पहली मुलाक़ात

21 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (38 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

पहली मुलाकात

विजय कुमार तिवारी


यह हठ था

या जीवन का कोई विराट दर्शन,

या मुकुलित मन की चंचल हलचल?

रवि की सुनहरी किरणें जागी,

बहा मलय का मधुर मस्त सा झोंका,

हुई सुवासित डाली डाली,

जागी कोई मधुर कल्पना।

शशि लौट चुका था

निज चन्द्रिका-पंख समेटे।

उमग रहे थे भौरे फूलों कलियों में,

मधुर सुनहले आलिंगन की चाह संजोये,

तन की सुधि-बुधि खोये,सुन्दर राग पिरोये।

तू भी तो जैसे खिली-खिली सी,

सिमटी सी,भोली कोई छुईमुई सी।

संकुचित तन और मन तरंगित

जैसे कोई कली उमगी हो।

मन के कोने में भींगा पड़ा है

हमारी पहली मुलाकात पर

प्रकृति का वह श्रृंगार,हमारा प्यार।


अगला लेख: प्रश्न कीजिये



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 फरवरी 2019
तुम्हारी प्रीत के बिन तो बड़ा मुश्किल ये जीना हैमुझे तो ज़िन्दगी का जाम नज़र से तेरी पीना हैना मेरे मर्ज को समझा ना मेरे दर्द को समझाबड़ी बेरहमी से तुमको उन्होंने मुझसे छीना हैदिन भी लम्बे हुए हैं कुछ और तू पास ना आए मेरे किस काम का खिलता बसन्ती ये महीना हैमेरी उजड़ी सी दुनिया देख वो ही मुस्कुराएगापतंग
11 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
ना
जिसे तुम ज़िन्दगी में सबसे ज्यादा प्यार करते होझिझक को छोड़ कर पीछे उसे बाँहों में भरते होज़मीं का साथ पाकर ही शज़र पे रंग आता हैचुकाने को कर्ज थोड़ा फूल तुम उस पे झरते होतेरे सीने से लगने की तमन्ना दिल में रहती हैमेरी हर एक पीड़ा तुम बड़ी शिद्दत से हरते होमुझे उन राहों पे चलने से हरदम मान मिलता है
25 फरवरी 2019
23 फरवरी 2019
शा
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
23 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
चु
चुनाव-2019विजय कुमार तिवारीहम वोट देने वाले हैं।वोट देना हमारा अधिकार है और कर्तव्य भी।यह बहुत संयम, धैर्य और विचार का विषय है।आज से पहले शायद कभी भी हमने इस तरह नहीं सोचा।चुनाव आयोग और हमारे संविधान ने इस विषय में बहुत से दिशा-निर्देश जारी किये हैं।हम सभी सामान्य वोटर को बहुत कुछ पता भी नहीं है।कई
10 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
पु
पुरानी यादेंविजय कुमार तिवारी1983 में 4 सितम्बर को लिखा-डायरी मेरे हाथ में है और कुछ लिखने का मन हो रहा है। आज का दिन लगभग अच्छा ही गुजरा है।ऐसी बहुत सी बातें हैं जो मुझे खुश भी करना चाहती हैं और कुछ त्रस्त भी।जब भी हमारी सक्रियता कम होगी,हम चौकन्ना नहीं होंगे तो निश्चित मानिये-हमारी हानि होगी।जब हम
07 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x