मुझसे ही मुझको ढूँढ़कर मुझसे मिला रहा है वो

17 फरवरी 2019   |  आयेशा मेहता   (77 बार पढ़ा जा चुका है)

मुझसे ही मुझको ढूँढ़कर मुझसे मिला रहा है वो

स्याही में कोई बेजुवान साया घुला है जैसे ,

एक मासूम चेहरा अक्षरों से तक रहा है मुझको ,

मेरे बंद मुट्ठी में तस्वीर जिसका भी हो ,

अपने नाम में मेरा नाम ढूँढ रहा है वो ा

इश्क का हमसफ़र कभी बदलता नहीं ,

धडकनों पर लिखा चेहरा कभी मिटता नहीं ,

जानता है फिर भी मेरा दर्द माँग रहा है वो ा

इश्क में बदनाम करके भी मुझको,एक बूंद इश्क दिए नहीं वो ,

वर्षों से जो मोहब्बत उनसे माँगती रही मैं ,

वही चाहत मुझपे लुटाने को तरस रहा है वो ा

हर घड़ी हर एक चेहरा में उनका चेहरा मैं ढूँढती रही ,

उनको पाने की तमन्ना में खुद को ही खो गए हम कही,

मुझसे ही मुझको ढूँढ़कर मुझसे मिला रहे हैं वो ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
13 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
02 मार्च 2019
दी
06 फरवरी 2019
13 फरवरी 2019
06 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
11 फरवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x