"पद" कोयल कुहके पिय आजाओ, साजन तुम बिन कारी रैना,डाल पात बन छाओ।।

04 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (86 बार पढ़ा जा चुका है)

"पद"


कोयल कुहके पिय आजाओ,

साजन तुम बिन कारी रैना, डाल-पात बन छाओ।।


बोल विरह सुर गाती मैना, नाहक मत तरसाओ ।

भूल हुई क्यों कहते नाहीं, आकर के समझाओ।।


जतन करूँ कस कोरी गगरी, जल पावन भर लाओ।

सखी सहेली मारें ताना, राग इतर मत गाओ।।


बोली ननद जिठानी गोली, आ देवर धमकाओ।

बनो सुरक्षा कवच हमारो, हरियाली लहराओ।।


सुन लो अपना फर्ज निभाओ, मत झूठे इतराओ।

गौतम तुम बिन जग अँधियारा, ला सूरज दिखलाओ।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गज़ल" छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहे झूठ के सामने सच छुपाते रहे



महातम मिश्रा
06 दिसम्बर 2018

रचना को विशिष्ट श्रेणी का सम्मान प्रदान करने के लिए मंच का हृदय से आभारी हूँ

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 नवम्बर 2018
"
मापनी--212 212 212 212, समान्त— बसाएँ (आएँ स्वर) पदांत --- चलो "गीतिका" साथ मन का मिला दिल रिझाएँ चलोवक्त का वक्त है पल निभाएँ चलोक्या पता आप को आदमी कब मिलेलो मिला आन दिन खिलखिलाएँ चलो।।जा रहे आज चौकठ औ घर छोड़ क्योंखोल खिड़की परत गुनगुनाएँ चलो।।शख्स वो मुड़ रहा देखता द्वार कोगाँव छूटा कहाँ पुर बसाएँ
27 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"कुंडलिया"अच्छे लगते तुम सनम यथा कागजी फूल।रूप-रंग गुलमुहर सा, डाली भी अनुकूल।।डाली भी अनुकूल, शूल कलियाँ क्यों देते।बना-बनाकर गुच्छ, भेंट क्योंकर कर लेते।।कह गौतम कविराय, हक़ीकत के तुम कच्चे।हो जाते गुमराह, देखकर कागज अच्छे।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
22 नवम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
"
विधान- 13-11 की यति, चौपाई की अर्धाली व दोहा का सम चरण, सम चरण का अंतिम शब्द विषम चरण का पहला शब्द हो, यही इस दोहा की विशेषता है"सिंहावलोकनी दोहा" परम मित्र नाराज है, कहो न मेरा दोष।दोष दाग अच्छे नही, मन में भरते रोष।।-1रोष विनाशक चीज है, भरे कलेश विशेष।विशेष मित्र
08 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x