निशां

04 दिसम्बर 2018   |  शिशिर मधुकर   (12 बार पढ़ा जा चुका है)

निशां  - शब्द (shabd.in)

ढूँढते हैं निशां तेरे, जब भी बगिया में आते हैं

मुहब्बत के गीत भंवरे, यहाँ अब भी सुनाते हैं

ज़रा मौसम यहाँ बदला, डालियाँ सज गई सारी

बिना तेरे फूल खिलते हुए, पर ना लुभाते हैं


मैं तो चुप हूँ मगर, झरने तो हरदम शोर करते हैं

तड़प के आह भर, ये तो तुम्हें अब भी बुलाते हैं


वो पल जिनमें हमारी, धड़कनों ने दोस्ती की थी

लाख चाहा मगर , वो फिर भी मुझसे ना भुलाते हैं


लाख पत्थर बनूं बाहर से, पर भीतर से टूटा हूँ

तेरी यादों के साये , मधुकर मुझे हरदम रूलाते हैं


अगला लेख: विजेता



रेणु
06 दिसम्बर 2018

लाख पत्थर बनूं बाहर से, पर भीतर से टूटा हूँ
तेरी यादों के साये , मधुकर मुझे हरदम रूलाते _
बहुत सुंदर अशार आदरणीय शिशिर जी | बहुत दिनों बाद आपकी रचनाएँ पढने का सौभाग्य मिला | सादर बधाई और शुभकामनायें |

शिशिर मधुकर
07 दिसम्बर 2018

तहे दिल से शुक्रिया आदरणीय रेणु जी. ......

