गरीबों की बस्ती

09 जनवरी 2019   |  Harshad kalidas molishree   (63 बार पढ़ा जा चुका है)

कहते है कि.... गरीबों की बस्ती मे... भूक और प्यास बस्ती है... आँखों में नींद मगर आँखें सोने को तरसती है... गरीबों की बस्ती मे... बीमारी पलती है... बीमारी से कम यहा भूक से ज्यादा जान जलती है... गरीबों की बस्ती मे... लाचारी बस्ती है... पैसे की लेनदेन मे ही जिंदगी यहा कटती है... गरीबों की बस्ती मे... शोर शराबा चलता है... भूक और लाचारी का शोर लोगों को ढोंग लगता है... गरीबों की बस्ती मे... फटे कपड़ो मे जब बेटी चलती है... परवाह उसकी इज्जत की कोन करे जब इज्जत को दुनिया कपड़ों सो टोलती है... गरीबों की बस्ती मे... हर एक ख्वाब उचाई छूने का देखा जाता है... कोन बताए गरीब से की ऊँचाई से हर बंदा गरीब नजर आता है... गरीबों की बस्ती मे... सपने टूट जाते है... यही टूटे सपने के कांच कचरे मे कभी कोहिनूर बन खिल आते है.... गरीबों की बस्ती मे... हर चीज़ सस्ती होती है रोटी से लेके इज्जत तक हर चीज का दाम ये रोज चुकोती है.... गरीबों की बस्ती मे... कही कोई अमीर पल रहा होता है... यही अमीर कल औरों को गरीब बोलता है... गरीबों की बस्ती मे... ऐश आराम की कमी है... इनकी जरूरत कम मगर फिर भी कुछ मांग अधूरी है... गरीबों की बस्ती मे... नफरत के बीज बोते है... हर दिल को छान मारो यहा लोग अक्सर मिलके रोते है... गरीबों की बस्ती मे... बेशक गम के रास्ते और मुश्किलों के पहाड़ है... इन्ही रास्तों मैं प्यार और जीने की राह है....

अगला लेख: मैं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
08 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
02 जनवरी 2019
दे
13 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
मै
21 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x