कविता

06 दिसम्बर 2018   |  अजीत मालवीया ललित   (34 बार पढ़ा जा चुका है)

कर्ण को जो शांति दे,
वीणा का वो मधुर क्रंदन हो तुम।
मेरे ह्दय बाग कि,
महकती कुमुदिनी हो तुम।
कुण्ठित अस्तगामी इंसान को,
जो बचा सके वो पतवार हो तुम।
मधु के सरस स्वभाव सी,
एक मीठी अनुभूति हो तुम।
कलेवर की तपिस को जो हर सके,
नीर की वो शीतल बौछार हो तुम।
वृहद अनुराग प्रेम की,
अनुपम निशानी हो तुम।
क्षुब्धा पिपासा जो मिटा सके,
उस तेज का प्रतिरूप हो तुम।
सबको धारण कर सके,
वो विशाल धरा हो तुम।
कतिपय अतिशय नहीं होगा,
मेरे बीमार अस्तित्व की,
औषधि हो तुम।
अब और क्या मैं तुमसे कहूं?
थकित व्यथित मानव को जागृत
करने वाली “जागृति" हो तुम!

-अजीत मालवीया “ललित”
गाडरवारा,नरसिंहपुर
(मध्यप्रदेश)

अगला लेख: मुहब्बत



उदय पूना
09 दिसम्बर 2018

प्रिय अजीत मालवीया “ललित” - प्रणाम, उपमा देना कोई तुम से सीखे; प्रशंसा करना कोई तुम से सीखे; मां का सम्मान, इतनी सुन्दर शैली में प्रशंसापूर्वक, करना कोई तुम से सीखे. बधाई,

उदय पूना
09 दिसम्बर 2018

सुन्दर रचना, बधाई, प्रणाम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x