देश बचाना

13 जनवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (79 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

देश बचाना

विजय कुमार तिवारी


स्वीकार करुँ वह आमन्त्रण

और बसा लूँ किसी की मधुर छबि,

डोलता फिरुँ, गिरि-कानन,जन-जंगल,

रात-रातभर जागूँ,छेडूँ विरह-तान

रचूँ कुछ प्रेम-गीत,बसन्त के राग।

या अपनी तरुणाई करुँ समर्पित,

लगा दूँ देश-हित अपना सर्वस्व,

उठा लूँ लड़ने के औजार

चल पड़ूँ बचाने देश,बढ़ाने तिरंगें की शान।

कुछ लूट रहे हैं देश,कर रहे गद्दारी,

जनता के दुश्मन हैं,महा महा व्यभिचारी,

उठो साथियों,पहचानो इनकी माया,

अभी समय है, पहले इनका नाश करो

देश बचेगा तभी बचेगी आन हमारी

जाति-धर्म के कुचक्रों का बिनाश करो।


अगला लेख: स्नेह निर्झर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जनवरी 2019
कहते है कि.... गरीबों की बस्ती मे... भूक और प्यास बस्ती है... आँखों में नींद मगर आँखें सोने को तरसती है... गरीबों की बस्ती मे... बीमारी पलती है... बीमारी से कम यहा भूक से ज्यादा जान जलती है... गरीबों की बस्ती मे... लाचारी बस्ती है... पैसे की लेनदेन मे ही जिंदगी यहा कटती है... गरीबों की बस्ती मे... श
09 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
मुहब्बत खुद उमड़ती है कभी हम तुम जो मिलते हैंमहकते फूल देखो कितने फिर बगिया में खिलते हैं भले आवाज़ ना आए पर हम सब कुछ समझ लेंगेतेरे लब क्या बताने को इतने धीमे से हिलते हैंकठिन राहों पे उल्फ़त की सभी तो चल नहीं पाते डटे रहते हैं जो इन पे बदन उनके ही छिलते हैंये क्या दुनिया बन
08 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
कहानीबचपन की यादेंविजय कुमार तिवारीये बात तब की है जब हमारे लिए चाँद-सितारों का इतना ही मतलब था कि उन्हें देखकर हम खुश होते थे।अब धरती से जुड़ने का समय आ गया था और हम खेत-खलिहान जाने लगे थे।धीरे-धीरे समझने लगे थे कि हमारी दुनिया बँटी हुई है और खेत-बगीचे सब के बहुत से मालिक हैं।यह मेरा बगीचा है,मेरी
18 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
बू
कविता(मौलिक)बूढ़ा आदमीविजय कुमार तिवारीथक कर हार जाता है,बेबस हो जाता है,लाचारजबकि जबान चलती रहती है,मन भागता रहता है,कटु हो उठता है वह,और जब हर पकड़ ढ़ीली पड़ जाती है,कुछ न कर पाने पर तड़पता है बूढ़ा आदमी। कितना भयानक है बूढ़ा हो जाना,बूढ़ा होने के पहले,क्या तुमने देखा है कभी-तीस साल की उम्र को बूढ
06 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x