बचपन बनाम बुढ़ापा।

28 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (115 बार पढ़ा जा चुका है)

बचपन बनाम बुढ़ापा।


नर्म हथेली मुलायम होठ, सिर मुलायम काया छोट।

बिन मांगे होत मुरादे पूर, ध्यान धरे माता गोदी भरे।

पहन निराले कपड़े पापा संग, गाँव घूम कर बाबा-दादी तंग।

खेल कूद बड़े भये, भाई बहनो के संग।

हस खेल जवानी, बीत गईं बीबी के संग।

ये दिन जब, सब बीत गए जीवन के।

अंखियन नीर बहे, एक आस की खातिर।

कठोर हथेली सूखे होठ, सिर बड़ा काया टूट।

बिन मांगे न होत मुरादे पूर, अब कौन ध्यान धरे गोदी भरे?

न पहन सके तन मे कपड़ा, जब हाथ हो गए तंग।

न घूमा सके बेटा-बेटी बहू, पोती-पोता जब पैर हो गए तंग।

आन-मान सब, छूट गईं बुढ़ापे की लड़ाई मे।

अगला लेख: एक नज़र इधर भी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जनवरी 2019
छोड़ेंगे न साथ।परछाई ही हैं जो स्वयम के वजूद को और मजबूत करती हैं। बाकी तो सभी साथ छोड़ देते हैं। परछाई हर वक्त साथ रहती हैं। दिन हो तो आगे-पीछे अगल-बगल और जैसे ही ज़िंदगी मे अंधेरा होता हैं वह खुद मे समा जाती हैं पर साथ नहीं छोडती हैं। कभी आपसे आगे निकलती हैं और तो और वह आपसे बड़ी और मोटी भी हो जाती है
13 जनवरी 2019
08 फरवरी 2019
ओला बौछार काले घने बादल जब अपनी जवानी मे आते हैं आसमान मे।जमीन मे मोर पपीहा खूब इतराते हैं, नृत्य करते हैं आसमान को निहार कर, कल वह भी बौरा गए ओला वृष्टि को देख कर। कल शहरी लोग पहले खूब इतराए ओलो को देख कर फिर पछते सड़क मे जब निकले ऑफिस से कार पर। किसान खुश था पानी की धार को देखकर वह भी पछताया गेंहू
08 फरवरी 2019
20 जनवरी 2019
कई राते ठंडी बढ़ रही थी पूरा घर रज़ाई मे लिपटा हुआ था घर, आँगन,चौपाल, बरोठ, रज़ाई मे बस सासों का चलनाव घुड़का ही सुनाई देता। नीले आसमान मे आधा चाँद अपनी सफ़ेद रोशनी के साथ घर के बाहरसे गुजरती सड़क को निहार रहा था। सड़क शांत थी दिन की तरह घोड़े के टापूओं की आवाजनहीं थी बैलो की चौरासी नहीं बज रहे थे। मोटर के
20 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x