हिन्दी कविता- हिन्दी प्रसिद्ध कविताएं

31 जनवरी 2019   |  कमल मिश्रा   (42 बार पढ़ा जा चुका है)

हिन्दी कविता- हिन्दी प्रसिद्ध कविताएं  - शब्द (shabd.in)

हिन्दी साहित्य में कई ऐसे लेखक हुए हैं जिन्होंने वक़्त, जिंदगी , इश्क़ और न जाने कितनों विषयों को अपनी कलम से परिभाषित किया है। इन लेखकों की सोच प्रकाश गति से भी तेज है । आज हम ऐसे ही लेखकों की प्रसिद्ध कविताएं आपके लिए लाए हैं जिन्होंने न केवल अपनी ब्लकि आने वाली पीढ़ियों को नई परिभाषाएं और आयाम दिए हैं ।


हिन्दी कविता- हिन्दी प्रसिद्ध कविताएं


एक सोच अक्ल से फिसल गयी


मुझे याद थी कि बदल गयी


मेरी सोच थी की वो ख़्वाब था


मेरी ज़िंदगी का हिसाब था


मेरी ज़िंदगी के बरक्स थी


मेरी मुश्किलों का वो अक्स थी


मुझे याद हो तो वो सोच थी

जो ना याद हो तो गुमां था


मुझे बैठे बैठे गुमां हुआ


गुमां नहीं था ख़ुदा था वो


मेरी सोच नहीं थी ख़ुदा था वो


वो ख़ुदा की जिसने जुबां दी


मुझे दिल दिया मुझे जान दी


वो जुबां जिसे ना चला सके


वो दिल जिसे ना मना सके


वो जान जिसे ना लगा सके



कभी मिल तो तुझको बताएं हम


तुझे इस तरह से सताएं हम


तेरा इश्क़ तुझसे छीन कर


तुझे मए पिला कर रुलाए हम


तुझे दर्द दूं तू ना सह सके


तुझे दूं ज़ुबां तू ना कह सके


तुझे दूं मकां तू ना रह सके


तुझे मुश्किलों में घिरा के


मैं कोई ऐसा रास्ता निकाल दूं


तेरे दर्द की मैं दवा करूं


किसी गर्ज़ के मैं सिवा करूं


तुझे हर नज़र पे उबूर[1] दूं


तुझे ज़िन्दगी का शहूर[2] दूं


कभी मिल भी जायेंगे गम ना कर


हम गिर भी जायेंगे गम ना कर


तेरे एक होने पे शक नहीं


तेरी शान में भी कोई कमी नहीं


मेरी नीयत को तू साफ़ कर


मेरी इस कलम को माफ़ कर


शब्दार्थ:- 1. महत्तव 2.मशहूर


रचयिता:- यूसुफ बशीर कुरैशी

कराची, पाकिस्तान


Hindi Kavita on Life


2- औक़ात


एक दिन मैने पानी की एक बूँद से पूछा, तेरी औक़ात क्या है


उसने मुझे झरने से बोल,नदी से कहलवाया,


तू समुन्द्र जा के देख मेरी औक़ात जान जायेगा।


एक दिन मैने रेत के कण से पूछा, तेरी औक़ात क्या है?


उसने मुझे रेत के टीले से बोल,रेत की आंधियों से कहलवाया


तू रेगिस्तान जाकर देख मेरी औक़ात जान जायेगा ।


एक दिन मैने एक चीटीं से पूछा, तेरी औकात क्या है?


उसने मुझे बाजुएं दिखाकर, ताक़त से कहलवाया,


तू मुझे हाथी की सूंड में भेज के देख मेरी औक़ात जान जायेगा ।


एक दिन मैने जिंदगी से पूछा तेरी औक़ात क्या है ?