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 नवम्बर 2018
ऐतराज़...एक दौर है ये जहाँ तन्हां रात में वक़्त कट्टा नही... वो भी एक दौर था जहाँ वक़्त की सुईयों को पकड़ू तो वक़्त ठहरता नही... एक दौर है ये जहाँ नजर अंदाज शौक से कर दिए जाते है... वो भी एक दौर था... जहाँ चुपके चुपके आँखों मैं मीचे जाते थे
19 नवम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
मुहब्बत तेरे सीने में, अगर मुझ सी पली होती कमी मेरी दो बाहों की, तुझे हरदम खली होतीअगर तुम साथ में रहते, तो रौनक बज्म में होती ये शब देखो निरी तन्हा, ना फिर ऐसे ढली होतीढूँढ़ने साथिया मन का, जब भी राहें चुनी मैंने काश उन राहों में शामिल, एक तेरी गली होतीकभी ऐसे भी
09 दिसम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
मुहब्बत कर तो ली मैंने, मगर लुट कर ये जाना हैमुकम्मल हो नहीं सकता, ये बस ऐसा फ़साना हैख्वाब तो लुट गए सारे, अब तो मायूस बैठा हूँटूटे ख्वाबों की लाशों को, उमर भर अब उठाना हैकोई दिल की नहीं सुनता, सभी रिश्तों के हामी हैंबड़ा नफरत भरा भीतर से, पर सारा ज़माना है वो करता है, वो डरता है, संवरता
04 दिसम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
Hindi poem - koshish karne walon ki लहरों से डर कर नौका पार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं होतीनन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती हैचढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती हैमन का विश्वास रगों में साहस भरता हैचढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता हैआख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं
20 नवम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
मुहब्बत तेरे सीने में, अगर मुझ सी पली होती कमी मेरी दो बाहों की, तुझे हरदम खली होतीअगर तुम साथ में रहते, तो रौनक बज्म में होती ये शब देखो निरी तन्हा, ना फिर ऐसे ढली होतीढूँढ़ने साथिया मन का, जब भी राहें चुनी मैंने काश उन राहों में शामिल, एक तेरी गली होतीकभी ऐसे भी
09 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
तेरी मेरी मुहब्बत का मज़ा अल्लाह भी लेता हैतभी कुछ दूरियां वो दरम्यान हम सबको देता है लाख कोशिश करी मैंने, और सबने भी समझायाये मन राहें मुहब्बत में, ना पर कहने से चेता है अब ये जां मेरी तुम ही कहो , आ
07 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
एक तुम ही हो जिसने, मेरा जीवन संवारा हैमेरी इन धड़कनों ने नाम, बस तेरा पुकारा है मतलब का कोई खेल, न ये बातें मेरी समझोहर एक लफ्ज में मैंने दिया, तुमको इशारा हैएक तुम ही नहीं तन्हा, बेबसी मैं भी सहती हूँकितनी दुश्वारियों से वक्त, सोचो मैंने ग
07 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
एक तुम ही हो जिसने, मेरा जीवन संवारा हैमेरी इन धड़कनों ने नाम, बस तेरा पुकारा है मतलब का कोई खेल, न ये बातें मेरी समझोहर एक लफ्ज में मैंने दिया, तुमको इशारा हैएक तुम ही नहीं तन्हा, बेबसी मैं भी सहती हूँकितनी दुश्वारियों से वक्त, सोचो मैंने ग
07 दिसम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
यूँ ही ना चैन से बैठो, ज़रा कोशिश तुम भी कर लोबेडियां तोड़ दो जग की, मुझको आगोश में भर लोनिभाते जाओगे क्या उम्र भर, केवल धरम अपनापरेशानी हर एक इंसान की, ना खुद के ही सर लो ज़माना क्या दिखेगा खुद ही गर, तुम उड़ नहीं सकतींएक परवाज़ ऊँची सी भरो, और फैला
09 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
तेरी मेरी मुहब्बत का मज़ा अल्लाह भी लेता हैतभी कुछ दूरियां वो दरम्यान हम सबको देता है लाख कोशिश करी मैंने, और सबने भी समझायाये मन राहें मुहब्बत में, ना पर कहने से चेता है अब ये जां मेरी तुम ही कहो , आ
07 दिसम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
कोई नाता है जन्मों का, तभी तो याद आती हैतेरी हर चीज़ यूँ ही थोड़े, मेरे मन को लुभाती हैमेरे खूं का हर इक कतरा, खुशी में झूम उठता हैमुझे आवाज़ दे और मुस्कान दे, जब तू बुलाती है जब भी आगोश में भर के, तूने मस्तक ये चूमा हैहजारों फूल खिलते हैं, गीत धड़कन भी गाती हैतेरी ह
09 दिसम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
यूँ ही ना चैन से बैठो, ज़रा कोशिश तुम भी कर लोबेडियां तोड़ दो जग की, मुझको आगोश में भर लोनिभाते जाओगे क्या उम्र भर, केवल धरम अपनापरेशानी हर एक इंसान की, ना खुद के ही सर लो ज़माना क्या दिखेगा खुद ही गर, तुम उड़ नहीं सकतींएक परवाज़ ऊँची सी भरो, और फैला
09 दिसम्बर 2018
10 दिसम्बर 2018
तमन्ना कब हुईं तुमको, मेरे नज़दीक आने कीमुझे बाहों में भर के सांसों में, मेरी समाने कीमैं जिसमें घिर गया ऐसे, जो सारा होश खो बैठाकहानी कुछ तो बतलाओ, मुझे अपने फसाने कीछोड़ दो तुम सभी चिंता, भगा दो दूर हर डर कोकसम मैंने तो खा ली है, तुमसे रिश्ता निभाने कीमुहब्बत कोई भी कर ले, मगर ये सच ना बदलेगाहुस्न
10 दिसम्बर 2018
10 दिसम्बर 2018
तमन्ना कब हुईं तुमको, मेरे नज़दीक आने कीमुझे बाहों में भर के सांसों में, मेरी समाने कीमैं जिसमें घिर गया ऐसे, जो सारा होश खो बैठाकहानी कुछ तो बतलाओ, मुझे अपने फसाने कीछोड़ दो तुम सभी चिंता, भगा दो दूर हर डर कोकसम मैंने तो खा ली है, तुमसे रिश्ता निभाने कीमुहब्बत कोई भी कर ले, मगर ये सच ना बदलेगाहुस्न
10 दिसम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाहमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामाअभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत कामैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामाकभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामाकोई ख़्वाबों में आकर बस लिया द
22 नवम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
तेरे मेरे बीच ना अब कोई दीवार हैजानेमन तू जान ले ये ही तो प्यार हैचढ़ गया एक बार तो उतरेगा ही नहींइस इश्क में होता सदा ऐसा खुमार है तू पास है मुझको पता चल ही जाएगा खुशबू भरी आती अगर कोई बयार हैतू मुस्कुरा रही है गर तन्हाई में कहीं फूलों में दिख जाती मुझको बहार है जो सुख मुझे तेरे क़रीब आने से मिलेमध
07 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
लो वादा कर दिया मैंने तुम्हें ना याद करने कारकीबों को मिलेगा अब पूरा मौका संवरने कामेरी चिंता नहीं करना मौत मुझको ना आएगीमुझे मालूम है रस्ता हर एक ग़म से उबरने कासभी ये जानते हैं छोर पे उस कुछ ना पाओगेलेकिन मज़ा कितना है राहे उल्फ़त गुजरने काख्वाइशें तैरने की तो ज़माने भर की रहती हैंसफलता को मगर फन चा
07 दिसम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
कोई नाता है जन्मों का, तभी तो याद आती हैतेरी हर चीज़ यूँ ही थोड़े, मेरे मन को लुभाती हैमेरे खूं का हर इक कतरा, खुशी में झूम उठता हैमुझे आवाज़ दे और मुस्कान दे, जब तू बुलाती है जब भी आगोश में भर के, तूने मस्तक ये चूमा हैहजारों फूल खिलते हैं, गीत धड़कन भी गाती हैतेरी ह
09 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x