आतंक

04 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (10 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता(मौलिक)

आतंक

विजय कुमार तिवारी


चलो, मुझे उस मोड़ तक छोड़ दो,

सांझ होने को है,

अंधियारे जाया नहीं जायेगा।

न हो तो बीच वाले मन्दिर से लौट आना,

या उस मस्जिद से,जहाँ सड़क पार चर्च है।

अस्पताल तक तो पहुँचा ही देना

चला जाऊँगा उससे आगे।

ऐसा नहीं कि हिन्दुओं से डरता हूँ,

मुसलमानों से भी नहीं डरता,

सिखों या किसी से भी नहीं।

इन्हीं राहों पर चलते-चलते जवान हुआ हूँ,

बूढ़ापे तक का सफर यहीं हुआ है,

कभी डरा नहीं इतना,कभी रुका नहीं इस तरह।

चलो भाई,उस पेड़ तक ही चलो,

देखो कोई भी रोक सकता है मुझे,

पूछ सकता है-कौन हूँ मैं?

हिन्दू,सिख,मुसलमान,उँची या नीची जाति वाला।

देखो सारी खिड़कियाँ,दरवाजे बंद हैं,

हवा सहमी हुई है,भय है फूल-पत्तियों में,

रुक गया है पक्षियों का शोर,

जल्दी चलो भाई,खतरा यहाँ भी है।


अगला लेख: बचपन की यादें



रेणु
05 फरवरी 2019

यही आतंकवाद का विद्रूप चेहरा है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 जनवरी 2019
स्
छोड़ दो जिद अपनी बन जाएगी बात अपनी मानता हु कि तुम स्त्री हठ कि धनी हो मगर पत्थर कि तो नहीं बनी हो ममता और वात्सल्य तुम्हारे गहने है इनको पहन के हि तो तुम
31 जनवरी 2019
13 फरवरी 2019
ज़ि
था मुकद्दर सामने पर भूल हम से हो गईज़िंदगी की राह भटके मुस्कुराहट खो गई झूठ का पहने लबादा साथ में वो आ गया मन में मेरे बात उसकी बस ज़हर सा बो गई रोशन करेंगे रास्ता सोचा जली मशाल सेइस शमा की रोशनी भी ज़िंदगी से लो गई साथ आएगा कोई तो कुछ नया होगा
13 फरवरी 2019
18 जनवरी 2019
सूर्योदयसमस्याएँजीवन का एक अभिन्न अंग जिनसेनहीं है कोई अछूता इस जगत में किन्तुसमस्याओं पर विजय प्राप्त करके जो बढ़ता है आगे नहींरोक सकती उसे फिर कोई बाधा हर सन्ध्याअस्त होता है सूर्य पुनःउदित होने को अगली भोर में जोदिलाता है विश्वास हमें किनहीं है जैसा मेरा उदय और अवसान स्थाई उसी प्रकारनहीं है कोई
18 जनवरी 2019
11 फरवरी 2019
तुम्हारी प्रीत के बिन तो बड़ा मुश्किल ये जीना हैमुझे तो ज़िन्दगी का जाम नज़र से तेरी पीना हैना मेरे मर्ज को समझा ना मेरे दर्द को समझाबड़ी बेरहमी से तुमको उन्होंने मुझसे छीना हैदिन भी लम्बे हुए हैं कुछ और तू पास ना आए मेरे किस काम का खिलता बसन्ती ये महीना हैमेरी उजड़ी सी दुनिया देख वो ही मुस्कुराएगापतंग
11 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
चु
चुनाव-2019विजय कुमार तिवारीहम वोट देने वाले हैं।वोट देना हमारा अधिकार है और कर्तव्य भी।यह बहुत संयम, धैर्य और विचार का विषय है।आज से पहले शायद कभी भी हमने इस तरह नहीं सोचा।चुनाव आयोग और हमारे संविधान ने इस विषय में बहुत से दिशा-निर्देश जारी किये हैं।हम सभी सामान्य वोटर को बहुत कुछ पता भी नहीं है।कई
10 फरवरी 2019
18 जनवरी 2019
कहानीबचपन की यादेंविजय कुमार तिवारीये बात तब की है जब हमारे लिए चाँद-सितारों का इतना ही मतलब था कि उन्हें देखकर हम खुश होते थे।अब धरती से जुड़ने का समय आ गया था और हम खेत-खलिहान जाने लगे थे।धीरे-धीरे समझने लगे थे कि हमारी दुनिया बँटी हुई है और खेत-बगीचे सब के बहुत से मालिक हैं।यह मेरा बगीचा है,मेरी
18 जनवरी 2019
06 फरवरी 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
06 फरवरी 2019
13 फरवरी 2019
पास हो तुम दिल के इतने कैसे मैं तुमको छोड़ दूँजिसमें हैं बस छवियां तेरी वो आईना क्यों तोड़ दूँअविरल धार स्नेह की जो बहती है जानिब तेरेइसका रुख क्यों गैरों के मैं कहने भर से मोड़ दूँ प्रेम का रिश्ता ये हरगिज़ ख़त्म हो ना पाएगातू कहे तो एक नाम देकर सम्बन्ध अपना जोड़ दूँहाथ कोई गर तुझे छूने की हिम्मत भ
13 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x