आसान नहीं था वो दिन मेरे लिए

13 जनवरी 2019   |  आयेशा मेहता   (79 बार पढ़ा जा चुका है)

आसान नहीं था वो दिन मेरे लिए  - शब्द (shabd.in)

उस दिन चूड़ियों से मैंअपने हाथ की नब्ज नहीं काटी , और न ही स्लीपिंग पिल्स का एक्स्ट्रा डोज लेकर ,

गहरी नींद में हमेशा के लिए सो गयी थी ,

जैसा की फिल्मों में अक्सर नायिका करती है ा

आसान नहीं था वो दिन मेरे लिए ,

टूटे दिल के तमाम टुकड़े को समेटकर ,

बनावटी मुस्कुराहट के पूछे विसर्जित करी थी ,

एक सैलाब सा आया हुआ था अंदर ,

पर आँखों से बूँद का एक कतरा भी नहीं निकला ,

एक चुप्पी चीख रही थी हृदय में कहीं ,

पर होठों से उफ़ तक नहीं निकला ,

एक तरफ मेरी जान मुझसे जुदा हो रही थी ,

तो दूसरी तरफ मैं जीने की रस्म निभा रही थी,

जाते जाते उसने यही तो कहा था मुझसे ,

''कहीं भी रहो पर ऐसे मत जीना की ऊँगली मुझ पर उठे''

हाँ उसका यही आखिरी लब्ज तो मेरी साँसों को थमने नहीं दिया ा

अगला लेख: जाग उठो ऐ बेटियों ,अब कोई तेरा रक्षक नहीं



अलोक सिन्हा
23 जनवरी 2019

अच्छी रचना है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x