प्यार के बहुतेरे रंग

17 दिसम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (9 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

प्यार के बहुतेरे रंग

विजय कुमार तिवारी


याद करो मैंने पूछा था-

तुम्हारी कुड़माई हो गयी?

यह एक स्वाभाविक प्रश्न था,

तुमने बुरा मान लिया,

मिटा डाली जुड़ने की सारी सम्भावनायें

और तोड़ डाले सारे सम्बन्ध।

प्यार की पनपती भावनायें वासना की ओर ही नहीं जाती,

वे जाती हैं-भाईयों की सुरक्षा में,पिता के दुलार में,

वे जाती हैं-माँ की गोद में,बहनों की बाहों में,

और दोस्तों की खुल्लम-खुल्ला बातों में।

तुम्हें शायद इन सबमें देखने की आदत नहीं है,

तुमने तो समझा है केवल वही खेल,

तुमने देखी है शायद वही दुनिया।

सालों बाद मिली किसी की उलाहनाओं में

कूद पड़ी बिना समझे-बुझे

तुमने कहा-ये महाशय ऐसे ही हैं।

तुम क्या जानो-कैसा हूँ मैं?

कैसी हैं मेरी भावनायें और कैसी है मेरी दुनिया?

तुमने अपना परिचय दे डाला है,

दिखा दी अपनी सोच और अपनी दुनिया।

आओ मेरे दोस्त,एक मौका भगवान ने फिर दिया है,

तुम भी समझ लो मेरी तरह-

प्यार के बहुतेरे रंग होते हैं और जुड़ने के बहुत से रास्ते।


अगला लेख: ट्रेन यात्रा



रेणु
17 दिसम्बर 2018

सद्भावनाओं को आमन्त्रण देती रचना आदरणीय विजय जी -- सचमुच -
प्यार के बहुतेरे रंग होते हैं और जुड़ने के बहुत से रास्ते।
पर सबके लिए सब रस्ते आसन नहीं होते |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 दिसम्बर 2018
छवि एक दूजे की दिल में, जहाँ में जब समाती है तभी बदनॉ को आपस में, महक फूलों की आती है अगर है मैल इस दिल में, हर इक रिश्ता हैं बेमानीना जाने क्यों मगर दुनिया यहाँ, इनको निभाती हैएक उल्फ़त के प्यासे को, जहाँ मिलती है ये दौलतदरो दीवार उस घर की, उसे हर पल बुलाती हैबड़ा
12 दिसम्बर 2018
15 दिसम्बर 2018
कहानीअन्तर्मन की व्यथाविजय कुमार तिवारी"है ना विचित्र बात?"आनन्द मन ही मन मुस्कराया," अब भला क्या तुक है इस तरह जीवन के बिगत गुजरे सालों में झाँकने का और सोयी पड़ी भावनाओं को कुरेदने का?अब तो जो होना था, हो चुका,जैसे जीना था,जी चुका। ऐसा भी तो नही हैं कि उसका बिगत जीवन बह
15 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
लो वादा कर दिया मैंने तुम्हें ना याद करने कारकीबों को मिलेगा अब पूरा मौका संवरने कामेरी चिंता नहीं करना मौत मुझको ना आएगीमुझे मालूम है रस्ता हर एक ग़म से उबरने कासभी ये जानते हैं छोर पे उस कुछ ना पाओगेलेकिन मज़ा कितना है राहे उल्फ़त गुजरने काख्वाइशें तैरने की तो ज़माने भर की रहती हैंसफलता को मगर फन चा
07 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
04 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
ट्
18 दिसम्बर 2018
13 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
मा
16 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x