उसने ज़िंदगानी से एक ख़ूबसूरत लम्हा ले कर, कुछ अल्फ़ाज़ों में फ़रमाया


तू इन्हे जीकर देख मेरी औक़ात जान जायेगा ।


एक दिन मुझ से किसी ने पूछा तेरी औक़ात क्या है।


मैंने अपनी परछाई से बोल, अक्श से कहलवाया


तू मेरे इरादे जान ले मेरी औकात जान जायेगा ।


रचयिता:- कमल मिश्रा

रामपुर, उत्तर प्रदेश


Hindi Ki Kavita



3- उदास एक मुझी को तो कर नही जाता

वह मुझसे रुठ के अपने भी घर नही जाता

वह दिन गये कि मुहबबत थी जान की बाज़ी




किसी से अब कोई बिछडे तो मर नही जाता


तुमहारा प्यार तो सांसों मे सांस लेता है


जो होता नश्शा तो इक दिन उतर नही जाता


पुराने रिश्तों की बेग़रिज़यां न समझेगा


वह अपने ओहदे से जब तक उतर नही जाता


'वसीम' उसकी तड़प है, तो उसके पास चलो



कभी कुआं किसी प्यासे के घर नही जाता


रचयिता:- वसीम बरेलवी


4- जब गुज़रती है उस गली से सबा


ख़त के पुर्ज़े तलाश करती है

अपने माज़ी[1] की जुस्तुजू[2] में बहार

पीले पत्ते तलाश करती है

गुलज़ार

एक उम्मीद बार बार आ कर

अपने टुकड़े तलाश करती है

बूढ़ी पगडंडी शहर तक आ कर

अपने बेटे तलाश करती है

शब्दार्थ:- 1.अतीत 2. इच्छा

रचियता:- गुलज़ार

फिल्म निर्देशक, गीतकार, पटकथा लेखक, निर्माता, कवि, लेखक

5- वक़्त

ये वक़्त क्या है?

ये क्या है आख़िर

कि जो मुसलसल[1] गुज़र रहा है

ये जब न गुज़रा था, तब कहाँ था

कहीं तो होगा

गुज़र गया है तो अब कहाँ है

कहीं तो होगा

कहाँ से आया किधर गया है

ये कब से कब तक का सिलसिला है

ये वक़्त क्या है

ये वाक़ये [2]

हादसे[3]

तसादुम[4]

हर एक ग़म और हर इक मसर्रत[5]

हर इक अज़ीयत[6] हरेक लज़्ज़त[7]

हर इक तबस्सुम[8] हर एक आँसू

हरेक नग़मा हरेक ख़ुशबू

वो ज़ख़्म का दर्द हो

कि वो लम्स[9] का हो ज़ादू

ख़ुद अपनी आवाज हो

कि माहौल की सदाएँ[10]

ये ज़हन में बनती

और बिगड़ती हुई फ़िज़ाएँ[11]

वो फ़िक्र में आए ज़लज़ले [12] हों

कि दिल की हलचल

तमाम एहसास सारे जज़्बे

ये जैसे पत्ते हैं

बहते पानी की सतह पर जैसे तैरते हैं

अभी यहाँ हैं अभी वहाँ है

और अब हैं ओझल

दिखाई देता नहीं है लेकिन

ये कुछ तो है जो बह रहा है

जावेद अख्तर की नज़्म वक़्त

ये कैसा दरिया है

किन पहाड़ों से आ रहा है

ये किस समन्दर को जा रहा है

ये वक़्त क्या है

कभी-कभी मैं ये सोचता हूँ

कि चलती गाड़ी से पेड़ देखो

तो ऐसा लगता है दूसरी सम्त[13]जा रहे हैं

मगर हक़ीक़त में पेड़ अपनी जगह खड़े हैं

तो क्या ये मुमकिन है

सारी सदियाँ क़तार अंदर क़तार[14]

अपनी जगह खड़ी हों

ये वक़्त साकित[15] हो और हम हीं गुज़र रहे हों

इस एक लम्हें में सारे लम्हें

तमाम सदियाँ छुपी हुई हों

न कोई आइन्दा [16] न गुज़िश्ता [17]

जो हो चुका है वो हो रहा है

जो होने वाला है हो रहा है

मैं सोचता हूँ कि क्या ये मुमकिन है

सच ये हो कि सफ़र में हम हैं

गुज़रते हम हैं

जिसे समझते हैं हम गुज़रता है

वो थमा है

गुज़रता है या थमा हुआ है

इकाई है या बंटा हुआ है

है मुंज़मिद[18] या पिघल रहा है

किसे ख़बर है किसे पता है


ये वक़्त क्या है

रचयिता:- जावेद अख्तर

शब्दार्थ:-

1. लगातार 2. घटनाएँ 3. दुर्घटनाएँ 4. संघर्ष,टकराव 5.हर्ष, आनंद, ख़ुशी 6.तकलीफ़ 7.आनंद 8.मुस्कराहट 9.स्पर्श 10.आवाज़ें 11.वातावरण 12.भूचाल 13.दिशा, ओर 14.पंक्ति दर पंक्ति 15.ठहरा हुआ 16.भविष्य 17.भूतकाल 18.जमा हुआ

