बचपन बनाम बुढ़ापा।

28 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (95 बार पढ़ा जा चुका है)

बचपन बनाम बुढ़ापा।


नर्म हथेली मुलायम होठ, सिर मुलायम काया छोट।

बिन मांगे होत मुरादे पूर, ध्यान धरे माता गोदी भरे।

पहन निराले कपड़े पापा संग, गाँव घूम कर बाबा-दादी तंग।

खेल कूद बड़े भये, भाई बहनो के संग।

हस खेल जवानी, बीत गईं बीबी के संग।

ये दिन जब, सब बीत गए जीवन के।

अंखियन नीर बहे, एक आस की खातिर।

कठोर हथेली सूखे होठ, सिर बड़ा काया टूट।

बिन मांगे न होत मुरादे पूर, अब कौन ध्यान धरे गोदी भरे?

न पहन सके तन मे कपड़ा, जब हाथ हो गए तंग।

न घूमा सके बेटा-बेटी बहू, पोती-पोता जब पैर हो गए तंग।

आन-मान सब, छूट गईं बुढ़ापे की लड़ाई मे।

अगला लेख: एक नज़र इधर भी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 फरवरी 2019
न भूलो उनको।गैरों की तरह जब अपने देखने लगे।सच मे अपने और भी प्यारे लगने लगे।ता उम्र जिंदगी बिता दी हमने सबके लिए।सबने बस एक सलीका दिया, ज़िंदगी जीने के लिए।अब हाथो का हुनर, मशीने छीनने सी लगी।अब शोर कानो को, धुन सी लगने लगी।जिए हम भी थे, कभी शांती को जवानी की तरह।अब वह भी मुँह चुराने लगी, एक मोरनी की
07 फरवरी 2019
31 जनवरी 2019
हम संत महात्मा - ब्रहम्म चारी की बात नहीं कर रहे हैं.हम बात गृहस्त जीवन की करते हैं .जिसे बहुत ही सुखमय जीवन कहा गया हैं .
31 जनवरी 2019
11 फरवरी 2019
बसंत पंचमी दिली अरमान थे माँ से मिलने के सो मिलने चले आए दरबार मे।माँ का प्रेम अजीब हैं वह अपने नजदीक बैठने के लिए लोरी सुनाती हैं।लोरी वह जो मन को शकुन देती हैं आंखो मे नींदियाँ ला देती हैं।आंखो मे अपने ममता का आँचल बिछा देती हैं, जिसकी छाया मे कौन बालक नहीं सोना नहीं चाहेगा? वह उसका पल भर का प्रेम
11 फरवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x