बचपन बनाम बुढ़ापा।

28 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (49 बार पढ़ा जा चुका है)

बचपन बनाम बुढ़ापा।


नर्म हथेली मुलायम होठ, सिर मुलायम काया छोट।

बिन मांगे होत मुरादे पूर, ध्यान धरे माता गोदी भरे।

पहन निराले कपड़े पापा संग, गाँव घूम कर बाबा-दादी तंग।

खेल कूद बड़े भये, भाई बहनो के संग।

हस खेल जवानी, बीत गईं बीबी के संग।

ये दिन जब, सब बीत गए जीवन के।

अंखियन नीर बहे, एक आस की खातिर।

कठोर हथेली सूखे होठ, सिर बड़ा काया टूट।

बिन मांगे न होत मुरादे पूर, अब कौन ध्यान धरे गोदी भरे?

न पहन सके तन मे कपड़ा, जब हाथ हो गए तंग।

न घूमा सके बेटा-बेटी बहू, पोती-पोता जब पैर हो गए तंग।

आन-मान सब, छूट गईं बुढ़ापे की लड़ाई मे।

अगला लेख: एक नज़र इधर भी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जनवरी 2019
सच रो रहाशिक्षित प्रशिक्षितधरना और जेल मे।नेता अभिनेतासंसद और बुलट ट्रेन मे।एमेड बीएडतले पकोड़ा खेतवा की मेड़ मे।योगी संत महत्मासेलफ़ी लेवे गंगा की धार मे।बोले जो हककी बात वह भी जिला कारागार मे।बोले जो झूठमूठ वह बैठे सरकारी जैगुआर मे।कर ज़ोर जबरदसतीन्याय को खा जाएंगे।की अगर हककी बात तो लाठी डंडा खा जाएं
18 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
पहले के दास आज के संत-योगी आज के संतो व योगी मे बहुत फर्क हैं। पहले का दास राजा के अधीन होकर अपनी रचनाओं से उन्हे सब कुछ बता देते थे। इनाम पाकर अपने आप को धन्य समझते थे। आज के योगी संत, राजा बनकर भी कुछ नहीं हासिल कर पाते। भगवान को, वह अपना आईना समझते हैं, और उसमे अपना बंदरो की तरह बार-बार चेहरा द
15 जनवरी 2019
17 जनवरी 2019
बा
बात और थोड़े दिन की।चुरा लो और क्या चुराओगे?पूछेगीं नज़रे,तो क्या बताओगे?जुबान चुप होगी, होठ सिल जाएंगे।मयते कब्र मे दफ़न हो जाएंगी।अब वक्त शुरू हुआ हैं, विलय का।बैंक ही नहीं सबकुछ विलय हो जाएगा।चलता रहा यू ही कारवां, आने वाली पीढ़ियाँ भी विलय हो जाएंगी।खोजते रहना जाति, धर्म, जब इंसानियत ही विलय हो जाएग
17 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x