"मदिरा सवैया"

29 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (141 बार पढ़ा जा चुका है)

सवैया "मदिरा" मापनी -- 211/211/211/211/211/211/211/2


"छंद मदिरा सवैया"


नाचत गावत हौ गलियाँ प्रभु गाय चरावत गोकुल में।

रास रचावत हौ वन में क्यों धूल उड़ावत गोधुल में।।

जन्म लियो वसुदेव घरे मटकी लुढ़कावत हौ तुल में।

मोहन मोह मयी मुरली मन की ममता महके मुल में।।-1


आपुहिं आपु गयो तुम माधव धाम बसा कर छोड़ गए।

का गति आज भई यमुना जल मीन पिलाकर मोड़ गए।।

लागत नीक न शोभत साधक साधु बनाकर जोड़ गए।

आपु भले अपना समझे पर प्रीत पढ़ाकर तोड़ गए।।-2


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "भोजपुरी गीत" साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई जाओ जनि छोड़ी के बखरिया झूले तिरई....... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई



मंच व मित्रों का हृदय से आभारी हूँ, मदिरा छंद सृजन को श्रेष्ठ रचना का सम्मान देने के लिए व मुख्य पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिए, सादर नमन

आप को भी नव वर्ष की मांगलिक बधाई बहन, सपरिवार शुभाशीष

रेणु
31 दिसम्बर 2018

आदरणीय भैया -- नववर्ष की बेला पर आपको सपरिवार हार्दिक बधाई और शुभकामनायें | नववर्ष आप और आपके परिवार के लिए अत्यंत सुखद और मंगलकारी हो यही कामना है | सपरिवार सलामत रहिये मेरे भाई |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 दिसम्बर 2018
छन्द- सीता (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी - 2122 2122 2122 212 अथवा लगावली- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा पारंपरिक सूत्र - राजभा ताराज मातारा यमाता राजभा (अर्थात र त म य र)"गीतिका" छा रही कैसी बलाएँ क्या बताएँ साथियोंद्वंद के बाजार मे
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
"कुंडलिया" पाया प्रिय नवजात शिशु, अपनी माँ का साथ।है कुदरत की देन यह, लालन-पालन हाथ।।लालन-पालन हाथ, साथ में खुशियाँ आए।घर-घर का उत्साह, गाय निज बछड़ा धाए।।कह गौतम कविराय, ठुमुक जब लल्ला आया।हरी हो गई गोंद, मातु ने ममता पाया।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
21 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
"
"छंदमुक्त काव्य"कूप में धूपमौसम का रूप चिलमिलाती सुबहठिठुरती शाम है सिकुड़ते खेत, भटकती नौकरीकर्ज, कुर्सी, माफ़ी एक नया सरजाम हैसिर चढ़े पानी का यह कैसा पैगाम है।।तलाश है बाली कीझुके धान डाली कीसूखता किसान रोजगुजरती हुई शाम है कुर्सी के इर्द गिर्द छाया किसान हैखेत खाद बीज का भ्रामक अंजाम हैसिर चढ़े पानी
19 दिसम्बर 2018
11 जनवरी 2019
"कुंडलिया"मेला कुंभ प्रयाग का, भक्ति भव्य सैलाबजनमानस की भावना, माँ गंगा पुर आबमाँ गंगा पुर आब, लगे श्रद्धा की डुबकीस्वच्छ सुलभ अभियान, दिखा नगरी में अबकीकह गौतम कविराय, भगीरथ कर्म न खेलाकाशी और प्रयाग, रमाये मन का मेला।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
11 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x