मैंने देखा था एक सपना

06 दिसम्बर 2018   |  अजय अमिताभ सुमन   (9 बार पढ़ा जा चुका है)












अगला लेख: मैं और ब्रह्मांड



रेणु
08 दिसम्बर 2018

मैंने मजाक किया था अजय जी | गुलीवर की यात्रा में इसी तरह के प्रसंग आते हैं | बहुत रोचक है आपकी रचना |

नहीं , नहीं , दादी को हीं देखा था. धन्यवाद रेणु जी

रेणु
06 दिसम्बर 2018

अत्यंत रोचक और मुस्कुराते रचना अजय जी -- कहीं आपने दादी की बजाय लेडी गुलीवर को तो सपने में नहीं देख लिया था | हास्य रंग से सजी रचना के लिए हार्दिक बधाई |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 नवम्बर 2018
ये कविता एक माँ के प्रति श्रद्धांजलि है। इस कविता में एक माँ के आत्मा की यात्रा स्वर्गलोक से ईह्लोक पे गर्भ धारण , बच्ची , तरुणी , युवती , माँ , सास , दादी के रूप में क्रमिक विकास और फिर देहांत और देहोपरांत तक दिखाई गई है। अंत में कवि माँ क
21 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
कविता तो केवल व्यथा नहीं,निष्ठुर, दारुण कोई कथा नहीं,या कवि शामिल थोड़ा इसमें,या तू भी थोड़ा, वृथा नहीं।सच है कवि बहता कविता में,बहती ज्यों धारा सरिता में,पर जल प
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
महादेवी वर्मा हिंदी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से एक है |शचीरानी गुर्टू ने भी महादेवी वर्मा की कविता (Mahadevi verma poems) को सुसज्जित भाषा का अनुपम उदाहरण मान
21 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x