आतंक

04 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता(मौलिक)

आतंक

विजय कुमार तिवारी


चलो, मुझे उस मोड़ तक छोड़ दो,

सांझ होने को है,

अंधियारे जाया नहीं जायेगा।

न हो तो बीच वाले मन्दिर से लौट आना,

या उस मस्जिद से,जहाँ सड़क पार चर्च है।

अस्पताल तक तो पहुँचा ही देना

चला जाऊँगा उससे आगे।

ऐसा नहीं कि हिन्दुओं से डरता हूँ,

मुसलमानों से भी नहीं डरता,

सिखों या किसी से भी नहीं।

इन्हीं राहों पर चलते-चलते जवान हुआ हूँ,

बूढ़ापे तक का सफर यहीं हुआ है,

कभी डरा नहीं इतना,कभी रुका नहीं इस तरह।

चलो भाई,उस पेड़ तक ही चलो,

देखो कोई भी रोक सकता है मुझे,

पूछ सकता है-कौन हूँ मैं?

हिन्दू,सिख,मुसलमान,उँची या नीची जाति वाला।

देखो सारी खिड़कियाँ,दरवाजे बंद हैं,

हवा सहमी हुई है,भय है फूल-पत्तियों में,

रुक गया है पक्षियों का शोर,

जल्दी चलो भाई,खतरा यहाँ भी है।


अगला लेख: दछिन भारत की भौगोलिक यात्रा



रेणु
05 फरवरी 2019

यही आतंकवाद का विद्रूप चेहरा है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 फरवरी 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
15 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
बड़े नज़दीक जीवन में अगर कोई भी आता हैसामने वो अगर आए तो मन थोड़ा लजाता हैसांस जोरों से चलती है नज़र उठती नहीं ऊपरहाल कुछ और होता है ना जो चेहरा दिखाता हैआज वो दूर है मुझसे मैं भी मशगूल हूँ खुद में मगर गुजरे हुए पल तो ये मनवा ना भूलाता हैमेरी मजबूरियां समझो और इस सच को पहचानोविछोह तुझसे मुझे अब भी अके
04 फरवरी 2019
31 जनवरी 2019
स्
छोड़ दो जिद अपनी बन जाएगी बात अपनी मानता हु कि तुम स्त्री हठ कि धनी हो मगर पत्थर कि तो नहीं बनी हो ममता और वात्सल्य तुम्हारे गहने है इनको पहन के हि तो तुम
31 जनवरी 2019
07 फरवरी 2019
पु
पुरानी यादेंविजय कुमार तिवारी1983 में 4 सितम्बर को लिखा-डायरी मेरे हाथ में है और कुछ लिखने का मन हो रहा है। आज का दिन लगभग अच्छा ही गुजरा है।ऐसी बहुत सी बातें हैं जो मुझे खुश भी करना चाहती हैं और कुछ त्रस्त भी।जब भी हमारी सक्रियता कम होगी,हम चौकन्ना नहीं होंगे तो निश्चित मानिये-हमारी हानि होगी।जब हम
07 फरवरी 2019
22 जनवरी 2019
अन्तर्यात्रा का रहस्यविजय कुमार तिवारीकर सको तो प्रेम करो।यही एक मार्ग है जिससे हमारा संसार भी सुव्यवस्थित होता है और परमार्थ भी।संसार के सारे झमेले रहेंगे।हमें स्वयं उससे निकलने का तरीका खोजना होगा।किसी का दिल हम भी दुखाये होंगे और कोई हमारा।हम तब उतना सावधान नहीं होते जब हम किसी के दुखी होने का का
22 जनवरी 2019
13 फरवरी 2019
ज़ि
था मुकद्दर सामने पर भूल हम से हो गईज़िंदगी की राह भटके मुस्कुराहट खो गई झूठ का पहने लबादा साथ में वो आ गया मन में मेरे बात उसकी बस ज़हर सा बो गई रोशन करेंगे रास्ता सोचा जली मशाल सेइस शमा की रोशनी भी ज़िंदगी से लो गई साथ आएगा कोई तो कुछ नया होगा
13 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
मिलन की चाह की देखो फ़कत बातें वो करता हैकभी कोशिश करे ना कुछ पास आने से डरता हैकोई सच्ची मुहब्बत अब न उसके पास है देखो मुझे भी इल्म है इसका मैंने कितनों को बरता हैमन की बगिया के सारे फूल अब मुरझा गए मेरीना वो आँखों में आँखें डाल अब बाँहों में भरता है वार मौसम भी करता है दोष उसका नहीं केवलहवाएं गर्म
04 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x