बचपन बनाम बुढ़ापा।

28 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (23 बार पढ़ा जा चुका है)

बचपन बनाम बुढ़ापा।


नर्म हथेली मुलायम होठ, सिर मुलायम काया छोट।

बिन मांगे होत मुरादे पूर, ध्यान धरे माता गोदी भरे।

पहन निराले कपड़े पापा संग, गाँव घूम कर बाबा-दादी तंग।

खेल कूद बड़े भये, भाई बहनो के संग।

हस खेल जवानी, बीत गईं बीबी के संग।

ये दिन जब, सब बीत गए जीवन के।

अंखियन नीर बहे, एक आस की खातिर।

कठोर हथेली सूखे होठ, सिर बड़ा काया टूट।

बिन मांगे न होत मुरादे पूर, अब कौन ध्यान धरे गोदी भरे?

न पहन सके तन मे कपड़ा, जब हाथ हो गए तंग।

न घूमा सके बेटा-बेटी बहू, पोती-पोता जब पैर हो गए तंग।

आन-मान सब, छूट गईं बुढ़ापे की लड़ाई मे।

अगला लेख: एक नज़र इधर भी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 फरवरी 2019
एक नज़र इधर भी आँख से नींद बनी,पेट से खेत बना,बच्चे से प्यार बना। जीवन साथी से जीना। क्या रखा हैं इस धनदौलत मे?ये तो हैं मानव के मन को गुमराह करने का बहाना।पूज लो माँ-बाप को जीससे बनी ये काया।क्यों फिरता हैं जग मे, बंदा तू मारा-मारा?दिल, दिमाग, मन चंचल, इससे सब कोई हारा।
06 फरवरी 2019
15 जनवरी 2019
पहले के दास आज के संत-योगी आज के संतो व योगी मे बहुत फर्क हैं। पहले का दास राजा के अधीन होकर अपनी रचनाओं से उन्हे सब कुछ बता देते थे। इनाम पाकर अपने आप को धन्य समझते थे। आज के योगी संत, राजा बनकर भी कुछ नहीं हासिल कर पाते। भगवान को, वह अपना आईना समझते हैं, और उसमे अपना बंदरो की तरह बार-बार चेहरा द
15 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
छोड़ेंगे न साथ।परछाई ही हैं जो स्वयम के वजूद को और मजबूत करती हैं। बाकी तो सभी साथ छोड़ देते हैं। परछाई हर वक्त साथ रहती हैं। दिन हो तो आगे-पीछे अगल-बगल और जैसे ही ज़िंदगी मे अंधेरा होता हैं वह खुद मे समा जाती हैं पर साथ नहीं छोडती हैं। कभी आपसे आगे निकलती हैं और तो और वह आपसे बड़ी और मोटी भी हो जाती है
13 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x