सच रो रहा

18 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (62 बार पढ़ा जा चुका है)

सच रो रहा

शिक्षित प्रशिक्षित धरना और जेल मे।

नेता अभिनेता संसद और बुलट ट्रेन मे।

एमेड बीएड तले पकोड़ा खेतवा की मेड़ मे।

योगी संत महत्मा सेलफ़ी लेवे गंगा की धार मे।

बोले जो हक की बात वह भी जिला कारागार मे।

बोले जो झूठ मूठ वह बैठे सरकारी जैगुआर मे।

कर ज़ोर जबरदसती न्याय को खा जाएंगे।

की अगर हक की बात तो लाठी डंडा खा जाएंगे।

अनपढ़ लट्ठ गवार नेता दो लाख सेलरी पाएंगे।

पढ़-लिख, बन होशियार, दस हजार सेलरी पाएंगे।

अब सच रो रहा गली चौक, शहर के गलियारों मे।

वर्दी, काले कोटो से शिक्षित प्रशिक्षित घबरा रहा।

लेकर ऋण बैंको से किसान अब खेती से काप रहा।

चोर उच्चके माँ बहन-बेटियो की आबरू को नोच रहा।

अगला लेख: छोड़ेंगे न साथ।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 जनवरी 2019
पा
पानी...अब न खोदो कुआँ न गाड़ों हैंड पम्प, न लो नाम समरसेबल का।नदी, नहर, सागर हो रहे प्रदूषित न नाम लो तालाबो का।बहने दो पानी को पाईप लाइनों मे, न नाम लो टैंकरो का। छत मे रखी टंकियाँ हो रही हैं बदरंग, न नाम लो आरो का।दूध से महंगा बिक रहा हैं, बंद बोतलों मे बिसलेरी का पानी।सरकार प्लांट लगवाए यह कहकर कि
04 जनवरी 2019
03 जनवरी 2019
आशियाना नहीं धोखा हैं.डीडीए फ्लैट, यह नाम अपने आप मे बहुत बड़ा हैं दिल्ली शहर के लिए यह लाईन उस औरत केज़ुबान से सुना जिसने पहली बार सावदा घेवरा के फ्लैटों मे अपने कदमो को रखा थाजिसके पापा ने 1985 मे एक घर होने की चाहत को सजाया था। वह सफदर जंग कालोनी से आएथे उनके पास अपनी कार थी उसमे पाँच लोग सवार थे।
03 जनवरी 2019
28 जनवरी 2019
बचपन बनामबुढ़ापा। नर्म हथेलीमुलायम होठ, सिरमुलायम काया छोट।बिन मांगेहोत मुरादे पूर,ध्यान धरे माता गोदी भरे।पहन निरालेकपड़े पापा संग, गाँवघूम कर बाबा-दादी तंग।खेल कूद बड़ेभये, भाई बहनो केसंग। हस खेल जवानी, बीत गईं बीबी के संग। ये दिन जब, सब बीत गए जीवन के। अंखियन नीरबहे, एक आस की खातिर।कठोर हथेलीसूखे हो
28 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
सबने सुना हैं दुनियाँ का सबसे अमीर आदमी यह हैं यहाँ का हैं उसकी इतनी संपत्ति हैं।हा शरीर से कमजोर आदमी को मत बतान। उसमे एक अनोखी कला होती हैं।
18 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
कई राते ठंडी बढ़ रही थी पूरा घर रज़ाई मे लिपटा हुआ था घर, आँगन,चौपाल, बरोठ, रज़ाई मे बस सासों का चलनाव घुड़का ही सुनाई देता। नीले आसमान मे आधा चाँद अपनी सफ़ेद रोशनी के साथ घर के बाहरसे गुजरती सड़क को निहार रहा था। सड़क शांत थी दिन की तरह घोड़े के टापूओं की आवाजनहीं थी बैलो की चौरासी नहीं बज रहे थे। मोटर के
20 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
छोड़ेंगे न साथ।परछाई ही हैं जो स्वयम के वजूद को और मजबूत करती हैं। बाकी तो सभी साथ छोड़ देते हैं। परछाई हर वक्त साथ रहती हैं। दिन हो तो आगे-पीछे अगल-बगल और जैसे ही ज़िंदगी मे अंधेरा होता हैं वह खुद मे समा जाती हैं पर साथ नहीं छोडती हैं। कभी आपसे आगे निकलती हैं और तो और वह आपसे बड़ी और मोटी भी हो जाती है
13 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x