"मुक्तक"

11 जनवरी 2019   |  महातम मिश्रा   (2 बार पढ़ा जा चुका है)

"मुक्तक"


मंदिर रहा सारथी, अर्थ लगाते लोग।

क्या लिख्खा है बात में, होगा कोई ढोंग।

कौन पढ़े किताब को, सबके अपने रूप-

कोई कहता सार है, कोई कहता रोग।।-1


मंदिर परम राम का, सब करते सम्मान।

पढ़ना लिखना बाँचना, रखना सुंदर ज्ञान।

मत पढ़ना मेरे सनम, पहरा स्वारथ गीत-

चहरों पर आती नहीं, बे-मौसम मुस्कान।।-2


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "चौपाई मुक्तक" वन-वन घूमे थे रघुराई, जब रावण ने सिया चुराई। रावण वधकर कोशल राई, जहँ मंदिर तहँ मस्जिद पाई।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 दिसम्बर 2018
छं
..!छंदमुक्त काव्य, बदलता मौसम तुम ही हो मेरे बदलते मौसम के गवाहमेरे सावन की सीलनमेरे मन की कुढ़न मेरी गर्मी की तपनमेरे शिशिर की छुवनमधुमास की बहार हो तुम।।तुम ही होे मेरे उम्र की पहचानमेरे चेहरे पर सेहरे की शानतुम ही बहार हो तुम ही संसार होकहो तो हटा दूँ इन फूलों की लड़ियों कोदिखा दूँ वह ढ़का हुआ चाँदम
27 दिसम्बर 2018
27 दिसम्बर 2018
"कुंडलिया"मारे मन बैठी रही, पुतली आँखें मीच।लगा किसी ने खेलकर, फेंक दिया है कीच।।फेंक दिया है कीच, तड़फती है कठपुतली।हुई कहाँ आजाद, सुनहरी चंचल तितली।।कह गौतम कविराय, मोह मन लेते तारे।बचपन में उत्पात, बुढापा आ मन मारे।।महातम मिश्र, गौतम
27 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
भोजपुरी गीत, मात्रा भार-24, मुखड़ा समान्त- ए चिरई, अंतरा समान्त- क्रमशः खटिया,जनाना, जवानी,"भोजपुरी गीत"साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरईजाओ जनि छोड़ी के बखरिया झूले तिरई....... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरईदेख जुम्मन चाचा के अझुराइल खटियाहोत भिनसारे ऊ उठाई लिहले लठियागैया तुराइल जान हेराइ गईल बछवाखो
26 दिसम्बर 2018
19 जनवरी 2019
"
"चौपाई मुक्तक"वन-वन घूमे थे रघुराई, जब रावण ने सिया चुराई।रावण वधकर कोशल राई, जहँ मंदिर तहँ मस्जिद पाई।आज न्याय माँगत रघुवीरा, सुनो लखन वन वृक्ष अधिरा-कैकेई ममता विसराई, अवध नगर हति कागा जाई।।-1अग्नि परीक्षा सिया हजारों, मड़ई वन श्रीराम सहारो।सुनो सपूतों राम सहारो, जस
19 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
11 जनवरी 2019
19 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x