिंदी की सेवा करें।

अगला लेख: निज भाषा



उदय पूना
04 दिसम्बर 2018

प्रिय रेणु, सादर प्रणाम, इसी तरह मेरा उत्साह बढ़ाते रहें, ताकि मैं और भी लिखता रहूं; आभार

रेणु
04 दिसम्बर 2018

बहुत ज्ञानवर्धन किया आपने आदरणीय सर।सादर प्रणाम।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 दिसम्बर 2018
माध्यम की भाषा (1)जिस कार्य-क्षेत्र में उपयोग में आती रहे जो भाषा; उस क्षेत्र केलिए विकसित होती रहती वो भाषा। काम केलिए उपयोग में न लाएं निज-भाषा; फिर क्यों कहें विकसित नहीं हमारी निज भाष।।(2)व्यक्तिगत क्षमता, सामूहिक क्षमता में; सार्वजनिक रूप में, सरकारी काम में;भ
13 दिसम्बर 2018
06 दिसम्बर 2018
झगड़ा और दुश्मनीयदि आपस में कुछ या गंभीर;मनमुटाव, गलतफहमी, तकलीफ, घाटा आदि हो जाये;और बहुत गुस्सा आ जाये;तो भले ही छोटा झगड़ा कर लेना;पर दुश्मनी करना नहीं।। दुश्मनी कर लेने के बाद, पछताना ही शेष रहता है;फिर रिश्ता बचता ही नहीं; फिर से एक
06 दिसम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
Ramdhari Singh Dinkar - Hindi poem कलम, आज उनकी जय बोल – रामधारी सिंह “दिनकर”जला अस्थियाँ बारी-बारीचिटकाई जिनमें चिंगारी,जो चढ़ गये पुण्यवेदी परलिए बिना गर्दन का मोलकलम, आज उनकी जय बोल।जो अगणित लघु दीप हमारेतूफानों में एक किनारे,जल-जलाकर बुझ गए किसी दिनमाँगा नहीं स्नेह मुँह खोलकलम, आज उनकी जय बोल।पी
23 नवम्बर 2018
26 नवम्बर 2018
बहाना ढूंढते रहते हैं कोई रोने का - जावेद अख़्तर Poem in Hindi बहाना ढूंढ़ते रहते हैं कोई रोने का बहाना ढूंढ़ते रहते हैं कोई रोने का हमें ये शौक़ है क्या आस्तीन भिगोने का अगर पलक पर है मोती तो ये नहीं काफ़ी हुनर भी चाहिए अल्फ़ाज़ में पिरोने का जो फसल ख़्वाब की तैयार है तो ये जानो कि वक़्त आ गया फिर दर्द कोई
26 नवम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
Ramdhari Singh Dinkar - Hindi poem परिचय – रामधारी सिंह “दिनकर”सलिल कण हूँ, या पारावार हूँ मैंस्वयं छाया, स्वयं आधार हूँ मैंबँधा हूँ, स्वप्न हूँ, लघु वृत हूँ मैंनहीं तो व्योम का विस्तार हूँ मैंसमाना चाहता, जो बीन उर मेंविकल उस शून्य की झंकार हूँ मैंभटकता खोजता हूँ, ज्
23 नवम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
गु
" गुस्सा -- Balance Sheet दर्पण "हम गुस्सा, करते रहते हैं;और गुस्सा करने को, उचित भी ठहराते रहते हैं;और साथ साथ, यह भी, मानते रहते हैं;कि गुस्सा देता, सिर्फ घाटा;. . . सिर्फ हानी;और होते, कितने नुकसान हैं। .. . इस उलझन को, हम देखते हैं।।1।।.. .जब जब हमारा काम हो जाता है, गुस्सा करने से;सफलता मिल जात
23 नवम्बर 2018
23 नवम्बर 2018
Ramdhari Singh Dinkar - Hindi poem बालिका से वधू – रामधारी सिंह “दिनकर”माथे में सेंदूर पर छोटीदो बिंदी चमचम-सी,पपनी पर आँसू की बूँदेंमोती-सी, शबनम-सी।लदी हुई कलियों में मादकटहनी एक नरम-सी,यौवन की विनती-सी भोली,गुमसुम खड़ी शरम-सी।पीला चीर, कोर में जिसकेचकमक गोटा-जाली,चली पिया के गांव उमर केसोलह फूलों
23 नवम्बर 2018
17 दिसम्बर 2018
" आगे क्या होगा " -- हम क्यों मानकर चलें कि आगे बुरा ही होगा : प्रस्तावना, भूमिका क्या हमें पता होता है कि भविष्य में क्या क्या होने वाला है ??पर दिन-प्रतिदिन के जीवन में हमें यदा-कदा अनुभव होता है कि हम मानकर चलने लगतें हैं "आगे बुर
17 दिसम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasउनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलतीहमको ही खासकर नहीं मिलती शायरी को नज़र नहीं मिलतीमुझको तू ही अगर नहीं मिलती रूह मे, दिल में, जिस्म में, दुनियाढूंढता हूँ मगर
22 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
वि
विपरीत के विपरीत कुछ-कुछ लोग कुछ-कुछ शब्दों को भूल गए, बिसर गए;हमारे पास शब्द हैं, उपयुक्त शब्द हैं, पर कमजोर शब्द पर आ गए। कुछ-कुछ शब्दों के अर्थ भी भूल गए, बिसर गए;और गलत उपयोग शुरू हो गए;मैं भी इन कुछ-कुछ लोगों में हूं, हम जागरूकता से क्यों दूर हो गए।।अनिवार्य है,इस विपरीत धारा के विपरीत जाना;भाष
05 दिसम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
** यह मेरा जीवन कितना मेरा है ? ** यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, वो किस का है? वो किस किस का है? हम में से प्रत्येक यह प्रश्न, इस तरह के प्रश्न स्वयं से कर सकता है। यह जीवन जो मैं जी रहा हूं, मैं उसको मेरा कहता हूं, समझता हूं। पर यह मेरा जीवन कितना मेरा है? हम कह
20 नवम्बर 2018
24 नवम्बर 2018
क्
क्या चाहिए जीवन केलिए जीवन सुन्दर है, जीवन आंनद है, प्रत्येक व्यक्ति केलिए;पर हम, स्वयं की कैद में रहते हैं, घुट घुटकर मरने केलिए। जो कमाई करते रहते हैं, केवल पेट पालने केलिए;वो भर पेट भोजन क्यों त्यागते, केवल कमाई करने केलिए। न जाने क्या क्या जुटाते रहते हैं, बाद में
24 नवम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
शीर्षक - उल्टा सीधा प्रस्तुत है उल्टा पर सीधा करके। जीवन में पूरी पूरी स्वतंत्रता है;जीवन में पूरी पूरी छूट है।हम स्वयं की ऐसी तैसी करते रहें; स्वयं की ऐसी की तैसी करते रहें;स्वयं की पूरी दुर्दशा करते रहें;इसकी भी पूरी पूरी छूट है;हम इसका उल्टा भी कर सकते हैं, यहां इ
18 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x