स्नेह निर्झर

03 जनवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (19 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

स्नेह निर्झर

विजय कुमार तिवारी


और ठहरें,चाहता हूँ,

चाँदनी रात में,नदी की रेत पर।

कसमसाकर उमड़ पड़ती है नदी,

उमड़ता है गगन मेरे साथ-साथ।

पूर्णिमा की रात का है शुभारम्भ,

हवा शीतल,सुगन्धित।

निकल आया चाँद नभ में,

पसर रही है चाँदनी मेरे आसपास,

सिमट रही है पहलू में।

धूमिल छवि ले रही आकर,

सहमी,संकुचित लिये वयभार।

खिला यौवन,खिले अधरोष्ठ,

निखरता तन और खिल रहा मन।

फैलता मकरन्द,नदी कल-कल तरंगित

मिलन-उन्माद, उमंग और आनन्दित।

और ठहरें, साथ-साथ,

जी सकें कुछ शान्ति के क्षण,प्रीति में,

पी सकें कुछ स्नेह निर्झर।


अगला लेख: देश बचाना



रेणु
04 जनवरी 2019

बहुत सुंदर शब्द चित्र विजय जी। आकंठ अनुराग की कामना पिरोती रचना के लिए हार्दिक बधाई और नव वर्ष की शुभकामनाएँ।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जनवरी 2019
कहते है कि.... गरीबों की बस्ती मे... भूक और प्यास बस्ती है... आँखों में नींद मगर आँखें सोने को तरसती है... गरीबों की बस्ती मे... बीमारी पलती है... बीमारी से कम यहा भूक से ज्यादा जान जलती है... गरीबों की बस्ती मे... लाचारी बस्ती है... पैसे की लेनदेन मे ही जिंदगी यहा कटती है... गरीबों की बस्ती मे... श
09 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x