@छंदमुक्त काव्य"

27 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

..!

छंदमुक्त काव्य, बदलता मौसम


तुम ही हो मेरे बदलते मौसम के गवाह

मेरे सावन की सीलन

मेरे मन की कुढ़न

मेरी गर्मी की तपन

मेरे शिशिर की छुवन

मधुमास की बहार हो तुम।।


तुम ही होे मेरे उम्र की पहचान

मेरे चेहरे पर सेहरे की शान

तुम ही बहार हो तुम ही संसार हो

कहो तो हटा दूँ इन फूलों की लड़ियों को

दिखा दूँ वह ढ़का हुआ चाँद

मेर जीवन की खिली हुई चाँदनी हो तुम।।


तुम्ही हो मेरी खुशियों की उफ़ान

मेरी शहनाई की रागिनी

मेरे हवा की आँधी

मेरे सूरज की लालिमा हो

मेरे पथ का विश्राम, सपनों की नींद

मेरी दोपहरी, मेरे रात की खनकती शाम हो तुम

मेरी बरखा, ग्रीष्म, शरद, हेमंत, शिशिर और ऋतुराज बसंत हो तुम।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: "भोजपुरी गीत" साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई जाओ जनि छोड़ी के बखरिया झूले तिरई....... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई




मंच व मित्रों का हृदय से आभारी हूँ, इस छंदमुक्त काव्य सृजन को विशिष्ट रचना का सम्मान देने के लिए व दैनिक पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिए, सादर नमन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 दिसम्बर 2018
"
"मुक्तक" नहीं सहन होता अब दिग को दूषित प्यारे वानी। हनुमान को किस आधार पर बाँट रहा रे प्रानी।जना अंजनी से पूछो ममता कोई जाति नहीं-नहीं किसी के बस होता जन्म मरण तीरे पानी।।-1मानव कहते हो अपने को करते दिग नादानी।भक्त और भगवान विधाता हरि नाता वरदानी।गज ऐरावत कामधेनु जहँ पीपल पूजे जाते-लिए जन्म भारत मे
28 दिसम्बर 2018
15 दिसम्बर 2018
"
"मुक्तक" हार-जीत के द्वंद में, लड़ते रहे अनेक।किसे मिली जयमाल यह, सबने खोया नेक।बर्छी भाला फेंक दो, विषधर हुई उड़ान-महँगे खर्च सता रहे, छोड़ो युद्ध विवेक।।-1हार-जीत किसको फली, ऊसर हुई जमीन।युग बीता विश्वास का, साथी हुआ मशीन।बटन सटन है साथ में, लगा न देना हाथ-यंत्र- यंत्र में तार है, जुड़ मत जान नगीन।।-2
15 दिसम्बर 2018
08 जनवरी 2019
"
"देशज गीत" सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइलनजरिया के नूर सैंया दूर काहें कइलरचिको न सोचल झुराइ जाइ लौकीकोहड़ा करैला घघाइल छान चौकीबखरिया के हूर राजा दूर काहें गइल..... सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइलकहतानि आजा बिहान होइ कइसेझाँके ला देवरा निदान होइ कइसेनगरिया के झूठ सैंया फूर काहें कइल..... सजरिया स
08 जनवरी 2019
26 दिसम्बर 2018
वज़्न--212 212 212 212, अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— करते, (अते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे"गज़ल" पास आती न हसरत बिखरते रहेचाहतों के लिए शोर करते रहेकारवाँ अपनी मंजिल गया की रुकाकुछ सरकते रहे कुछ फिसलते रहे।।चंद लम्हों की खातिर मिले थे कभीकुछ भटकते रहे कु
26 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
11 जनवरी 2019
21 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x