देहरी

23 दिसम्बर 2018   |  sweta sinha   (28 बार पढ़ा जा चुका है)

देहरी  - शब्द (shabd.in)

तन और मन की देहरी के बीच भावों के उफनते अथाह उद्वेगों के ज्वार सिर पटकते रहते है। देहरी पर खड़ा अपनी मनचाही इच्छाओं को पाने को आतुर चंचल मन, अपनी सहुलियत के हिसाब से तोड़कर देहरी की मर्यादा पर रखी हर ईंट बनाना चाहता है नयी देहरी भूल कर वर्जनाएँ भँवर में उलझ मादक गंध में बौराया अवश छूने को मरीचिका के पुष्प अंजुरी भर तृप्ति की चाह लिये अतृप्ति के अनंत प्यास में तड़पता है नादान है कितना समझना नहीं चाहता देहरी के बंधन से व्याकुल मन उन्मुक्त नभ सरित के अमृत जल पीकर भी घट मन की इच्छाओं का रिक्त ही रहेगा। #श्वेता सिन्हा

अगला लेख: दिसम्बर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x