देश बचाना

13 जनवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (59 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

देश बचाना

विजय कुमार तिवारी


स्वीकार करुँ वह आमन्त्रण

और बसा लूँ किसी की मधुर छबि,

डोलता फिरुँ, गिरि-कानन,जन-जंगल,

रात-रातभर जागूँ,छेडूँ विरह-तान

रचूँ कुछ प्रेम-गीत,बसन्त के राग।

या अपनी तरुणाई करुँ समर्पित,

लगा दूँ देश-हित अपना सर्वस्व,

उठा लूँ लड़ने के औजार

चल पड़ूँ बचाने देश,बढ़ाने तिरंगें की शान।

कुछ लूट रहे हैं देश,कर रहे गद्दारी,

जनता के दुश्मन हैं,महा महा व्यभिचारी,

उठो साथियों,पहचानो इनकी माया,

अभी समय है, पहले इनका नाश करो

देश बचेगा तभी बचेगी आन हमारी

जाति-धर्म के कुचक्रों का बिनाश करो।


अगला लेख: स्नेह निर्झर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जनवरी 2019
मैं तो तेरी दीवानी हूँ तू भी मेरा दीवाना हैंहर हाल में हमको तो ये रिश्ता निभाना हैतलाशा उम्र भर जिसको उसे मैं छोड़ दूँ कैसेमुहब्बत से भरा ए मीत तू ऐसा खजाना हैसुकूँ मिलता है मेरी रूह को जो गुनगुनाने सेओ मेरे साथियां तू ही तो वो मीठा तराना हैमुझे एहसास है देखो नहीं अब दूर तू मुझसेतभी तो बन गया ये आलम
08 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Tr
14 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
अन्तर्यात्रा का रहस्यविजय कुमार तिवारीकर सको तो प्रेम करो।यही एक मार्ग है जिससे हमारा संसार भी सुव्यवस्थित होता है और परमार्थ भी।संसार के सारे झमेले रहेंगे।हमें स्वयं उससे निकलने का तरीका खोजना होगा।किसी का दिल हम भी दुखाये होंगे और कोई हमारा।हम तब उतना सावधान नहीं होते जब हम किसी के दुखी होने का का
22 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
कहानीबचपन की यादेंविजय कुमार तिवारीये बात तब की है जब हमारे लिए चाँद-सितारों का इतना ही मतलब था कि उन्हें देखकर हम खुश होते थे।अब धरती से जुड़ने का समय आ गया था और हम खेत-खलिहान जाने लगे थे।धीरे-धीरे समझने लगे थे कि हमारी दुनिया बँटी हुई है और खेत-बगीचे सब के बहुत से मालिक हैं।यह मेरा बगीचा है,मेरी
18 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x