कुंडलिया

11 जनवरी 2019   |  महातम मिश्रा   (1 बार पढ़ा जा चुका है)

कुंडलिया - शब्द (shabd.in)

"कुंडलिया"


मेला कुंभ प्रयाग का, भक्ति भव्य सैलाब

जनमानस की भावना, माँ गंगा पुर आब

माँ गंगा पुर आब, लगे श्रद्धा की डुबकी

स्वच्छ सुलभ अभियान, दिखा नगरी में अबकी

कह गौतम कविराय, भगीरथ कर्म न खेला

काशी और प्रयाग, रमाये मन का मेला।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "चौपाई मुक्तक" वन-वन घूमे थे रघुराई, जब रावण ने सिया चुराई। रावण वधकर कोशल राई, जहँ मंदिर तहँ मस्जिद पाई।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 जनवरी 2019
"
"छड़, मकान और छत"ठिठुर रहा है देश, ठिठुर रहें हैं खेत, ठंड की चपेट में पशु-पंछी, नदी, तालाब और अब महासागर भी जमने लगे हैं अपने खारे पानी को उछालते हुए, लहरों को समेटते हुए। शायद यही कुदरत की शक्ति है जिसे इंसान मानता तो है पर गाँठता नहीं। आज वह बौना बना हुआ है और काँप रहा है अपनी अकड़ लिए पर झुकने को
01 जनवरी 2019
19 जनवरी 2019
"कुंडलिया"लेकर दीपक हाथ में, कर सोलह शृंगार।नृत्य नैन सुधि साधना, रूपक रूप निहार।।रूपक रूप निहार, नारि नख-शिख जिय गहना।पहने कंगन हार, लिलार सजाती बहना।।कह गौतम कविराय, परीक्षा पूरक देकर।यौवन के अनुरूप, सजी सुंदरता लेकर।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
19 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
छं
..!छंदमुक्त काव्य, बदलता मौसम तुम ही हो मेरे बदलते मौसम के गवाहमेरे सावन की सीलनमेरे मन की कुढ़न मेरी गर्मी की तपनमेरे शिशिर की छुवनमधुमास की बहार हो तुम।।तुम ही होे मेरे उम्र की पहचानमेरे चेहरे पर सेहरे की शानतुम ही बहार हो तुम ही संसार होकहो तो हटा दूँ इन फूलों की लड़ियों कोदिखा दूँ वह ढ़का हुआ चाँदम
27 दिसम्बर 2018
19 जनवरी 2019
"
वज़्न---122 122 122 122✍️अर्कान-- फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन✍️ क़ाफ़िया— आते स्वर की बंदिश) ✍️रदीफ़ --- बड़ी सादगी से "गज़ल"हँसा कर रुलाते बड़ी सादगी सेखिलौना छुपाते बड़ी सादगी सेहवा में निशाना लगाते हो तुम क्यों पखेरू उड़ाते बड़ी सादगी से।।परिंदों के घर चहचहाती खुशी हैगुलिस्ताँ खिलाते बड़ी सादगी से।।शिकारी कहू
19 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
"
मापनी-1222 1222 1222 1222, समान्त- आर का स्वर, पदांत- हो जाना"गीतिका"अभी है आँधियों की ऋतु रुको बाहार हो जानाघुमाओ मत हवाओं को अजी किरदार हो जानावहाँ देखों गिरे हैं ढ़ेर पर ले पर कई पंछीउठाओ तो तनिक उनको सनम खुद्दार हो जाना।।कवायत से बने है जो महल अब जा उन्हें देखोभिगाकर कौन रह पाया नजर इकरार हो जाना
08 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
"
28 दिसम्बर 2018
19 जनवरी 2019
"
11 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x