औरत - मां से पहले पत्नी थी : ( प्रश्न - उत्तर, चिंतन 1 )

20 दिसम्बर 2018   |  उदय पूना   (60 बार पढ़ा जा चुका है)

औरत - मां से पहले पत्नी थी : ( प्रश्न - उत्तर, चिंतन 1 )


आवश्यक है, अनिवार्य है मां का सम्मान;

मां, बच्चे का जीवन है, क्यों न हो

मां का सम्मान।


इस के संबंध में कुछ चर्चा करते हैं;

मां पहले पत्नी थी, पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??


मां का; समाज, व्यक्ति और संतान; करें इतना सम्मान;

पहले पहले मां पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??


कृपया ध्यान दें, विचार करें :


पत्नी रूप से ही देना शुरू हो सम्मान;

तब वो, मन और शरीर से, स्वस्थ रहेगी;

मां बनने केलिए पूर्णरूप से तैयार रहेगी;

फिर और भी सार्थक हो जायेगा मां का सम्मान।।


तब संतान और भी स्वस्थ होगी;

और भी बढ़ जाएगा, देश परिवार समाज का सम्मान।।


उदय पूना,

92847 37432,


विशेष :

इस रचना में जो इशारा है उस के सबंध में आपकी क्या राय है ?

आपका क्या सुझाव है ?

अभी तक जीवन में, इस संबंध में आप ने क्या देखा है ?


उदय पूना,

92847 37432,

अगला लेख: मां पहले पत्नी थी; पत्नी रूप में कितना था सम्मान ??



उदय पूना
21 दिसम्बर 2018

शब्दनगरी मंडल ने इस रचना को आज की सर्वश्रेष्ठ रचना के रूप में चयनित कर के और इसे आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर प्रकाशित करके सम्मान किया है| साधुवाद, प्रणाम; समाज पर चर्चा होते रहना चाहिए;

उदय पूना
20 दिसम्बर 2018

इस पर विचार करें, यहां अपनी राय अवश्य लिखें; प्रणाम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 दिसम्बर 2018
वि
* विश्वास,अविश्वास,और विज्ञान मार्ग गाथा * ( मनन - 3 )विश्वास-मार्ग,अविश्वास-मार्ग,और विज्ञान-मार्ग की यह गाथा है;जानना है, क्या हैं इनको करने के आधार-मार्ग, और समझना इनकी गाथा है।01।बिना जाने ही स्वीकार कर लेना *विश्वास* है;निज अनुभव में आधार नह
19 दिसम्बर 2018
13 दिसम्बर 2018
माध्यम की भाषा (1)जिस कार्य-क्षेत्र में उपयोग में आती रहे जो भाषा; उस क्षेत्र केलिए विकसित होती रहती वो भाषा। काम केलिए उपयोग में न लाएं निज-भाषा; फिर क्यों कहें विकसित नहीं हमारी निज भाष।।(2)व्यक्तिगत क्षमता, सामूहिक क्षमता में; सार्वजनिक रूप में, सरकारी काम में;भ
13 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
II अनुभव : एक निज सेतु IIहमारा निज अनुभव, मनोभाव के स्तर पर, हमें बतलाता है कि भविष्य में स्वयं के अंदर कैसे भाव उभरेंगे ? अंदर के भावों की द्रष्टि से, निज अनुभव हमारे स्वयं के लिए हमारे स्वयं के वर्तमान से निकलते हुये भविष्य की झलक
07 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x