"सिंहावलोकनी दोहा"

08 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (52 बार पढ़ा जा चुका है)

विधान- 13-11 की यति, चौपाई की अर्धाली व दोहा का सम चरण, सम चरण का अंतिम शब्द विषम चरण का पहला शब्द हो, यही इस दोहा की विशेषता है


"सिंहावलोकनी दोहा"



परम मित्र नाराज है, कहो न मेरा दोष।

दोष दाग अच्छे नही, मन में भरते रोष।।-1


रोष विनाशक चीज है, भरे कलेश विशेष।

विशेष मित्र से प्यार कर, करहु न गैर भरोष।।-2


भरोष हनन तो न करें, नाहक बढ़ती पीर।

पीर तीर से घातकी, दवा नहीं तपकीर।।-3


तपकीर तमस चासनी, करती बहुत अधीर।

अधीर कहाँ खुशाल है, नैन तरसते नीर।।--4


नीर निकलता आँख से, देह दुलार सुमार।

सुमार सहित परिधान पन, भूषन व्यसन विकार।।-5


विकार दुख देता सदा, मानो मन की बात

बात न कड़वी बोलिये, तड़फाये दिन-रात।।-6


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "मुक्तक"



महातम मिश्रा
12 दिसम्बर 2018

रचना को विशिष्ट श्रेणी का सम्मान प्रदान करने के लिए मंच का हृदय से आभारी हूँ

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 दिसम्बर 2018
छन्द- सीता (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी - 2122 2122 2122 212 अथवा लगावली- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा पारंपरिक सूत्र - राजभा ताराज मातारा यमाता राजभा (अर्थात र त म य र)"गीतिका" छा रही कैसी बलाएँ क्या बताएँ साथियोंद्वंद के बाजार मे
18 दिसम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
"
"पद"कोयल कुहके पिय आजाओ,साजन तुम बिन कारी रैना, डाल-पात बन छाओ।।बोल विरह सुर गाती मैना, नाहक मत तरसाओ ।भूल हुई क्यों कहते नाहीं, आकर के समझाओ।।जतन करूँ कस कोरी गगरी, जल पावन भर लाओ।सखी सहेली मारें ताना, राग इतर मत गाओ।।बोली ननद जिठानी गोली, आ देवर धमकाओ।बनो सुरक्षा कव
04 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
"
"हाइकु" ठंडी की ऋतुघर घर अलावबुझती आग।।-1गैस का चूल्हान आग न अलावठिठुरे हाथ।।-2नया जमानासुलगता हीटर धुआँ अलाव।।-3नोटा का कोटाअसर दिखलायामुरझा फूल।।-4खिला गुलाबउलझा हुआ काँटामूर्छित मन।।-5महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
12 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
"
30 नवम्बर 2018
"
29 नवम्बर 2018
"
24 नवम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x