विम्ब का ये प्यार

15 जनवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (53 बार पढ़ा जा चुका है)

गीत(09/05/1978)

विम्ब का ये प्यार

विजय कुमार तिवारी


कौन दूर से रहा निहार?

दिल ने कहा-खोलता हूँ द्वार,

विम्ब का ये प्यार।


पोखरी से फिसल चले हैं पाँव ये,

जिन्दगी की कैसी है ढलाँव ये।

आज हाथ केवल है हार,

दिल ने कहा-खोलता हूँ द्वार,

विम्ब का ये प्यार।


धड़कने सिसकाव का सहारा ले,

मिट रही बढ़त यहाँ किनारा ले।

अदायें आज कर रहीं चित्कार,

दिल ने कहा-खोलता हूँ द्वार,

विम्ब का ये प्यार।


गूँज नहीं, मात्र यहाँ क्रन्दन है,

दीप्ति नहीं, मरघट का नर्तन है।

बैठ यहाँ कर रहा गुहार,

दिल ने कहा-खोलता हूँ द्वार,

विम्ब का ये प्यार।


उदास राग-रागिनी यहाँ,

निराश रश्मि-यामिनी यहाँ।

सिर्फ सर्प-दंश बेशुमार,

दिल ने कहा-खोलता हूँ द्वार,

विम्ब का ये प्यार।


नियति-नटी के प्रेम का आह्वान,

सबने किया ईश्क की रुझान।

कौन सुने विजय की पुकार?

दिल ने कहा-खोलता हूँ द्वार,

विम्ब का ये प्यार।

अगला लेख: स्नेह निर्झर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जनवरी 2019
देखती हूँ तुझे तो मुझको ये अभिमान होता है सिमट के बाहों में तेरी कितना सम्मान होता है अपनी आँखों से तूने मुझपे जैसी प्रीत बरसाईवही पाने का बस मनमीत का अरमान होता हैदीवानापन ना हो दिल में तो संग कैसे रहे कोईमहल भी ऐसे लोगों का फ़कत वीरान
08 जनवरी 2019
03 जनवरी 2019
स्
कवितास्नेह निर्झरविजय कुमार तिवारीऔर ठहरें,चाहता हूँ, चाँदनी रात में,नदी की रेत पर।कसमसाकर उमड़ पड़ती है नदी,उमड़ता है गगन मेरे साथ-साथ। पूर्णिमा की रात का है शुभारम्भ,हवा शीतल,सुगन्धित।निकल आया चाँद नभ में,पसर रही है चाँदनी मेरे आसपास,सिमट रही है पहलू में।धूमिल छवि ले रही आकर,सहमी,संकुचित लिये वयभा
03 जनवरी 2019
29 जनवरी 2019
स्
कहानीस्त्री-पुरुषविजय कुमार तिवारीइसके पीछे कुछ कहानियाँ हैं जिन्हें महिलाओं ने लिखा है और खूब प्रसिद्धी बटोर रही हैं।कहानियाँ तो अपनी जगह हैं,परन्तु उनपर आयीं टिप्पणियाँ रोचक कम, दिल जलाने लगती हैं।लगता है-यह पुरुषों के प्रति अन्याय और विद्रोह है।रहना,पलना और जीना दोनो को साथ-साथ ही है।दोनो के भीतर
29 जनवरी 2019
11 जनवरी 2019
चु
इस चुनावी समर का हथियार नया है। खत्म करना था मगर विस्तार किया है। जिन्न आरक्षण का एक दिन जाएगा निगल, फिलहाल इसने सबपे जादू झार दिया है। अब लगा सवर्ण को भी तुष्ट होना चाहिए। न्याय की सद्भावना को पुष्ट होना चाहिए। घूम फिर कर हम वहीं आते हैं बार बार, सँख्यानुसार पदों को संतु
11 जनवरी 2019
28 जनवरी 2019
गु
व्यंग्यगुरु और चेलाविजय कुमार तिवारीबाबा गुरुचरन दास की झोपड़ी में सदा की तरह उजाला है जबकि सारा गाँव अंधकार में डूबा रहता है।पोखरी के बगल में पे़ड के पास उनकी झोपड़ी सदा राम-नाम की गूँज से गुंजित रहती है।बाबा ने कभी इच्छा नहीं की,नहीं तो वहाँ अब तक विशाल मन्दिर बन चुका ह
28 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x