अगला लेख: 7 फरवरी से शुरू होगा वैलेंटाइन वीक, ये हैं इन्हें मानने की वजह



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 जनवरी 2019
बेंगलुरु. सिद्धगंगा मठ के प्रमुख श्रीश्री शिवकुमार स्वामीजी का सोमवार को निधन हो गया। उनकी उम्र 111 थी। सीएम कुमारस्वामी ने बताया कि स्वामीजी ने सुबह 11.44 बजे आखिरी सांस ली। मंगलवार की शाम चार बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाना है। सीएम ने बताया, स्वामीजी के निधन पर राज्य में 3 दिन का राजकीय शोक घोषि
21 जनवरी 2019
07 फरवरी 2019
Zindagi ki Thakanजब रूह किसी बोझ से थक जाती हैएहसास की लौ और भी बढ़ जाती हैमैं बढ़ता हूँ ज़िन्दगी की तरफ लेकिनज़ंजीर सी पाँव में छनक जाती हैJab rooh kisi boojh se thak jati hai Ehsaas ki lou aur bhi bad jati hai Main badta hun zindagi ki taraf lekin Zanzeer mi paun mein c
07 फरवरी 2019
17 जनवरी 2019
सारी रात मैं सुलगता रहा,वो मेरे साथ जलता रहामैं सुलग-सुलग के घुटता रहा,वो जल-जलके, ऐश-ट्रे मे गिरता रहा,गमों से तड़प के मैंहर बार सुलगता रहान जाने वो किस गममे हर बार जलता रहामैं अपनी सुलगन कोउसकी धुएँ मे उछालतारहा, वो हर बार अपनीजलन को ऐश-ट्रेमे डालता रहा,घंटों तलक ये सिलसि
17 जनवरी 2019
19 जनवरी 2019
ठिठुराती भीषण ठण्ड में जब प्रकृति नटी ने छिपा लिया हो स्वयं को चमकीली बर्फ की घनी चादर में छाई हो चारों ओर घरों की छत पर और आँगन में खामोशी के साथ “टप टप” बरसती धुँध नहीं दीख पड़ता कि चादर के उस पार दूसरा कौन है और फिर इसी द्विविधा को दूर करने धीरे धीरे मीठी मुस्कान के सूर्यदेव का ऊपरउठाना जो कर दे
19 जनवरी 2019
17 जनवरी 2019
चाँद भी वही तारे भी वही..!वही आसमाँ के नज़ारे हैं...!!बस नही तो वो "ज़िंदगी"..!जो "बचपन" मे जिया करते थे...!!वही सडकें वही गलियाँ..!वही मकान सारे हैं.......!!खेत वही खलिहान वही..!बागीचों के वही नज़ारे हैं...!!बस नही तो वो "ज़िंदगी"..!जो "बचपन" मे जिया करते थे...!!#मेरे_अल
17 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
है महका हुआ गुलाब खिला हुआ कंवल है,हर दिल मे है उमंगेहर लब पे ग़ज़ल है,ठंडी-शीतल बहे ब्यार मौसम गया बदल है,हर डाल ओढ़ा नई चादर हर कली गई मचल है,प्रकृति भी हर्षित हुआ जो हुआ बसंत का आगमन है,चूजों ने भरी उड़ान जो गये पर नये निकल है,है हर गाँव
18 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
आयुर्वेद विज्ञान में साफ और ताजे पानी को अमृत के समान माना गया है, साफ और ताजा पानी आपके मन, शरीर और त्वचा को सुन्दर और स्वस्थ बनाता है । आज हम आपको वो पांच तरीके बताएंगे जिससे आप अपने पानी की सेहत को और अधिक बढ़ा सकते हैं तुलसी तुलसी कसारा है, जिसका मतलब है कि यह खांसी और सर्दी का दोनों का इलाज करत
23 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
अगर हम किताबें पढ़ना शुरू करें तो पाएंगे कि इस दुनिया में जो कुछ भी नया हो रहा है वो नया नहीं है। तमाम नए विचारों को सदियों पहले से ही सोचा जा रहा है और उस पर काम भी किया जा रहा है।गौरतलब है कि हम अपने सभी विचारों को अपना मानते हैं और नया भी पाते हैं उसके बाद भी हम सा
21 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x