पहली मुलाक़ात

21 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (25 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

पहली मुलाकात

विजय कुमार तिवारी


यह हठ था

या जीवन का कोई विराट दर्शन,

या मुकुलित मन की चंचल हलचल?

रवि की सुनहरी किरणें जागी,

बहा मलय का मधुर मस्त सा झोंका,

हुई सुवासित डाली डाली,

जागी कोई मधुर कल्पना।

शशि लौट चुका था

निज चन्द्रिका-पंख समेटे।

उमग रहे थे भौरे फूलों कलियों में,

मधुर सुनहले आलिंगन की चाह संजोये,

तन की सुधि-बुधि खोये,सुन्दर राग पिरोये।

तू भी तो जैसे खिली-खिली सी,

सिमटी सी,भोली कोई छुईमुई सी।

संकुचित तन और मन तरंगित

जैसे कोई कली उमगी हो।

मन के कोने में भींगा पड़ा है

हमारी पहली मुलाकात पर

प्रकृति का वह श्रृंगार,हमारा प्यार।


अगला लेख: प्रश्न कीजिये



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 फरवरी 2019
पास हो तुम दिल के इतने कैसे मैं तुमको छोड़ दूँजिसमें हैं बस छवियां तेरी वो आईना क्यों तोड़ दूँअविरल धार स्नेह की जो बहती है जानिब तेरेइसका रुख क्यों गैरों के मैं कहने भर से मोड़ दूँ प्रेम का रिश्ता ये हरगिज़ ख़त्म हो ना पाएगातू कहे तो एक नाम देकर सम्बन्ध अपना जोड़ दूँहाथ कोई गर तुझे छूने की हिम्मत भ
13 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
ला
मिलन की आरजू पे डर ज़माने का जो भारी हैतेरी मेरी मुहब्बत में अजब सी कुछ लाचारी हैदोस्तों दोस्ती मुझको तो बस टुकडों में मिल पाईबड़ी तन्हा सी मैंने ज़िन्दगी अब तक गुज़ारी हैभले तुम अजनबी से अब तो मुझसे पेश आते होतेरी सूरत ही मैंने देख ले दिल में उतारी हैभुलाना भी तुम्हें अब तो कभी आसां नहीं लगता मेरे
25 फरवरी 2019
23 फरवरी 2019
शा
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
23 फरवरी 2019
28 फरवरी 2019
प्
प्यार ही डंसने लगाविजय कुमार तिवारीतुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?हो गये अपने पराये,आईना छलने लगा। तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?हर हवा तूफान सी,झकझोर देती जिन्दगी,धुंध में खोया रहा,पतवार भी डुबने लगा। तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?चाँद तारे छुप गये हैं,दर्द के शैलाब में,ढल गया दिल का उजाला,
28 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
15 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
पु
पुरानी यादेंविजय कुमार तिवारी1983 में 4 सितम्बर को लिखा-डायरी मेरे हाथ में है और कुछ लिखने का मन हो रहा है। आज का दिन लगभग अच्छा ही गुजरा है।ऐसी बहुत सी बातें हैं जो मुझे खुश भी करना चाहती हैं और कुछ त्रस्त भी।जब भी हमारी सक्रियता कम होगी,हम चौकन्ना नहीं होंगे तो निश्चित मानिये-हमारी हानि होगी।जब हम
07 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
13 फरवरी 2019
13 फरवरी 2019
चु
10 फरवरी 2019
ना
25 फरवरी 2019
11 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x