देश बचाना

13 जनवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

देश बचाना

विजय कुमार तिवारी


स्वीकार करुँ वह आमन्त्रण

और बसा लूँ किसी की मधुर छबि,

डोलता फिरुँ, गिरि-कानन,जन-जंगल,

रात-रातभर जागूँ,छेडूँ विरह-तान

रचूँ कुछ प्रेम-गीत,बसन्त के राग।

या अपनी तरुणाई करुँ समर्पित,

लगा दूँ देश-हित अपना सर्वस्व,

उठा लूँ लड़ने के औजार

चल पड़ूँ बचाने देश,बढ़ाने तिरंगें की शान।

कुछ लूट रहे हैं देश,कर रहे गद्दारी,

जनता के दुश्मन हैं,महा महा व्यभिचारी,

उठो साथियों,पहचानो इनकी माया,

अभी समय है, पहले इनका नाश करो

देश बचेगा तभी बचेगी आन हमारी

जाति-धर्म के कुचक्रों का बिनाश करो।


अगला लेख: स्नेह निर्झर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 जनवरी 2019
चु
इस चुनावी समर का हथियार नया है। खत्म करना था मगर विस्तार किया है। जिन्न आरक्षण का एक दिन जाएगा निगल, फिलहाल इसने सबपे जादू झार दिया है। अब लगा सवर्ण को भी तुष्ट होना चाहिए। न्याय की सद्भावना को पुष्ट होना चाहिए। घूम फिर कर हम वहीं आते हैं बार बार, सँख्यानुसार पदों को संतु
11 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
देखती हूँ तुझे तो मुझको ये अभिमान होता है सिमट के बाहों में तेरी कितना सम्मान होता है अपनी आँखों से तूने मुझपे जैसी प्रीत बरसाईवही पाने का बस मनमीत का अरमान होता हैदीवानापन ना हो दिल में तो संग कैसे रहे कोईमहल भी ऐसे लोगों का फ़कत वीरान
08 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
सुकूँ पाना ज़माने में कभी होता ना आंसा हैकमी जल की नहीँ है पर समुन्दर देख प्यासा हैराह मंज़िल की पाने को चला हूँ मैं तो मुद्दत सेमगर ना रोशनी बिखरी ना ही हटता कुहासा हैबड़ा मजबूत हूँ मैं तो दिखावा सबसे करता हूँ मेरे अशआर में पर हाल ए दिल का सब खुलासा हैगैर तो गैर थे पर चोटें तो अपनों ने दीं मुझकोमगर त
08 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
बू
कविता(मौलिक)बूढ़ा आदमीविजय कुमार तिवारीथक कर हार जाता है,बेबस हो जाता है,लाचारजबकि जबान चलती रहती है,मन भागता रहता है,कटु हो उठता है वह,और जब हर पकड़ ढ़ीली पड़ जाती है,कुछ न कर पाने पर तड़पता है बूढ़ा आदमी। कितना भयानक है बूढ़ा हो जाना,बूढ़ा होने के पहले,क्या तुमने देखा है कभी-तीस साल की उम्र को बूढ
06 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x