अनुभव : एक निज सेतु

07 दिसम्बर 2018   |  उदय पूना   (53 बार पढ़ा जा चुका है)

II अनुभव :
एक निज सेतु II

हमारा निज अनुभव, मनोभाव के स्तर पर, हमें बतलाता है कि भविष्य में स्वयं के अंदर कैसे भाव उभरेंगे ? अंदर के भावों की द्रष्टि से, निज अनुभव हमारे स्वयं के लिए हमारे स्वयं के वर्तमान से निकलते हुये भविष्य की झलक दिखलाता है।

निज अनुभव;
भविष्य की झलक है;
इसी दिशा में
स्वयं बढ़ते जाएं तो जो मिल सकता है, उसी की झलक है।

अनुभव में जो भाव अभी आ रहें हैं, उसी तरह के भाव आगे भी रहेंगे।


निज अनुभव;
जिस दिशा में स्वयं चलने से आया है;
जिस दिशा में स्वयं चलने से प्राप्त हुआ है।

उसी दिशा में स्वयं चलते जाएं, बढ़ते जाएं तो आगे क्या है;

उसको दिखलाना, बतलाना शुरूं करता है;
निज अनुभव।।1।।


यदि यही चाहिए तो आगे बढ़ते जाएं, यदि यही स्वीकृत है, यदि इसी में राजी हैं तो आगे बढ़ते जाएं;
अन्यथा, मुझे मेरे इच्छित भाव की प्राप्ति अन्य दिशा में मिलेगी;
यह स्पष्ट हो जाता है, यह स्पष्ट हो जाता है।

इस दिशा में किसी अन्य को क्या मिला, इस दिशा में किसी अन्य को क्या मिला;

उससे हमारे स्वयं केलिए कोई विशेष मतलब नहीं;
जो हम को स्वयं को मिल सकता है, निज अनुभव उसको बतलाता है।।2।।

प्राप्ति कहें, उत्थान कहें, या पहुंचना कहें;
वही प्रमुख है, प्रधान है, मुख्य है, या कहें प्रथम है;
हम वही दिशा पकड़ें जो सहाय हो, जो मेरे स्वयं केलिय सहाय हो।

किसी एक दिशा को;
किसी तथाकथित विशिष्ट दिशा को;
किसी अन्य, सफल व्यक्ति की दिशा को;
पकड़ ने की जिद न करें, हठ न करें;
निज अनुभव जो मार्ग-दर्शन करता है उसका सम्मान करें।।3।।


निज अनुभव सेतु है, निज अनुभव का सम्मान करना सेतु है;
जीवन में सफल होने केलिए, जीवन जीने केलिए;
स्वयं को पहचानने केलिए, समझने केलिए;
स्वयं से जुड़ ने केलिए, स्वयं को प्राप्त करने केलिए;
स्वयं के स्वभाव में स्थापित होने केलिए;

निज अनुभव सेतु है, निज अनुभव का सम्मान करना सेतु है।।4।।


अनुभव तभी पता चलता है, अनुभव का सही पता तभी चलता है;
जब हम स्वयं सहज होते हैं।
किसी दबाव में नहीं होते हैं, किसी के प्रभाव में नहीं होते हैं;
कुछ प्रमाणित करने के चक्कर में नहीं होते हैं, किसी को कुछ दिखाने के चक्कर में नहीं होते हैं;
किसी सिद्धांत के चक्कर में, प्रभाव में नहीं होते हैं;
किसी विश्वास, मान्यता के चक्कर में, प्रभाव में नहीं होते हैं।
किसी भी प्रकार की जल्दी में नहीं होते हैं;
किसी कार्य को पूरा करने, समाप्त करने, निपटाने के चक्कर में नहीं होते हैं;
किसी परेशानी से तुरंत मुक्ति पाने के चक्कर में नहीं होते हैं;
किसी Short-Cut के चक्कर में नहीं होते हैं।।5।।


निज अनुभव क्या है, समझते हैं। ........

निज अनुभव मतलब स्वयं को अंदर कैसा लगता है, अंदर क्या भाव आता है;
स्वयं को अंदर क्या अंतर पड़ता है, अच्छा लगता है, बुरा लगता है, या कोई अंतर नहीं पड़ता है।
अंदर शांति मिलती है या अशांति मिलती है;
मेरी ऊर्जा बढ़ती है या घटती है।
मेरा विस्तार होता है या मैं सिकुड़ जाता हूं;
मैं सहज रहता हूं या असहज हो जाता हूं।
मेरा मनोबल बढ़ता है या गिर जाता है;
मेरे अंदर जीवन खिलने लगता है या मुरझाने लगता है।।6।।


निज अनुभव;
भविष्य की झलक है;
इसी दिशा में स्वयं बढ़ते जाएं तो जो मिल सकता है, उसी की झलक है;
अनुभव, एक निज सेतु है, जो भविष्य से जुड़ा होने के कारण उसकी झलक दिखलाता है।

अनुभव, एक निज सेतु है।


उदय पूना

अगला लेख: निज भाषा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 दिसम्बर 2018
जी
जीवन यात्रा कदम कदम, जिन्दगी बढ़ती रहती, आगे की ओर;बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापे की ओर।. . . . जवानी से बुढ़ापे की ओर।। जीवन में आते हैं, कुछ ऐसे क्षण;शादी, सेवनिवृत्ती हैं, कुछ ऐसे ही क्षण। जब बदल जाती है जिंदगी, एकदम से;. . . . एकदम से;सिर्फ एक कदम च
04 दिसम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
दो
- = + = दोराहा - = + =हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा हर क्षण, नया क्षण, सदा साथ लाता है दोराहा;भटकन से भरा, स्थायित्व से भरा होता है दोराहा। जिसे जो राह चलन
28 नवम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
मा
मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??मां का, समाज, व्यक्ति और संतान, करें इतना सम्मान;<p style="color: rgb(34, 34, 34); font-fam
09 दिसम्बर 2018
13 दिसम्बर 2018
माध्यम की भाषा (1)जिस कार्य-क्षेत्र में उपयोग में आती रहे जो भाषा; उस क्षेत्र केलिए विकसित होती रहती वो भाषा। काम केलिए उपयोग में न लाएं निज-भाषा; फिर क्यों कहें विकसित नहीं हमारी निज भाष।।(2)व्यक्तिगत क्षमता, सामूहिक क्षमता में; सार्वजनिक रूप में, सरकारी काम में;भ
13 दिसम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
क्
भूमिका : जब हम महान उद्देश्य लेकर चलते हैं, महान अभियान पर चलते हैं;बड़े महत्वपूर्ण कार्य को पूर्ण करने केलिए हम सब मिलजुल कर आगे बढ़ते हैं;तब हम उद्देश्य प्राप्ति केलिए संवाद करते हैं। तब हम वास्तविकता से जुड़ते जाने केलिए संवाद करते हैं;जीवन को अच्छा बनाने केलिए संवाद
03 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
** ज्ञान की ओर - ( मनन - 2 ) **हम ज्ञान की ओर तभी बढ़ेंगे;जब हमें जानने की इच्छा हो;उत्सुकता हो;हमारे स्वयं के निज ज्ञान में क्या है या क्या नहीं है कि स्पष्टता हो;हमारे स्वयं के निज अनुभव में क्या आया है या क्या नहीं आया है कि स्पष्टता हो। एक उदाहरण लेलें, तो बात औ
18 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x