"मुक्तक" हार-जीत के द्वंद में, लड़ते रहे अनेक। किसे मिली जयमाल यह, सबने खोया नेक।

15 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (51 बार पढ़ा जा चुका है)

"मुक्तक"


हार-जीत के द्वंद में, लड़ते रहे अनेक।

किसे मिली जयमाल यह, सबने खोया नेक।

बर्छी भाला फेंक दो, विषधर हुई उड़ान-

महँगे खर्च सता रहे, छोड़ो युद्ध विवेक।।-1


हार-जीत किसको फली, ऊसर हुई जमीन।

युग बीता विश्वास का, साथी हुआ मशीन।

बटन सटन है साथ में, लगा न देना हाथ-

यंत्र- यंत्र में तार है, जुड़ मत जान नगीन।।-2


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "पद" कोयल कुहके पिय आजाओ, साजन तुम बिन कारी रैना,डाल पात बन छाओ।।



महातम मिश्रा
21 दिसम्बर 2018

मंच व मित्रों का हृदय से आभारी हूँ, इस सृजन को विशिष्ट रचना का सम्मान देने के लिए व दैनिक पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिए, सादर नमन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 दिसम्बर 2018
"कुंडलिया" पाया प्रिय नवजात शिशु, अपनी माँ का साथ।है कुदरत की देन यह, लालन-पालन हाथ।।लालन-पालन हाथ, साथ में खुशियाँ आए।घर-घर का उत्साह, गाय निज बछड़ा धाए।।कह गौतम कविराय, ठुमुक जब लल्ला आया।हरी हो गई गोंद, मातु ने ममता पाया।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
21 दिसम्बर 2018
01 दिसम्बर 2018
छंद - द्विगुणित पदपादाकुलक चौपाई (राधेश्यामी) गीत, शिल्प विधान मात्रा भार - 16 , 16 = 32 आरम्भ में गुरु और अंत में 2 गुरु "राधेश्यामी गीत" अब मान और सम्मान बेच, मानव बन रहा निराला है।हर मुख पर खिलती गाली है, मन मोर हुआ मतवाला है।।किससे कहना किसको कहना, मानो यह गंदा नाला है।सुनने वाली भल जनता है, कह
01 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
"
"मुक्तक" देखिए तो कैसे वो हालात बने हैं।क्या पटरियों पै सिर रख आघात बने हैं।रावण का जलाना भी नासूर बन गया-दृश्य आँखों में जख़्म जल प्रपात बने हैं।।-1देखन आए जो रावण सन्निपात बने हैं।कुलदीपक थे घर के अब रात बने हैं।त्योहारों में ये मातम सा क्यूँ हो गया-क्या रावण के मन के सौगात बने हैं।।-2महातम मिश्र,
21 दिसम्बर 2018
02 दिसम्बर 2018
"
लघुकथा "अब कितनी बार बाँटोगे"अब कितनी बार बाँटोगे यही कहकर सुनयना ने सदा के लिए अपनी बोझिल आँख को बंद कर लिया। आपसी झगड़े फसाद जो बंटवारे को लेकर हल्ला कर रहे थे कुछ दिनों के लिए ही सही रुक गए। सुनयना के जीवन का यह चौथा बंटवारा था जिसको वह किसी भी कीमत पर देखना नहीं चाहती थी। सबने एक सुर से यही कहा
02 दिसम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
"
वज़्न--212 212 212 212 अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— लुभाते (आते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे"गज़ल"छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहेझूठ के सामने सच छुपाते रहे जान लेते हक़ीकत अगर वक्त कीसच कहुँ रूठ जाते ऋतु रिझाते रहे।।ये सहज तो न था खेलना आग सेप्यास को आब जी भर प
04 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
"
30 नवम्बर 2018
"
12 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x