सच रो रहा

18 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

सच रो रहा

शिक्षित प्रशिक्षित धरना और जेल मे।

नेता अभिनेता संसद और बुलट ट्रेन मे।

एमेड बीएड तले पकोड़ा खेतवा की मेड़ मे।

योगी संत महत्मा सेलफ़ी लेवे गंगा की धार मे।

बोले जो हक की बात वह भी जिला कारागार मे।

बोले जो झूठ मूठ वह बैठे सरकारी जैगुआर मे।

कर ज़ोर जबरदसती न्याय को खा जाएंगे।

की अगर हक की बात तो लाठी डंडा खा जाएंगे।

अनपढ़ लट्ठ गवार नेता दो लाख सेलरी पाएंगे।

पढ़-लिख, बन होशियार, दस हजार सेलरी पाएंगे।

अब सच रो रहा गली चौक, शहर के गलियारों मे।

वर्दी, काले कोटो से शिक्षित प्रशिक्षित घबरा रहा।

लेकर ऋण बैंको से किसान अब खेती से काप रहा।

चोर उच्चके माँ बहन-बेटियो की आबरू को नोच रहा।

अगला लेख: छोड़ेंगे न साथ।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 जनवरी 2019
कई राते ठंडी बढ़ रही थी पूरा घर रज़ाई मे लिपटा हुआ था घर, आँगन,चौपाल, बरोठ, रज़ाई मे बस सासों का चलनाव घुड़का ही सुनाई देता। नीले आसमान मे आधा चाँद अपनी सफ़ेद रोशनी के साथ घर के बाहरसे गुजरती सड़क को निहार रहा था। सड़क शांत थी दिन की तरह घोड़े के टापूओं की आवाजनहीं थी बैलो की चौरासी नहीं बज रहे थे। मोटर के
20 जनवरी 2019
30 जनवरी 2019
PMAY योजना 25 June 2015 को शुरू की गई थीनिम्न और मध्यम आय वर्ग के लिए अनुदान वाले गृह लोनPMAY का लाभ उठाने के लिए 18 लाख रुपयों तक की वार्षिक आयPMAY के तहत होम लोन के लिए आवेदन करेंहाल के सर्वेक्षणों और सरकारी आंकड़ों से पता चला है कि ग
30 जनवरी 2019
31 जनवरी 2019
हम संत महात्मा - ब्रहम्म चारी की बात नहीं कर रहे हैं.हम बात गृहस्त जीवन की करते हैं .जिसे बहुत ही सुखमय जीवन कहा गया हैं .
31 जनवरी 2019
03 जनवरी 2019
आशियाना नहीं धोखा हैं.डीडीए फ्लैट, यह नाम अपने आप मे बहुत बड़ा हैं दिल्ली शहर के लिए यह लाईन उस औरत केज़ुबान से सुना जिसने पहली बार सावदा घेवरा के फ्लैटों मे अपने कदमो को रखा थाजिसके पापा ने 1985 मे एक घर होने की चाहत को सजाया था। वह सफदर जंग कालोनी से आएथे उनके पास अपनी कार थी उसमे पाँच लोग सवार थे।
03 जनवरी 2019
04 जनवरी 2019
पा
पानी...अब न खोदो कुआँ न गाड़ों हैंड पम्प, न लो नाम समरसेबल का।नदी, नहर, सागर हो रहे प्रदूषित न नाम लो तालाबो का।बहने दो पानी को पाईप लाइनों मे, न नाम लो टैंकरो का। छत मे रखी टंकियाँ हो रही हैं बदरंग, न नाम लो आरो का।दूध से महंगा बिक रहा हैं, बंद बोतलों मे बिसलेरी का पानी।सरकार प्लांट लगवाए यह कहकर कि
04 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
लौ
लौट चले दिल्ली शहर से रोजगार।अब सील ने हर हुनर वाले की जुबान बंद कर दी हैं। सील कंपनी मे नहीं हुनर वाले के पैरो मे बेड़ियाँ पड़ी हैं। इससे अच्छा तो तिहाड़ की जेल मे बंद करके सबके हुनर को कैद कर लेते। कम से कम अंग्रेज़ो वाले दिन तो याद आते। इन्होने तो उस लायक भी नहीं छोड़ा। मजदूर कल भी आजाद था आजा भी आजाद
20 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x