विश्वास, अविश्वास, और विज्ञान मार्ग गाथा ( मनन - 3 )

19 दिसम्बर 2018   |  उदय पूना   (28 बार पढ़ा जा चुका है)

* विश्वास,अविश्वास,और विज्ञान मार्ग गाथा *

( मनन - 3 )


विश्वास-मार्ग,अविश्वास-मार्ग,और विज्ञान-मार्ग की यह गाथा है;

जानना है, क्या हैं इनको करने के आधार-मार्ग, और समझना इनकी गाथा है।01।


बिना जाने ही स्वीकार कर लेना *विश्वास* है;

निज अनुभव में आधार नहीं है कि स्वीकार किया जाये;

फिर भी बिना आधार के ही स्वीकार कर के चलने लगना *विश्वास* है।


और, बिना जाने ही नकार देना *अविश्वास* है;

निज अनुभव में आधार नहीं है कि नकार दिया जाये,

फिर भी बिना आधार के ही नकारते हुये चलने लगना *अविश्वास* है।02-i।


दोनों में ही सचाई का द्वार बंद करते हैं हम;

और खोज करने का द्वार भी बंद करते हैं हम।

गलती से नया मिल जाये तो अलग बात है;

पर यैसा नहीं पहचानेंगे हम, इसे उपलब्धि के रूप में देखेंगे;

और अपनी मान्यता का प्रसाद मानेंगे हम।02-ii।


कुछ नया करने का मार्ग बंद है;

उन्नति करने का भी मार्ग बंद है।

संक्षेप में इतना ही सार है;

दो पहलू हैं पर सिक्का एक है।02-iii।


प्रगति का मार्ग खुलता गया वैज्ञानिक-सोच से;

नया करने का मार्ग खुलता गया वैज्ञानिक-सोच से।

वैज्ञानिक-सोच ने जानने का मार्ग अपनाया, जो मार्ग प्रमाणित किया जा सके उस पर आगे बढे;

जो कार्य पहले असंभव थे, संभव होने लगे;

तथ्य को लेकर चले तो प्रगति के द्वार पर द्वार खुलने लगे।04।


*विज्ञान-मार्ग*, मतलब विज्ञान करने का आधार मार्ग, की सफलता को देखकर;

क्या हम जीवन के दूसरे पहलुओं पर पुनर्विचार को तैयार नहीं ??

क्या हम *विज्ञान-मार्ग* पर अभी ही चलने को तैयार नहीं ??


क्या हमें वैज्ञानिक-सोच की उपलब्धियां दिखती नहीं ??

क्या यह हमें झकझोरने को पर्याप्त नहीं ??

क्या अभी भी हमारी नींद खुली नहीं ??

कितना जड़त्व (Inertia) है जो टूटेगा नहीं ??


न विशवास करना है, न अविश्वास करना है;

जानने का प्रयास करते जाना है;

जो जो प्रमाणित हो सके, सिद्ध हो सके उसे स्वीकारना है;

जो जो खंडित हो जाये उसे छोड़ना है;

*विज्ञान-मार्ग* से क्रांति होने का क्रम चलता जायेगा;

जीवन में अच्छे अच्छे बदलाव होने का क्रम चलता जायेगा।05।


जिसका ज्ञान नहीं, अनुभव नहीं, उससे जुडी कोई धारणा बनानी नहीं;

बिना जाने, न सहमत होना है, न असहमत होना है;

न स्वीकार करना है, न अस्वीकार करना है।


सभी तरह के अंध-विश्वासों से मुक्त होना है;

विश्वास और अविश्वास करके चलने से मुक्त होना है।


जानते जाना, जानते जाने का ही मार्ग अपनाना है;

और जीवन में क्रांति का क्रम चलाते जाना है।06।


उदय पूना,

92847 37432,

अगला लेख: मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??



उदय पूना
19 दिसम्बर 2018

मनन धारा के अंतर्गत तीन रचनाएं प्रकाशित कीं हैं; तीनों रचनाओं को एक साथ लेकर चलने से इसका सन्देश अधिक स्पष्ट होगा;
हमें ज्ञान मिले और हम सर्वांगीण प्रगति की ओर बढ़ते जाएं;
प्रणाम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 दिसम्बर 2018
कु
हिंदी भाषा के अनुसार, हम जो हिंदी काम लाते हैं, उसे सुधारने का एक छोटा प्रयास। हम जो बोलना / कहना चाहते हैं, तो उच्चारण का ध्यान रखना आवश्यक है, तभी हमें सफलता मिलेगी, तब हम वो बोल पाएंगे। इसी तरह हम जो लिखना चाहते हैं, तो हम वही लिखें
23 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
वि
विपरीत के विपरीत कुछ-कुछ लोग कुछ-कुछ शब्दों को भूल गए, बिसर गए;हमारे पास शब्द हैं, उपयुक्त शब्द हैं, पर कमजोर शब्द पर आ गए। कुछ-कुछ शब्दों के अर्थ भी भूल गए, बिसर गए;और गलत उपयोग शुरू हो गए;मैं भी इन कुछ-कुछ लोगों में हूं, हम जागरूकता से क्यों दूर हो गए।।अनिवार्य है,इस विपरीत धारा के विपरीत जाना;भाष
05 दिसम्बर 2018
06 दिसम्बर 2018
झगड़ा और दुश्मनीयदि आपस में कुछ या गंभीर;मनमुटाव, गलतफहमी, तकलीफ, घाटा आदि हो जाये;और बहुत गुस्सा आ जाये;तो भले ही छोटा झगड़ा कर लेना;पर दुश्मनी करना नहीं।। दुश्मनी कर लेने के बाद, पछताना ही शेष रहता है;फिर रिश्ता बचता ही नहीं; फिर से एक
06 दिसम्बर 2018
09 दिसम्बर 2018
मा
मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??मां का, समाज, व्यक्ति और संतान, करें इतना सम्मान;<p style="color: rgb(34, 34, 34); font-fam
09 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x