@छंदमुक्त काव्य"

27 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (8 बार पढ़ा जा चुका है)

..!

छंदमुक्त काव्य, बदलता मौसम


तुम ही हो मेरे बदलते मौसम के गवाह

मेरे सावन की सीलन

मेरे मन की कुढ़न

मेरी गर्मी की तपन

मेरे शिशिर की छुवन

मधुमास की बहार हो तुम।।


तुम ही होे मेरे उम्र की पहचान

मेरे चेहरे पर सेहरे की शान

तुम ही बहार हो तुम ही संसार हो

कहो तो हटा दूँ इन फूलों की लड़ियों को

दिखा दूँ वह ढ़का हुआ चाँद

मेर जीवन की खिली हुई चाँदनी हो तुम।।


तुम्ही हो मेरी खुशियों की उफ़ान

मेरी शहनाई की रागिनी

मेरे हवा की आँधी

मेरे सूरज की लालिमा हो

मेरे पथ का विश्राम, सपनों की नींद

मेरी दोपहरी, मेरे रात की खनकती शाम हो तुम

मेरी बरखा, ग्रीष्म, शरद, हेमंत, शिशिर और ऋतुराज बसंत हो तुम।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: "भोजपुरी गीत" साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई जाओ जनि छोड़ी के बखरिया झूले तिरई....... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई




मंच व मित्रों का हृदय से आभारी हूँ, इस छंदमुक्त काव्य सृजन को विशिष्ट रचना का सम्मान देने के लिए व दैनिक पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिए, सादर नमन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 दिसम्बर 2018
छंद - " मदिरा सवैया " (वर्णिक ) *शिल्प विधान सात भगण+एक गुरु 211 211 211 211 211 211 211 2 भानस भानस भानस भानस भानस भानस भानस भा"छंद मदिरा सवैया" वाद हुआ न विवाद हुआ, सखि गाल फुला फिरती अँगना।मादक नैन चुराय रहीं, दिखलावत तैं हँसती कँगना।।नाचत गावत लाल लली, छुपि पाँव महावर का रँगना।भूलत भान बुझावत हौ
15 दिसम्बर 2018
08 जनवरी 2019
"
मापनी-1222 1222 1222 1222, समान्त- आर का स्वर, पदांत- हो जाना"गीतिका"अभी है आँधियों की ऋतु रुको बाहार हो जानाघुमाओ मत हवाओं को अजी किरदार हो जानावहाँ देखों गिरे हैं ढ़ेर पर ले पर कई पंछीउठाओ तो तनिक उनको सनम खुद्दार हो जाना।।कवायत से बने है जो महल अब जा उन्हें देखोभिगाकर कौन रह पाया नजर इकरार हो जाना
08 जनवरी 2019
21 दिसम्बर 2018
"कुंडलिया" पाया प्रिय नवजात शिशु, अपनी माँ का साथ।है कुदरत की देन यह, लालन-पालन हाथ।।लालन-पालन हाथ, साथ में खुशियाँ आए।घर-घर का उत्साह, गाय निज बछड़ा धाए।।कह गौतम कविराय, ठुमुक जब लल्ला आया।हरी हो गई गोंद, मातु ने ममता पाया।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
21 दिसम्बर 2018
01 जनवरी 2019
"
"छड़, मकान और छत"ठिठुर रहा है देश, ठिठुर रहें हैं खेत, ठंड की चपेट में पशु-पंछी, नदी, तालाब और अब महासागर भी जमने लगे हैं अपने खारे पानी को उछालते हुए, लहरों को समेटते हुए। शायद यही कुदरत की शक्ति है जिसे इंसान मानता तो है पर गाँठता नहीं। आज वह बौना बना हुआ है और काँप रहा है अपनी अकड़ लिए पर झुकने को
01 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
"
28 दिसम्बर 2018
11 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x