सच रो रहा

18 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (74 बार पढ़ा जा चुका है)

सच रो रहा

शिक्षित प्रशिक्षित धरना और जेल मे।

नेता अभिनेता संसद और बुलट ट्रेन मे।

एमेड बीएड तले पकोड़ा खेतवा की मेड़ मे।

योगी संत महत्मा सेलफ़ी लेवे गंगा की धार मे।

बोले जो हक की बात वह भी जिला कारागार मे।

बोले जो झूठ मूठ वह बैठे सरकारी जैगुआर मे।

कर ज़ोर जबरदसती न्याय को खा जाएंगे।

की अगर हक की बात तो लाठी डंडा खा जाएंगे।

अनपढ़ लट्ठ गवार नेता दो लाख सेलरी पाएंगे।

पढ़-लिख, बन होशियार, दस हजार सेलरी पाएंगे।

अब सच रो रहा गली चौक, शहर के गलियारों मे।

वर्दी, काले कोटो से शिक्षित प्रशिक्षित घबरा रहा।

लेकर ऋण बैंको से किसान अब खेती से काप रहा।

चोर उच्चके माँ बहन-बेटियो की आबरू को नोच रहा।

अगला लेख: छोड़ेंगे न साथ।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जनवरी 2019
फर्क सतयुग मे औरत यमराज से अपने पति को जीत लिया।त्रेता युग मे औरत पुरुष एक समान थे।अहिल्या बहाल हुई। पर अंत मे सीता हरी गई। द्वापर मे औरतों पर उंगली उठने लगी राधा ने प्यार किया, मीरा ने प्रेम किया। रुकमनी ने विवाह किया।अंत मे द्रोपदी का चीर हरन हुआ ।कलयुग मे सभी नारी-नारी चिल्ला रहे हैं, नारी को मज
08 जनवरी 2019
31 जनवरी 2019
हम संत महात्मा - ब्रहम्म चारी की बात नहीं कर रहे हैं.हम बात गृहस्त जीवन की करते हैं .जिसे बहुत ही सुखमय जीवन कहा गया हैं .
31 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
कई राते ठंडी बढ़ रही थी पूरा घर रज़ाई मे लिपटा हुआ था घर, आँगन,चौपाल, बरोठ, रज़ाई मे बस सासों का चलनाव घुड़का ही सुनाई देता। नीले आसमान मे आधा चाँद अपनी सफ़ेद रोशनी के साथ घर के बाहरसे गुजरती सड़क को निहार रहा था। सड़क शांत थी दिन की तरह घोड़े के टापूओं की आवाजनहीं थी बैलो की चौरासी नहीं बज रहे थे। मोटर के
20 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
पहले के दास आज के संत-योगी आज के संतो व योगी मे बहुत फर्क हैं। पहले का दास राजा के अधीन होकर अपनी रचनाओं से उन्हे सब कुछ बता देते थे। इनाम पाकर अपने आप को धन्य समझते थे। आज के योगी संत, राजा बनकर भी कुछ नहीं हासिल कर पाते। भगवान को, वह अपना आईना समझते हैं, और उसमे अपना बंदरो की तरह बार-बार चेहरा द
15 जनवरी 2019
04 जनवरी 2019
चु
चुनाव चिन्हजूता।लोकलाज सबत्याग, जूता निशानबनाया।झाड़ू से सफाईकर, बाद मे जूतादीना।पढ़ लिख करमति बौराई, कौन इन्हेसमझाए?लोक सभा चुनावसे पहले जूता निशान बनाए।हरि बैल,खेत-किसान, खत का निशान मिटाया।वीर सपूतोकी फाँसी वाली रस्सी को ठुकराया।उन वीरांगनाओको भूल गए जिसने खट्टे दाँत किये।दिल्ली कोबना के चमचम, पूरे
04 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
लौ
लौट चले दिल्ली शहर से रोजगार।अब सील ने हर हुनर वाले की जुबान बंद कर दी हैं। सील कंपनी मे नहीं हुनर वाले के पैरो मे बेड़ियाँ पड़ी हैं। इससे अच्छा तो तिहाड़ की जेल मे बंद करके सबके हुनर को कैद कर लेते। कम से कम अंग्रेज़ो वाले दिन तो याद आते। इन्होने तो उस लायक भी नहीं छोड़ा। मजदूर कल भी आजाद था आजा भी आजाद
20 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x