पर्दे भी डसने से लगते हैं।

24 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (90 बार पढ़ा जा चुका है)

पर्दे भी डसने से लगते हैं।

घर से निकली औरत, कोहरे मे काम के लिए।

खूब कसी ऊनी कपड़ो से, लटका बैग कंधो मे।

इधर कोई न, उधर कोई, लिए गीत अधरों मे।

देख अंधेरा चरो-ओर ले, कदमो को रफ्तार मे।

वह गलियारो मे, अपने पगचिन्हों को छोडती।

झोड़, नाली-नाले ककरीली पथरीली सड़को मे।

खेत, रेत,सब पार किया शमशान की मुडेरों से।

वह निकली कोहरे की घूँघट को चीर-फाड़ कर।

लिपटा कोहरे की चादर मे, अपना कौन पराया?

बुनती रही धागे तरह-तरह के, जब तक मंजिल मिली नहीं।

भर सांस, जहन और कोहरे मे,कही रुकी नहीं,कही डरी नहीं।

अगला लेख: एक नज़र इधर भी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 फरवरी 2019
न भूलो उनको।गैरों की तरह जब अपने देखने लगे।सच मे अपने और भी प्यारे लगने लगे।ता उम्र जिंदगी बिता दी हमने सबके लिए।सबने बस एक सलीका दिया, ज़िंदगी जीने के लिए।अब हाथो का हुनर, मशीने छीनने सी लगी।अब शोर कानो को, धुन सी लगने लगी।जिए हम भी थे, कभी शांती को जवानी की तरह।अब वह भी मुँह चुराने लगी, एक मोरनी की
07 फरवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x