पहली मुलाक़ात

21 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (34 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

पहली मुलाकात

विजय कुमार तिवारी


यह हठ था

या जीवन का कोई विराट दर्शन,

या मुकुलित मन की चंचल हलचल?

रवि की सुनहरी किरणें जागी,

बहा मलय का मधुर मस्त सा झोंका,

हुई सुवासित डाली डाली,

जागी कोई मधुर कल्पना।

शशि लौट चुका था

निज चन्द्रिका-पंख समेटे।

उमग रहे थे भौरे फूलों कलियों में,

मधुर सुनहले आलिंगन की चाह संजोये,

तन की सुधि-बुधि खोये,सुन्दर राग पिरोये।

तू भी तो जैसे खिली-खिली सी,

सिमटी सी,भोली कोई छुईमुई सी।

संकुचित तन और मन तरंगित

जैसे कोई कली उमगी हो।

मन के कोने में भींगा पड़ा है

हमारी पहली मुलाकात पर

प्रकृति का वह श्रृंगार,हमारा प्यार।


अगला लेख: प्रश्न कीजिये



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 फरवरी 2019
नज़रें चुरा ली आपने देख कर ना जाने क्योंमन में हम बसते हैं तेरे बात अब ये माने क्यों जानते थे जब ज़माना ख़ुदगर्ज होता है बहुत चल पड़े तेरी मुहब्बत फिर यहाँ हम पाने क्यों कुछ हश्र देखा है बुरा चाहत का इतना दोस्तोंसोचते हैं ये ह
13 फरवरी 2019
23 फरवरी 2019
शा
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
23 फरवरी 2019
05 मार्च 2019
प्
प्रश्न कीजिएविजय कुमार तिवारीबच्चा जैसे ही अपने आसपास को देखना शुरु करता है उसके मन में प्रश्न कुलबुलाने लगते हैं।वह जानना चाहता है,समझना चाहता है और पूछना चाहता है।जब तक बोलने नहीं सीख जाता,व्यक्त करने नहीं सीख जाता,उसके प्रश्न संकेतों में उभरते हैं।उसे यह धरती,यह आकाश,य
05 मार्च 2019
16 फरवरी 2019
पी
शहीदों की चिताओं पर उठी पीड़ा के लहरें हैं मगर सोचो ज़रा हम ही तो असली अंधे बहरे हैसोचते रहते हैं एक दिन शेर भी घास खाएगाजेहादी बुद्ध बन सबके दिलों के पास आएगाअरे कश्मीर में गर तुमने बाकी देश ना भेजाकभी भूभाग तुमसे जाएगा न ये फिर तो सहेजाकत्ल तुम लाखों द्रोहियों का यूँ ही कर नहीं सकतेये अलगाव के नारे
16 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
मे
मुझे तू प्यार करता है तो मैं सिमटी सी जाती हूँखुशी से झूम उठती हूँ लाज संग मुस्कुराती हूँमेरे मन में उमंगों का बड़ा सा ज्वार उठता हैमगर मैं हाले दिल तुमको नहीं खुलकर बताती हूँमेरे हर क़तरे क़तरे में तेरी छवियां समाई हैमगर न जाने क्यों मैं प्यार अपना न जताती हूँनज़र लग जाए न अपनी मुहब्बत को कभी जग की
25 फरवरी 2019
13 फरवरी 2019
पास हो तुम दिल के इतने कैसे मैं तुमको छोड़ दूँजिसमें हैं बस छवियां तेरी वो आईना क्यों तोड़ दूँअविरल धार स्नेह की जो बहती है जानिब तेरेइसका रुख क्यों गैरों के मैं कहने भर से मोड़ दूँ प्रेम का रिश्ता ये हरगिज़ ख़त्म हो ना पाएगातू कहे तो एक नाम देकर सम्बन्ध अपना जोड़ दूँहाथ कोई गर तुझे छूने की हिम्मत भ
13 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x