वीर सिपाही

16 फरवरी 2019   |  आयेशा मेहता   (52 बार पढ़ा जा चुका है)

वीर सिपाही  - शब्द (shabd.in)

हो वीरता का संचार तुम ,

इस मातृभूमि का लाल तुम ,

तुम गूंजते हो खुले आसमान में ,

तुम दहाड़ते हो युद्ध के मैदान में ,

कभी रुकते नहीं कदम तुम्हारे ,

थकते नहीं बदन तुम्हारे ,

हो क्रांति का एक मिशाल तुम ,

शेरनी माँ का शेर औलाद तुम ,

जो सर कटाए देश के खातिर ,

मातृभूमि ही जिसकी जान हो ,

सलाम है तुझको ऐ वीर सिपाही ,

तुम्ही इस देश के अभिमान हो ,

गोलियाँ खाकर भी फौलादी वक्ष पर ,

एक उफ़ न तेरे मुँह से निकलता ,

बारूद में दिन -रात खेलकर ,

तू मातृभूमि की रक्षा करता ,

ऐ मेरे देश के जावाज रक्षक ,

भारतवासी हमेशा तेरा कर्जदार रहेगा ,

सलाम करता आकाश तुझे ,

देश तुझपर गुमान करता ,

देखो हिमालय पहाड़ भी ,

तनकर तुझे सलाम करता ा

अगला लेख: शायरी



अलोक सिन्हा
05 मार्च 2019

अच्छी पंक्तियाँ हैं |

रेणु
02 मार्च 2019

वीर जवान की सुंदर अभ्यर्थना |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x