जीवन पिरामिड की तरह

03 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (85 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन पिरामिड की तरह!


न भला हैं, न बुरा हैं कोई।

हस कर जीवन जीने की कला हैं सब मे।

रम गए हैं,कदम किसी जगह मे पिरामिड की तरह।

यह चतुर दुनियाँ वाले सब जानते हैं।

बोलते भी हैं, अपनों से, मै तुम्हारा कौन हूँ?

यह ज़िंदगी भी सवालियाँ निशान बन गई हैं ।

इन्ही सवालो को खोजती रह गई हैं ज़िंदगी भवसागरों मे।

मिलता हैं टूटाफूटा जवाब, जो है एक दरार की तरह।

जिससे जनता राजनेता सभी निकलते हवा की तरह।

बचना सभी जानते हैं, इस भौसगर से,बिन नाव के।

कौन आयेगा उबारने भवर मे फसी ज़िंदगी की नय्या को?

बन गई ज़िंदगी एक नोक पिरामिड की तरह।

वह ऊँची होकर भी चुभती हैं ज़िंदगी को।

अगला लेख: छोड़ेंगे न साथ।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 दिसम्बर 2018
सब कुछ लागे नया-नया ।दे-दो जो देना चाहते हो नये साल मे,यह नया साल हर ठंडी मे ही आता हैं।भारतीय रीत रिवाज मे नया साल हम तब मनाते हैं जब हमारे देश का किसान व जवान दोनों खुश होते हैं। गाँव के खुले मैदान व खेतो मे बहन बेटियों की शादियाँ हो रही होती हैं। पेड़ों की छाव मे बिस्तर लगे होते हैं। कुआँ का ठंडा
31 दिसम्बर 2018
15 जनवरी 2019
पहले के दास आज के संत-योगी आज के संतो व योगी मे बहुत फर्क हैं। पहले का दास राजा के अधीन होकर अपनी रचनाओं से उन्हे सब कुछ बता देते थे। इनाम पाकर अपने आप को धन्य समझते थे। आज के योगी संत, राजा बनकर भी कुछ नहीं हासिल कर पाते। भगवान को, वह अपना आईना समझते हैं, और उसमे अपना बंदरो की तरह बार-बार चेहरा द
15 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x